ठीक ढंग से काम कर रहा है चंद्रयान

बैंगलुरु (भाषा)| भाषा| पुनः संशोधित बुधवार, 29 जुलाई 2009 (20:21 IST)
का अध्ययन कर रहा भारत का अंतरिक्षयान ‘चंद्रयान’ सही काम कर रहा है। अभियान की समीक्षा बैठक अगले माह होगी। यान के सेंसरों में से एक में हाल में तकनीकी गड़बड़ी आ गई थी।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष माधवन नायर ने ‘इंटीग्रेटेड जीआईएस एंड इमेज प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर’ की शुरुआत के अवसर पर आयोजित समारोह के दौरान बुधवार को बताया कि ठीक ढंग से काम कर रहा है। सॉफ्टवेयर को इसरो के साथ मिलकर स्कैनप्वाइंट ने विकसित किया।
इसरो अध्यक्ष ने कहा कि ‘चंद्रयान’ की समीक्षा बैठक अगले माह होगी। चंद्रयान को अंतरिक्ष की कक्षा में दो साल के निर्धारित समय के लिए स्थापित किया गया था, लेकिन उसके स्टार सेंसरों में से एक में तकनीकी गड़बड़ी आ गई है।

अमेरिका और भारत के बीच इस माह प्रौद्यागिकी सुरक्षा मानक समझौते के लाभ के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा अमेरिका के साथ अंतरिक्ष सहयोग सरकार के एजेंडे में रहा है।
समझौते से अमेरिकी उपग्रहों अथवा अमेरिकी उपकरण लगे विदेशी उपग्रहों को भारत से प्रक्षेपित करने में मदद मिलेगी। नायर ने कहा उपग्रहों को भारत लाने और उन्हें प्रक्षेपित करने के हमारे पास अधिक अवसर होंगे। पहले हमें मामला दर मामला अमेरिकी सरकार से मंजूरी लेना होती थी, लेकिन अब हम उपयोगकर्ता से सीधे करार कर सकेंगे।



और भी पढ़ें :