सभी मंत्री सोशल नेटवर्किंग अकाउंट खोलें : नरेन्द्र मोदी

नई दिल्ली| भाषा|
FILE
नई दिल्ली। सोशल मीडिया का जमकर प्रयोग करने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मंत्रियों को निर्देश दिया है कि वे जनता को अपने कार्यों की जानकारी देने और उनकी शिकायतों को जानने के लिए टि्वटर, फेसबुक जैसे के अकाउंट खोलें।
सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने यह जानकारी देते हुए बताया कि उनका मंत्रालय ऐसे मंत्रियों के लिए टि्वटर और फेसबुक अकाउंट खोलने में मदद करेगा, जो सोशल नेटवर्किंग में बहुत अभ्‍यस्त नहीं हैं। उन्होंने बताया कि इसके लिए उनके मंत्रालय ने 'सोशल मीडिया कम्युनिकेशन हब' बनाया है।

उन्होंने कहा कि जो भी मंत्री चाहेंगे उनके लिए यह हब सोशल नेटवर्किंग साइट के अकाउंट खोलेगा और उनके संचालन में भी मदद करेगा। उनके अनुसार मंत्री चाहें तो ये हब उनके व्यक्तिगत और उनके मंत्रालय दोनों के लिए खोलेगा।
जावड़ेकर ने संसदीय कार्य राज्यमंत्री का आज औपचारिक रूप से कार्यभार संभालने के अवसर पर यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि टि्वटर और फेसबुक सहित सोशल नेटवर्किंग की साइटों पर अत्यंत सक्रिय मोदी ने अपने सभी मंत्रियों को भी सोशल नेटवर्किंग पर सक्रिय होने की हिदायत दी है।

मोदी ने मंत्रियों से कहा है कि वे ये अकाउंट खोलकर प्रतिदिन अपने कार्यों के बारे में जनता को जानकारी दें और इन अकाउंटों के माध्यम से जनता की शिकायतों और आलोचनाओं को भी सुनें।
सूचना एवं प्रसारण मंत्री के अनुसार मोदी चाहते हैं कि सोशल मीडिया के जरिए उनके मंत्री जनता तक सीधी पहुंच बनाएं और जनता की भावना को सरकार तक वापस पहुंचाने का माध्यम बनें।

जावड़ेकर ने बताया कि उन्होंने सभी मंत्रियों को पत्र लिखकर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा सोशल नेटवर्किंग अकाउंट खोलने में उनकी मदद के लिए सोशल मीडिया कम्युनिकेशन हब खोलने की जानकारी दे दी है। जो भी मंत्री इसके जरिए अपने व्यक्तिगत या मंत्रालय के टि्वटर और फेसबुक अकाउंट खुलवाना चाहते हैं, वे मंत्रालय के संयुक्त सचिव से संपर्क करके ऐसा कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय चौबीसों घंटे इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रसारण पर भी अश्लील अथवा आपत्तिजनक सामग्री पर निगरानी रखने के लिए नजर रखता है। उन्होंने हालांकि इस बात से इंकार किया कि ऐसा करके वे मीडिया पर नियंत्रण करने का प्रयास कर रहा है।

उन्होंने दावा किया कि प्रेस की आजादी के प्रति उनकी सरकार की प्रतिबद्धतता जगजाहिर है। उनके अनुसार यह निगरानी प्रसारित हो रहे कार्यक्रमों का फीडबैक पाने और उसमें सुधार लाने का प्रयास भर है। (भाषा)



और भी पढ़ें :