आजाद की अपने अधिकारियों को नसीहत

नई दिल्ली| भाषा|
FILE
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने आज (एमसीआई) के कामकाज को देखने के लिए से आग्रह किया कि वे कोई भी फैसला निर्भय होकर और पूरी पारदर्शिता और निष्पक्षता के साथ लें।


आजाद ने कहा कि उन्होंने अपने मंत्रालय के सभी अधिकारियों को विशेष हिदायत दी है कि कोई भी अधिकारी भारतीय चिकित्सा परिषद के लिए नव गठित संचालन मंडल के कार्यों में किसी भी प्रकार का हस्तक्षेप नहीं करे।

आजाद ने संचालक मंडल के अध्यक्ष प्रो. शिव कुमार सरीन को इसी सप्ताह लिखे एक पत्र में कहा है कि उनको इस बात की पूरी उम्मीद है कि संचालन मंडल कोई भी फैसला बिना किसी भय, पारदर्शिता और भ्रष्टाचार से मुक्त होकर करेगा।
उन्होंने आश्वासन दिया कि आवश्यकता पड़ने पर मंत्रालय संचालक मंडल को हर प्रकार की सहायता उपलब्ध कराएगा।

आजाद ने पत्र में कहा है कि चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र में बड़ी संख्या में दलाल है, समय समय पर जिनका इस्तेमाल कुछ खास संस्थान के प्रबंधन गैर कानूनी तरीके से अपने कॉलेज को मान्यता दिलाने के लिए करते आए हैं।
इतना ही नहीं ये दलाल सरकार और एमसीआई के सदस्यों और कार्यालय के अधिकारियों के नाम पर इच्छुक संस्थानों से पैसा वसूलते हैं जिसके कारण सरकार और एमसीआई की छवि खराब होती है।

आजाद ने कहा कि वह चाहते हैं कि वह (सरीन) संचालक मंडल के सभी सदस्यों को आगाह कर दें कि वे हमेशा कोई भी कदम उठाते समय सावधान और सतर्क रहें।(भाषा)



और भी पढ़ें :