कांग्रेस के कारण गिरी मस्जिद-मुलायमसिंह

लखनऊ से अरविन्द शुक्ला| WD|
से दोस्ती को लेकर लगातार आलोचना सह रही सपा अब आक्रामक मुद्रा में आ गई है। उसने न केवल पूरे प्रकरण से को दूर रहने की नसीहत दी, बल्कि विवाद की वजह बने बाबरी विध्वंस के लिए भी उसे ही जिम्मेदार ठहराया है।


सपा अध्यक्ष ने रविवार को यहाँ कहा कि यह उनका अंदरूनी मसला है। कांग्रेस का इससे कोई लेना-देना नहीं है, बल्कि बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में कांग्रेस स्वयं दोषी है। कांग्रेस यदि अयोध्या का ताला न खुलवाती और शिलान्यास न करती तो मस्जिद नहीं गिरती।
उन्होंने कहा कांग्रेस को कल्याण का विरोध करने का कोई हक नहीं और न ही इस मुद्दे पर नैतिक बहस करने का कोई अधिकार है। उन्होंने कहा उन्हें पता चला है कि कांग्रेस के लोग कल्याण के मामले में विरोध कर रहे हैं और इसे वे मुद्दा बनाने वाले हैं।


यादव ने कहा जब मस्जिद गिराई गई, केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी। उन्होंने यूपीए सरकार को समर्थन देकर बचाया था और वे आज भी इस सरकार को समर्थन दे रहे हैं किन्तु कांग्रेस इस मामले से दूर रहे।

सपा सांसद कीर्तिवर्धनसिंह बसपा में शामिल : गोंडा से समाजवादी पार्टी के सांसद कीर्तिवर्धनसिंह अपने पिता आनंद वर्धनसिंह के साथ बहुजन समाज पार्टी में शामिल हो गए हैं।

दोनों नेताओं ने बसपा अध्यक्ष तथा उप्र की मुख्यमंत्री मायावती से भेंट कर बसपा में अपना विश्वास जताया था। मायावती ने सिंह को आगामी लोकसभा चुनाव के लिए उन्हें गोंडा संसदीय क्षेत्र से बसपा प्रत्याशी घोषित किया है।
सिंह ने कहा सपा में उनका दम घुटने लगा था, क्योंकि सपा का समाजवाद से कोई लेना-देना नहीं रह गया है तथा यह पार्टी अब केवल पूँजीपतियों के हाथों का खिलौना बनकर रह गई है।

उन्होंने कहा सपा ने रही-सही कसर बाबरी मस्जिद ढहाने के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार कल्याणसिंह का दामन थामकर पूरी कर दी है।
उल्लेखनीय है कीर्तिवर्धनसिंह को समाजवादी पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव के लिए गोंडा से अपना उम्मीदवार घोषित कर चुकी थी। वे 1998 में पहली बार इस सीट से लोकसभा पहुँचे थे। सन 2004 में पुनः समाजवादी पार्टी के टिकट पर सांसद चुने गए थे। उनके पिता आनन्द वर्धनसिंह 1971 से 1991 तक कांग्रेस के सांसद रह चुके हैं।



और भी पढ़ें :