विवाह नहीं होने से दुखी राहुल

नई दिल्ली| भाषा|
एक ओर जहां उत्तर प्रदेश में महासचिव राहुल गांधी भाजपा पर तीखे प्रहार कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ भाजपा को लग रहा है कि राहुल गांधी विवाह नहीं होने से दुखी हैं। लोगों के हवाले से भाजपा का यह भी दावा है कि कांग्रेस के एक महामंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी में मतभेद पैदा करवा दिए हैं।

राहुल का यह प्रसंग भाजपा के मुखपत्र में उछाला गया है। पार्टी मुखपत्र के जनवरी अंक में कांग्रेस और राहुल के नेतृत्व को लेकर तीखे कटाक्ष किए गए हैं।

मुखपत्र के संपादकीय में राहुल पर निजी कटाक्ष किया गया है। उसके मुताबिक यह कितना बड़ा मजाक है कि उप्र में कांग्रेस के पास एक भी विश्वसनीय नेता नहीं है। फिर क्या करेंगे राहुल गांधी? क्या किया है उन्होंने उप्र के लिए?
भारतीय राजनीति जब राहुल गांधी से सवाल करती है कि आपने राष्ट्र की राजनीति के लिए क्या किया तो उत्तर शून्य ही आता है। देश को समाधान चाहिए समस्या नहीं। हो सकता है कांग्रेस के लिए राहुल गांधी समाधान हों, पर देश ने तो उनको एक बहुत बड़ी समस्या ही मान लिया है।

प्रभात झा हैं संपादक : भाजपा के मुखपत्र कमल संदेश के संपादक राज्यसभा सांसद और मध्य प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष प्रभात झा हैं। संपादकीय में लिखा गया है कि उप्र में राहुल गांधी का करिश्मा दिख नहीं रहा। वे जब भी उप्र जाते हैं तो कहते हैं देश में युवाओं को आगे आना चाहिए। इसका साफ मतलब है कि राहुल गांधी का संदेश है कि जो बुजुर्ग हैं वे राजनीति से मुक्त हो जाएं यानी मनमोहन सिंह। (नईदुनिया)



और भी पढ़ें :