अभिनेता दिलीप कुमार आईसीयू में, हालत स्थिर

भाषा|
FILE
मुंबई। बॉलीवुड में ट्रेजडी किंग से मशहूर बीते जमाने के दिग्गज को रविवार रात मुंबई के में भर्ती कराया गया है। 90 बसंत देख चुके अभिनेता को बुखार बताया जा रहा है। परिवार वालों ने कहा है कि उनकी हालत स्थिर है।

एक करीबी ने बताया कि उन्होंने बेचैनी की शिकायत की थी। सहयोगी ने बताया कि अब वे 'भले चंगे' हैं। दिलीप कुमार को करीब 8:30 बजे अस्पताल पहुंचाया गया।

सूत्रों ने बताया कि वरिष्ठ अभिनेता को सांस लेने में तकलीफ के बाद आज रात करीब नौ बजे उपनगरीय क्षेत्र बांद्रा के लीलावती अस्पताल लाया गया। अस्पताल के एक चिकित्सक ने कहा, 'वह हृदयरोग विशेषज्ञ की निगरानी में है। चिंता की कोई बात नहीं है। उन्हें केवल निगरानी के मकसद से आईसीयू में रखा गया है।'
दिलीप कुमार की जीवनी लिखने वाली और उनकी पारिवारिक मित्र उदय तारा ने कहा, 'चिंतित होने की जरूरत नहीं है।'

उन्होंने अस्पताल के बाहर संवाददाताओं से कहा, 'उनकी हालत स्थिर है। उन्हें हल्का बुखार था और वह थोड़ा असहज महसूस कर रहे थे। परिवार और चिकित्सकों ने उन्हें सुरक्षा के लिए अस्तपाल की निगरानी में रखने का निर्णय लिया है।'
दिलीप कुमार को दिल का दौरा पड़ने की रिपोर्ट के बारे में पूछे जाने पर उदय तारा ने कहा, 'ऐसा कुछ भी नहीं है और वह होश में हैं और अब खाना भी खा रहे हैं।' इस समय दिलीप की पत्नी सायरा बानो समेत उनका पूरा परिवार उनके साथ है।

इस बीच, सायरा बानो अस्पताल के बाहर आई और अपने पति के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा, "उनकी स्थिति स्थिर है और हम उनकी तंदुरुस्ती की दुआ कर रहे हैं। इस माह की 13 तारीख को उन्हें एक दिन के लिए वायरल बुखार आया था और आज उन्हें कुछ बेचैनी महसूस हुई। हमने उन्हें अस्पताल लाने का फैसला किया और वह अभी होश में हैं। उनकी 14 साल पहले ओपन हार्ट सर्जरी हुई थी।"
अभिनेता के प्रबंधक ने बताया, 'आज शाम उन्होंने बेचैनी का अनुभव किया इसलिए हम उन्हें लीलावती अस्पताल लेकर गए। अब उनकी नियमित जांच की जा रही है। हम सोमवार तक ही कुछ बता पाने की स्थिति में होंगे, लेकिन वे बेहतर हैं।'

दिलीप कुमार ने अपने फिल्मी करियर में देवदास, राम और श्याम, यहूदी, आदमी, मुगल-ए-आजम, मधुमति, गंगा यमुना , नया दौर आदि कई बेहतरीन फिल्मों से अपनी अभिनय क्षमता से दर्शकों के दिलों में अपनी अमिट छाप अंकित की।
दिलीप कुमार को 1991 में पद्म भूषण और 1994 में 'दादा साहब फाल्के' सम्मान प्रदान किया गया जबकि 1998 में पाकिस्तान के सर्वोच्च सम्मान 'निशान ए इम्तियाज' से नवाजा गया। उन्हें 8 बार फिल्म फेयर के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। वह वर्ष 2000 से 2006 तक राज्यसभा के सदस्य रह चुके हैं। जब दिलीप कुमार अपने अभिनय के शिखर पर थे, तब उन्होंने अपने से आधी उम्र की सायरा बानों से निकाह किया था।
आज सुबह लीलावती अस्पताल गए महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक विकास मंत्री नसीम खान ने प्रेस ट्रस्ट से कहा कि अभिनेता की हालत स्थितर है।

उन्होंने कहा कि मैं दिलीप साहब की पत्नी सायरा बानो से मिला, जिन्होंने मुझे बताया कि वह दो दिनों तक निगरानी में रहेगे। मुम्बई उपनगरीय इलाके के प्रभारी खान ने कहा कि मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने भी सायरा बानो से बातचीत की है और बीमार अभिनेता का हालचाल जाना। (वेबदुनिया)



और भी पढ़ें :