गुरु भी चाहते हैं अच्छे शिष्य

संपादक की चिट्‍ठी

ND|
ND
ND
हम जानते हैं कि शिक्षक दिवस के दिन नन्हे पाठक अपने-अपने टीचर के लिए फूल और आकर्षक गिफ्‍ट लेकर स्कूल जाएँगे। यह बहुत अच्छी बात है। टीचर्स हमें पूरे सालभर बहुत प्यारी-प्यारी बातें बताते हैं तो एक दिन बच्चों को भी उनके लिए प्यारा सा काम करना चाहिए। पर सिर्फ एक ही दिन क्यों? क्या आपने सोचा है कि टीचर्स आपसे क्या उम्मीद रखते हैं। आप उन्हें टीचर्स-डे पर गुलाब दें या न दें पर अगर क्लास में अच्छा रिजल्ट लाते हैं तो सबसे ज्यादा खुशी उन्हें ही होती है।

वे हमेशा चाहते हैं कि आप खूब तरक्की करें, आगे बढ़ें और अच्छा इंसान बनें। टीचर्स की डाँट में भी आपकी गलतियों को दूर करने की भावना छुपी होती है। अगर आप अपने टीचर्स के लिए कुछ करना चाहते हैं तो उन्हें फूल या गिफ्‍ट के साथ अच्छा इंसान बनने का विश्वास भी दिलाएँ।

यह बात याद रखना कि जिस तरह आपको अच्छे टीचर की ‍तलाश रहती है। तो आपको ऐसा शिष्य बनना है जिस पर टीचर गर्व कर सके। जब आप पढ़-लिखकर किसी अच्‍छी जगह पर पहुँच जाएँगे तो आपके टीचर्स को आप पर गर्व होगा। शिष्य की ऊँचाई के साथ गुरु की ऊँचाई भी तो बढ़ती है। इसलिए याद रहे कि आप अपने टीचर्स को गर्व करने का कितना मौका देते हैं यह आपके ही हाथ में है। तो टीचर्स-डे पर अपने आप से ऐसा कोई प्रॉमिस जरूर करना। इसी साल उसे निभाने की भी कोशिश करना। बाकी मजे करो...



और भी पढ़ें :