गुर्दे के रोगों का घरेलू उपचार

* कुछ दिनों तक गाजर, खीरा, पत्तागोभी तथा लौकी के रस पीना चाहिए और इसके साथ-साथ उपवास रखना चाहिए।


* तरबूज तथा आलू का रस भी को ठीक करने के लिए सही होता है इसलिए पीड़ित रोगी को इसके रस का सेवन सुबह शाम करना चाहिए।

* रोगी को आपने भोजन में विटामिन 'सी' वाले पदार्थों का अधिक सेवन करना चाहिए। विटामिन 'सी' वाले पदार्थ जैसे- आँवला, नींबू। रोगी व्यक्ति को फलों का सेवन भी अधिक करनी चाहिए ताकि उसका गुर्दा मजबूत हो सके।

* इस रोग से पीड़ित रोगी को प्रोटीन खाद्य कम खानी चाहिए।


* व्यक्ति को रात के समय में सोते वक्त कुछ मुनक्का को पानी में भिगोने के लिए रखना चाहिए तथा सुबह के समय में मुनक्का पानी से निकाल कर, इस पानी को पीना चाहिए। ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करने से गुर्दे का रोग जल्दी ही ठीक हो जाता है।
* रोगी जब तब ठीक न हो जाए तब तक उसे नमक नहीं खाना चाहिए।

* गुर्दे के रोगों से बचने के लिए कम से कम ढाई किलो पानी सभी व्यक्ति को प्रतिदिन पीना चाहिए।

* पानी में नींबू के रस को निचोड़ कर पीये तो गुर्दे साफ हो जाते हैं और गुर्दे में कोई रोग नहीं होता है।



और भी पढ़ें :