भविष्य में होगी फार्मासिस्ट की डिमांड

प्रश्न : भारत में फार्मेसी शिक्षा का क्या भविष्य है?
उत्तर : मैं फार्मेसी के शिक्षण में पिछले 30 साल से कार्यरत हूँ। मुझे दुःख है कि फार्मेसी में समयानुसार बदलाव नहीं हो पा रहा है। शिक्षा संस्थाओं की संख्या तो बढ़ी है, शिक्षा भवनों की स्थिति में भी काफी सुधार हुआ है, शिक्षा के साधन तो मौजूद हैं, लेकिन शिक्षा के इस मंदिर में शिक्षकों की कमी महसूस हो रही है। इसका सबसे बुरा असर उन नवयुवकों पर पड़ता है, जो फार्मेसी व्यवसाय को अपना रहे हैं। सरकार के प्रयासों के तहत हर संस्था अपनी अलग इमारत बनाने के लिए बाध्य है, लेकिन छात्रों के हित में काम करने हेतु प्रबंधकों में शिक्षा के प्रति समर्पण की भावना समाज ही निर्मित कर सकता है।



और भी पढ़ें :