शेर्लिन को सरदारों से लगाव

समय ताम्रकर|
अपने नए अलबम ‘दर्द-ए-शेर्लिन’ का प्रचार इन दिनों शेर्लिन चोपड़ा विभिन्न शहरों में कर रही हैं।

शेर्लिन की जिद है कि वे बिकनी टॉप में परफॉर्म करेंगी, जिसमें कुछ हीरे जड़े हुए हैं। इसको देखते शेर्लिन के आसपास सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। लेकिन पिछले दिनों चंडीगढ़ में परफॉर्म करते समय शेर्लिन ने सुरक्षा लेने से इंकार कर दिया।

शेर्लिन के प्रचारक डेल भगवागर का कहना है कि शेर्लिन सरदारों को अच्छा इंसान समझती हैं, इसलिए उन्होंने ऐसा किया। शेर्लिन का मानना है कि सरदार दिल से बेहद अच्छे होते हैं।
शेर्लिन का सरनेम चोपड़ा होने की वजह से भी लोग उन्हें पंजाबी समझ बैठते हैं, जबकि वे आधी क्रिश्चियन और आधी पर्सियन हैं। चोपड़ा सरनेम और सरदारों से लगाव में कुछ ना कुछ संबंध हो सकता है।



और भी पढ़ें :