0

श्री नृसिंह भगवान की आरती शत्रु भय से तुरंत छुटकारा दिलाएगी

शुक्रवार,मई 13, 2022
Narasimha
0
1
मास वैशाख कृतिका युत, हरण मही को भार। शुक्ल चतुर्दशी सोम दिन, लियो नरसिंह अवतार।। धन्य तुम्हारो सिंह तनु, धन्य तुम्हारो नाम। तुमरे सुमरन से प्रभु, पूरन हो सब काम।।
1
2
Hanuman chalisa path: हनुमान चालीसा का पाठ करने के बाद लाभ प्राप्त नहीं हो रहा है और न ही संकट दूर हो रहे हैं तो जरूर आप कुछ न कुछ ऐसी भूल कर रहे हैं जिससे हनुमानजी का आपकी ओर ध्यान नहीं जा रहा है या उनकी कृपा आप पर नहीं हो रही है। आओ जानते हैं कि ...
2
3
एकादशी की आरती। एकादशी माता की आरती...इस आरती में सभी एकादशियों के नाम शामिल है। ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता। विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता ।। ॐ।।
3
4
श्री हनुमान चालीसा (हिन्दी अर्थ सहित) श्री गुरु महाराज के चरण कमलों की धूलि से अपने मन रूपी दर्पण को पवित्र करके श्री रघुवीर के निर्मल यश का वर्णन करता हूं, जो चारों फल धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को देने वाला है। श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु ...
4
4
5
श्री राम रक्षा स्तोत्र का पाठ करने से सभी विपत्तियों का नाश होता है तथा मनुष्य भयरहित होकर सुख-संपत्ति, वैभवपूर्ण जीवन जीता है और दीर्घायु होता है। यहां पढ़ें सम्पूर्ण पाठ-Ram Raksha Stotra
5
6

Mahavir jayanti special : श्री महावीर चालीसा

मंगलवार,अप्रैल 5, 2022
महावीर स्वामी जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर हैं। महावीर जयंती के दिन महावीर चालीसा (Mahavira Chalisa) का पाठ करने से जीवन में खुशियों का आगमन होता है। यहां पढ़ें सम्पूर्ण पाठ-
6
7
Gangaur 2022 गणगौर के पावन पर्व पर मां पार्वती या गौरी माता की आरती करके उन्हें प्रसन्न‍ किया जाता है। यहां पढ़ें आरती...
7
8
इस वर्ष चैत्र नवरात्रि (Navratri 2022) का पावन पर्व शनिवार, 2 अप्रैल 2022 से शुरू हो रहा है। नवरात्रि में 9 दिनों दुर्गा आराधना के साथ ही चालीसा, स्तोत्र, स्तुति पढ़ने से मां दुर्गा प्रसन्न होती हैं और हर संकट दूर करती है। यहां पाठकों के लिए ...
8
8
9
ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे। ॐ जय श्री श्याम हरे.. रतन जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुरे। तन केसरिया बागो, कुंडल श्रवण पड़े। ॐ जय श्री श्याम हरे.. यहां पढ़ें बाबा खाटू श्याम की पवित्र आरती... 15 ...
9
10
श्याम-श्याम भजि बारंबारा। सहज ही हो भवसागर पारा। इन सम देव न दूजा कोई। दिन दयालु न दाता होई।।
10
11
महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव जी की पूजा-आराधना, आरती, चालीसा, शिवाष्टक आदि का पाठ करने से शिव प्रसन्न होकर कृपा बरसाते हैं। यहां पढ़ें शिव जी की 3 विशेष आरतियां...
11
12
हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार भगवान सूर्य (Surya) एकमात्र ऐसे देवता हैं, जो साक्षात दिखाई पड़ते हैं। प्रतिदिन सूर्य की आराधना करते वक्त श्री सूर्य चालीसा (Shree Surya Chalisa) का पाठ करना बहुत ही
12
13
शिव जी की आरती : इन 5 आरतियों से होती है भोलेनाथ की आराधना
13
14
मां नर्मदा के दर्शन मात्र से जीवन में पवित्रता आती है। इसकी गणना देश की 5 बड़ी एवं 7 पवित्र नदियों में होती है। मां नर्मदा की जयंती पर पढ़ें नर्मदा देवी का पवित्र स्तोत्र श्री नर्मदाष्टकम (narmadashtak)-
14
15
आज मां नर्मदा जी की जयंती है। यह प्रतिवर्ष (narmada jayanti) माघ मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाई जाती है। यहां पढ़ें माता नर्मदा (Maa Narmada) की आरती-
15
16
वीणावादिनी, मंद-मंद मुस्कुराती, हंस पर विराजमान होकर मां सरस्वती मानव जीवन के अज्ञान को दूर कर ज्ञान के प्रकाश से आलोकित करती हैं। पढ़ें संपूर्ण सरस्वती चालीसा :
16
17
बसंत पंचमी (basant panchami) के पावन पर्व पर पढ़ें माता सरस्वती की पवित्र आरती (aarti saraswati mata ki)।
17
18
भारत भर में वसंत पंचमी का उत्सव वीणावादिनी 'मां देवी सरस्वती' (Goddess Shri Saraswati) के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। हंस पर विराजित मां सरस्वती जीवन के अज्ञान को दूर करके ज्ञान के प्रकाश से आलोकित करती हैं।
18
19
शाकंभरी नवरात्रि- देवी शाकंभरी को शाक सब्जियों और वनस्पतियों की देवी कहा गया है। मां शाकंभरी माता पार्वती का ही स्वरूप हैं। यहां पढ़ें उनका प्रिय चालीसा-
19
20
माता लक्ष्मी या महालक्ष्मी की पूजा शुक्रवार, महालक्ष्मी व्रत, दीपावली और कार्तिक मास में की जाती है। यहां पर मां लक्ष्मी की पूजा के समय स्तुति पाठ, स्त्रोत्र, लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने के बाद माता लक्ष्मी की आरती का वाचन किया जाता है। आओ पढ़ते हैं ...
20
21
Wednesday Aarti बुधवार का दिन श्री गणेश की कृपा प्राप्ति का दिन माना जाता है। आज इस आरती से करें श्री गणपति जी को प्रसन्न-
21
22
Vaikunth Chaturdashi ki Aarti वैकुंठ चतुर्दशी और पूर्णिमा के दिन 'ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे' इस आरती से श्रीहरि विष्णु प्रसन्न होकर देंगे खुशहाली का आशीर्वाद। यहां पढ़ें...
22
23
Tulsi Chalisa हर साल कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि के दिन देवउठनी एकादशी और तुलसी विवाह किया जाता है। इस दिन श्री तुलसी चालीसा पढ़ने का बहुत अधिक महत्व है।
23
24
Dev Uthani Ekadashi 2021 दीपावली के बाद आने वाली एकादशी को देव प्रबोधिनी एकादशी कहते हैं। इस दिन तुलसी विवाह होता है। माता तुलसी का विवाह भगवान शालिग्राम के साथ किया जाता है। यहां पढ़ें श्री तुलसी जी की आरती-
24
25
शुक्रवार को गोपाष्टमी का पर्व मनाया जा रहा है। यहां पढ़ें श्री गौमाता की पवित्र आरती- ॐ जय जय गौमाता, मैया जय जय गौमाता, जो कोई तुमको ध्याता, त्रिभुवन सुख पाता, सुख समृद्धि प्रदायनी, गौ की कृपा मिले
25
26
छठ व्रत सूर्यदेव की पूजा का पर्व है। चार दिवसीय इस छठ पर्व के इन दिनों में आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करने से यह जहां हर तरह के शत्रु से मुक्ति दिलाता है, वहीं नौकरी में पदोन्नति, व्यापार में सफलता, धन, प्रसन्नता,
26
27
इन दिनों छठ महापर्व जारी है। इन दिनों सूर्यदेव की कृपा प्राप्त करने के लिए निम्न पाठ को अवश्य करना चाहिए। यहां पढ़ें छठी मैय्या की आरती, मंत्र, स्तुति, लोकगीत, सूर्य स्तोत्र, सूर्य चालीसा, आदि सबकुछ एक ही स्थान पर-
27
28
छठ पर्व के दौरान सूर्य की उपासना करने का विशेष महत्व माना गया है। सूर्य की आराधना करते समय श्री सूर्य चालीसा/Surya Chalisa का पाठ बहुत ही लाभदायी माना गया है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं सूर्य चालीसा/Surya Chalisa का संपूर्ण पाठ, अवश्‍य पढ़ें...
28
29
सोमवार, 8 नवंबर से चार दिवसीय छठ महापर्व का शुभारंभ हो गया है। इन दिनों सूर्यदेव की कृपा प्राप्त करने के लिए निम्न पाठ को अवश्य करना चाहिए। यहां पढ़ें सूर्य स्तोत्र, सूर्य चालीसा, सूर्यदेव की आरती,
29
30
श्री विरंचि कुलभूषण, यमपुर के धामी। पुण्य पाप के लेखक, चित्रगुप्त स्वामी॥ सीस मुकुट, कानों में कुण्डल अति सोहे। श्यामवर्ण शशि सा मुख, सबके मन मोहे॥ भाल तिलक से भूषित, लोचन सुविशाला। शंख सरीखी गरदन, गले में मणिमाला॥
30
31
भाई दूज पर यमुना माता की आरती उतारी जाती है। यमुना जी की आरती पढ़ने या सुनने मात्र से ही भगवान श्री कृष्ण जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। यमुना जी की आरती सच्चे मन से करने से यम का भय खत्म हो जाता है।
31
32
ॐ जय जय गौमाता, मैया जय जय गौमाता...गौ माता की आरती 33 करोड़ देवताओं को प्रसन्न करती है क्योंकि गाय माता के शरीर में समस्त देवों का वास माना गया है।
32