स्मार्ट फोन लोगों के रोजगार का जरिया बने: प्रसाद

WD|
भोपाल, 11 सितंबर।  केन्द्रीय संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री प्रसाद ने कहा कि कम्प्यूटर और स्मार्ट फोन उपयोग के मामले में देश के लोग बहुत आगे हैं और हमें छोटे कामगारों को स्मार्ट फोन के जरिये रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने होंगे।
 
प्रसाद ने 10 वें में ‘संचार एवं प्रौद्योगिकी में हिन्दी’ सत्र की अध्यक्षता करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटल इंडिया के सपने को पूरा करने के लिये हमें स्मार्ट फोन के जरिये छोटे कामगारों को रोजगार उपलब्ध कराना होगा।
 
उन्होंने कहा कि सूचना तकनीक के उपयोग से लोगों का जीवन आसान हुआ है। इसे बढ़ावा देने के लिए संचार विभाग ने सूचना प्रौद्योगिकी में हिन्दी के साथ साथ देश की अन्य भाषाओं में ऑपरेटिंग सिस्टम तैयार किये हैं। लोगों की सुविधा के लिए विभाग ने कम्प्यूटर एवं स्मार्ट फोन पर जीवन प्रमाणन, खोया-पाया, ई-बस्ता, ई-छात्रवृत्ति आदि एप्स भी विकसित किये हैं।
 
डाँ. सुजय लेले ने कहा कि घर-घर में डिजिटाइजेशन को बढ़ावा देने के लिए जरूरी है कि कम्प्यूटर में हिन्दी का अधिक से अधिक उपयोग किया जाये। इसके लिए उन्होंने महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले के गाँव में स्वयं पहल कर सफलता प्राप्त की है।
 
डॉ. लेले ने कहा कि स्क्रिप्ट की-बोर्ड से कम्प्यूटर में फॉन्ट की समस्या नहीं आती, इसका ज्यादा से ज्यादा प्रचार होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कम्प्यूटर को बढ़ावा देने के लिए हिन्दी को दिल के साथ लोगों की रोजगार की भाषा बनाना होगा।
 
रसिद्ध कवि प्रो अशोक चक्रधर ने कहा कि देशवासियों के अच्छे दिन लाने के लिए कम्प्यूटर का हिन्दी की-बोर्ड होना आवश्यक है। कम्प्यूटर को बढ़ावा देने स्कूल स्तर से ही बच्चों को उनकी मातृभाषा में कम्प्यूटर का प्रशिक्षण देना होगा। इन्टरनेट के आने से अंग्रेजी भाषा कमजोर हुई है और हिन्दी को बढ़ावा मिला है। उन्होंने कहा कि अब विश्व के लोग भारत की भाषा हिन्दी में उसके इतिहास, संस्कृति, पर्यटन स्थल आदि के बारे में इन्टरनेट से अधिक से अधिक जानकारी लेने लगे हैं।
 
कम्प्यूटर विशेषज्ञ हर्ष कुमार ने कहा कि कम्प्यूटर में उपयोग के लिए हमारी भाषा हिन्दी एवं देवनागरी लिपि में कोई कमी नहीं है। इसके लिए हिन्दी शब्द का मानकीकरण होना चाहिये। हिन्दी में कम्प्यूटर को प्रोत्साहित करने के लिए सामान्य बोलचाल की भाषा के शब्दों में हमें ऑपरेटिंग सिस्टम विकसित करने की जरूरत है।
 
सत्र में विदेश राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) वी.के. सिंह के अलावा कम्प्यूटर विशेषज्ञ विजय कुमार मल्होत्रा, आदित्य चौधरी, बालेन्दु शर्मा (दधीच), सत्र संयोजक डॉ रचना विमल तथा सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग तथा इस क्षेत्र के विशेषज्ञ और विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राएँ उपस्थित थे। (वेबदुनिया)



और भी पढ़ें :