Malasana yoga : कब्ज और गैस है तो करें मलासन

malasana yoga
आसन को करना बहुत ही आसान है। वैसे प्रतिदिन व्यक्ति यह आसन करता ही है परंतु इसे योग की विधि से किया जाए तो यह लाभदायक सिद्ध हो सकता है। इसे और का निदान ही नहीं होता है इससे और भी कई लाभ होते हैं। तो आओ जानते हैं मलासन करने की विधि और इसके फायदे।

मल+आसन अर्थात मल निकालते वक्त हम जिस अवस्था में बैठते हैं उसे मलासन कहते हैं। मलासन की एक अन्य विधि भी है, लेकिन यहां सामान्य विधि का परिचय। टॉयलेट जाने से लेकर दिनभर काम करने तक हम कुर्सी पर ही बैठते हैं। जिससे हमारे कमर और उससे नीचे के हिस्‍से की मांसपेशियों का व्‍यायाम बिल्‍कुल नहीं हो पाता। अगर आपकी दिनचर्या भी ऐसी है तो सुबह उठकर कम से कम दस मिनट मलासन में बैठेंगे तो इससे लाभ मिलेगा।
विधि : दोनों घुटनों को मोड़ते हुए मल त्याग करने वाली अवस्था में बैठ जाएं। फिर दाएं हाथ की कांख को दाएं और बाएं हाथ की कांख को बाएं घुटने पर टिकाते हुए दोनों हाथ को मिला दें (नमस्कार मुद्रा)। उक्त स्थिति में कुछ देर तक रहने के बाद सामान्य स्थिति में आ जाएं।

मलासन के फायदे :
1. मलासन से घुटनों, जोड़ों, पीठ और का तनाव खत्म होकर उनका दर्द मिटता है।
2. इससे कब्ज और गैस का निदान भी होता है।




और भी पढ़ें :