0

एक थी शहजादी...

शनिवार,दिसंबर 27, 2014
0
1

उठो, अँधेरे के खिलाफ!

शनिवार,मार्च 15, 2008
निर्मला पुतुल एक ऐसी कवयित्री हैं, जो संथाल परगना के आदिवासी परिवार में जन्मी हैं। उनकी कॉलेज की शिक्षा नहीं हो पाई लेकिन उन्होंने जीवन की किताब खुली आँखों से पढ़ी है। खासकर अपने आसपास की स्त्रियों के सुख-दुःख को उन्होंने साझा किया है।
1
2
पंचायत राज अधिनियम में महिलाओं के लिए आरक्षण की व्यवस्था की गई, लेकिन महिला पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा अपना दायित्व निभाने में बाधा उत्पन्न करने वालों पर कार्रवाई का कोई प्रावधान इसमें नहीं है।
2
3

समाज को बदल डालो!

शनिवार,जनवरी 12, 2008
उपरोक्त बैनर बीसवीं सदी के न्यूयॉर्क में मताधिकार के संबंध में स्त्रियों की गैर बराबरी की स्थिति पर व्यंग्य है, 'न्यूयॉर्क राज्य अपराधियों, विक्षिप्तों, मूर्खों और महिलाओं को मताधिकार देने से इंकार करता है
3
4

महिलाओं के हित में कानून

शनिवार,जनवरी 12, 2008
भारतीय साक्ष्य अधिनियम 1872 के कई प्रावधान भी उत्पीड़ित महिलाओं के हितार्थ हैं। दहेज हत्या, आत्महत्या या अन्य प्रकार के अपराधों में महिला के 'मरणासन्न कथन' दर्ज किए जाते हैं
4
4
5

महिलाओं के लिए बने कानून

शनिवार,जनवरी 12, 2008
पिछले दशकों में स्त्रियों का उत्पीड़न रोकने और उन्हें उनके हक दिलाने के बारे में बड़ी संख्या में कानून पारित हुए हैं। अगर इतने कानूनों का सचमुच पालन होता तो भारत में स्त्रियों के साथ भेदभाव और अत्याचार
5
6

महिलाओं के लिए बने कानून

शुक्रवार,जनवरी 11, 2008
पिछले दशकों में स्त्रियों का उत्पीड़न रोकने और उन्हें उनके हक दिलाने के बारे में बड़ी संख्या में कानून पारित हुए हैं। अगर इतने कानूनों का सचमुच पालन होता तो भारत में स्त्रियों के साथ भेदभाव और अत्याचार अब तक खत्म हो जाना था। लेकिन
6
7
लिंगानुपात में इतना असंतुलन आता जा रहा है कि सरकार ने अब सड़कों पर यह बोर्ड लगाने शुरू कर दिए हैं- जब एक महिला के होंगे पति चार/ तब कहाँ मिलेगा पत्नी का प्यार। इसमें कोई दो राय नहीं है कि सुख
7
8

अंतिम संस्कार एक हक नारी का

बुधवार,अक्टूबर 3, 2007
अंतिम संस्कार औरत नहीं कर सकती है। यह तथ्य मौजूदा सदी में अव्यावहारिक परंपरा मानी जा सकती है। भारतीय संस्कृति में किसी की मौत होने पर उसको मुखाग्नि मृतक का बेटा/भाई/ भतीजा/पति या पिता ही देता है
8
8
9

स्वास्थ्य है आपका अधिकार

मंगलवार,सितम्बर 18, 2007
कन्या भ्रूण हत्या भारतीय समाज का एक बड़ा कलंक है। कानूनन इस पर रोक लग चुकी है, इसके निषेध संबंधी सामाजिक जागृति लाए जाने की इन दिनों बड़ी चर्चा है
9
10
बलात्कार यानी बल के बूते पर किया हुआ कार्य। यह एक ऐसा अनुभव है, जो पीड़िता के जीवन की बुनियाद को हिलाकर रख देता है। दुःखद बात यह है कि यह एक ऐसा अपराध है, जहाँ कालिख बलात्कारी के बजाय उस नारी के माथे पर लग जाती है।
10