बंगाल चुनाव के पांचवें चरण में हिंसा की छिटपुट घटनाएं आईं सामने

Last Updated: शनिवार, 17 अप्रैल 2021 (20:54 IST)
बर्दवान/ सिलीगुड़ी। में के पांचवें चरण के लिए शनिवार को जिन क्षेत्रों में हो रहा है वहां से हिंसा की कुछ छिटपुट घटनाएं सामने आई हैं।
पश्चिम बंगाल के छह जिलों में 45 विधानसभा सीटों पर पांचवें चरण में हो रहे चुनाव के दौरान शाम पांच बजे तक कम से कम 78.36 प्रतिशत मतदान हो चुका था। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी आरिज आफताब ने यह जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा 81.73 प्रतिशत मतदान जलपाईगुड़ी जिले में देखने को मिला, उसके बाद पूर्वी बर्धमान (81.72 प्रतिशत), नादिया (81.57 प्रतिशत), उत्तर 24 परगना (74.83 प्रतिशत), दार्जीलिंग (74.31 प्रतिशत) और कलिमपोंग (69.56 प्रतिशत) हैं।

मुख्य निर्वाचन कार्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “कुछ जगहों पर हिंसा की थोड़ी बहुत घटनाओं को छोड़कर मतदान लगभग शांतिपूर्ण रहा।” दक्षिण बंगाल में उत्तर 24 परगना, पूर्व वर्धमान और नादिया तथा उत्तर बंगाल में जलपाईगुड़ी, दार्जिलिंग और कलिम्पोंग जिलों की 45 सीटों पर मतदान जारी है।

मुख्य चुनाव अधिकारी कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि सुरक्षाकर्मी हालात पर कड़ी नजर रखे हैं और कुछ घटनाएं सामने आईं जिन्हें संभाल लिया गया। उत्तर 24 परगना जिले के देगांगा विधानसभा क्षेत्र के कुरुलगाचा इलाके में ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि एक मतदान केंद्र के नजदीक भीड़ को तितर-बितर करने के लिए केंद्रीय बलों को गोलियां चलानी पड़ीं। बहरहाल, केंद्रीय बलों ने आरोपों से इंकार किया।

केंद्रीय बल के एक अधिकारी ने बताया, यहां हर चीज ठीक है। मतदान शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है। देगांगा में कहीं भी गोलीबारी की कोई घटना नहीं हुई है। एक अधिकारी ने बताया कि आरोपों और मीडिया में आई खबरों के बाद सीईओ कार्यालय ने पर्यवेक्षक से इस सिलसिले में रिपोर्ट मांगी है।

अधिकारी ने बताया, देगांगा के कुरुलगाची में एक मतदान केंद्र के पास इकठ्ठा हुए ग्रामीणों के एक समूह को हटाने के लिए केंद्रीय बलों द्वारा गोलीबारी के संबंध में हमें मीडिया से वीडियो फुटेज मिला है। हमने पर्यवेक्षक से रिपोर्ट मांगी है।

बिधाननगर के शांतिनगर क्षेत्र में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा समर्थकों के बीच झड़प हो गई और दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर मतदाताओं को मतदान के लिए जाने से रोकने के आरोप लगाए। अधिकारियों ने बताया कि कार्यकर्ताओं ने ईंट और पत्थर फेंके जिसमें आठ लोग घायल हो गए। उन्होंने कहा कि स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए केंद्रीय बलों की एक टुकड़ी घटनास्थल पर भेजी गई।

तृणमूल विधायक सुजीत बोस और भाजपा के प्रत्याशी सब्यसाची दत्ता ने स्थिति का जायजा लेने के लिए घटनास्थल का दौरा किया। बारानगर सीट पर भाजपा उम्मीदवार और अभिनेत्री पर्णो मित्रा का टीएमसी कार्यकर्ताओं ने उस समय घेराव किया जब वह क्षेत्र का भ्रमण कर रही थीं। टीएमसी ने आरोपों से इंकार किया है और दावा किया है कि मतदान के दिन वह मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास कर रही थीं।
मित्रा ने आरोप लगाए कि टीएमसी कार्यकर्ताओं ने उनके साथ बदतमीजी की जिसके बाद उन्होंने चुनाव आयोग में शिकायत की। सिलीगुड़ी में मतदान केंद्र के बाहर तृणमूल और माकपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। नदिया जिले के शांतिपुर क्षेत्र में तृणमूल की ओर से आरोप लगाया गया कि केंद्रीय बलों के एक कर्मी ने मतदाताओं को वापस जाने के लिए कहा।
तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाए कि भाजपा ने बर्दमान उत्तर विधानसभा क्षेत्र में मतदान केंद्र पर कब्जा कर लिया। विपक्षी दल ने आरोपों से इंकार किया, जबकि चुनाव अधिकारियों ने कहा कि इस तरह की कोई घटना नहीं हुई है। उत्तर 24 परगना के बीजापुर में विपक्षी दल ने आरोप लगाया कि मतदाताओं को मतदान केंद्र पर जाने नहीं दिया जा रहा है, जिसके बाद तृणमूल और भाजपा समर्थकों में झड़प हुई।
भाजपा ने यह भी आरोप लगाया कि उसी जिले में मिनखा निर्वाचन क्षेत्र में उसके कुछ बूथ एजेंटों को तृणमूल कार्यकर्ताओं ने अगवा कर लिया। तृणमूल की ओर से कहा गया कि भाजपा के पास सभी बूथों पर तैनात करने के लिए पर्याप्त संख्या में एजेंट नहीं हैं इसलिए इस प्रकार का निराधार आरोप लगाया जा रहा है।

ग्यासपुर विधानसभा क्षेत्र में वोट डालकर लौट रहे भाजपा के एक कार्यकर्ता पर टीएमसी कार्यकर्ताओं ने बम से हमला किया, जिसमें वह जख्मी हो गया। राज्य में सत्तारूढ़ दल ने आरोपों से इंकार किया, जबकि स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए बड़ी संख्या में केंद्रीय बलों को इलाके में भेजा गया है।

छह जिलों के 15,789 मतदान केंद्रों पर मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ जो शाम साढ़े छह बजे तक चलेगा। इस चरण में चुनाव आयोग ने केंद्रीय बलों की 853 कंपनियों को तैनात किया है।(भाषा)



और भी पढ़ें :