0

देवउठनी एकादशी पर किस दिशा में बनाएं कौन सी रंगोली, जानिए धार्मिक लाभ

मंगलवार,नवंबर 24, 2020
0
1
यह पौधा आसानी से प्राप्त हो सकता है। मोर की शिखा जैसा दिखाई देने के कारण इसे मयूर शिखा कहते हैं। बंगाली में लाल मोरग या मोरगफूल कहते हैं जबकि तेलगु में माइरक्षिपा और ओड़िया में मयूर चूड़िआ कहते हैं। भारतीय भाषाओं में इसे भिन्न भिन्न नाम से जानते ...
1
2
प्रत्येक ग्रह का एक प्रतिनिधि पेड़, पौधा या वृक्ष होता है। जैसे गुरु का पेड़ पीपल है, सूर्य के तेजफल का वृक्ष, चंद्र का पोस्त का पौधा या दूध वाले वृक्ष, मंगल नेक के लिए नीम और मंगल बद के लिए ढाक, बुध के लिए केला या चौड़े पत्ते वाले वृक्ष, शुक्र के ...
2
3
हिन्दू धर्म और वास्तुशास्त्र के अनुसार घर के आसपास लगे पौधे आपके जीवन पर असर डालते हैं अत: यह देखना जरूरी है कि कौनसे पेड़-पौधे लगे हैं या लगाना चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि घर में दूध, फल एवं कांटेदार वृक्ष नहीं लगाने चाहिए। दूध वाले वृक्षों से ...
3
4
सूर्य, वास्तु शास्त्र को प्रभावित करता है इसलिए जरूरी है कि सूर्य के अनुसार ही हम भवन निर्माण करें तथा अपनी दिनचर्या भी सूर्य के अनुसार ही निर्धारित करें।
4
4
5
आप भोजन कौन सी दिशा में कर रहे हैं, इसका वास्तु के अनुसार बहुत महत्व है और आपके स्वास्थ्य और शरीर पर भी इसका अनुकूल और प्रतिकूल असर पड़ता है।
5
6
पिरामिड वास्तु का एक चमत्कारिक और अद्भुत नमूना है। इसके संबंध में कई तरह की बातें प्रचलित हैं। वास्तु शास्त्र में पिरामिड के महत्व को बताया गया है। बहुत से लोगों का मानना है कि जैसे फ्रीज में रखी वस्तुओं का गुण धर्म बदल जाता है उसी तरह पिरामिड में ...
6
7
आपका घर या मकान किस दिशा में है और उसका मुख्य द्वार किस दिशा में है यह जानकर आप क्या खरीदे और द्वार पर कौनसा दीपक जलाएं इसके लिए आप जानिए सामान्य वास्तु टिप्स जिससे आपका धनतेरस पर लाभ मिल सकता है। निम्नलिखित टिप्स मान्यता पर आधारित हैं।
7
8
मां लक्ष्मी बहुत सरलता से प्रसन्न हो सकती हैं और इसके लिए आपको बहुत अधिक धन खर्च करने की जरूरत नहीं है। सिर्फ 20 रुपए के सरल उपायों से आप मां लक्ष्मी को अपने घर पर हमेशा के लिए रोक सकते हैं...
8
8
9
वास्तु और ज्योतिष के अनुसार धन या ज्वेलरी रखने की उचित दिशा होती है। यदि उचित दिशा या स्थान पर धन रखेंगे तो धन बढ़ेगा और बरकतर रहेगी बरकरार परंतु यदि उचित दिशा में नहीं रखा तो धन घटगे भी और कर्ज भी बढ़ जाएगा। तो आओ जानते हैं धन रखने की उचित दिशा।
9
10
समुद्र मंथन के समय देव- दानव संघर्ष के दौरान समुद्र से 14 अनमोल रत्नों की प्राप्ति हुई। जिनमें आठवें रत्न के रूप में शंखों का जन्म हुआ। प्राकृतिक रूप से शंख कई प्रकार के होते हैं। देव शंख, चक्र शंख, राक्षस शंख, शनि शंख, राहु शंख, पंचमुखी शंख, ...
10
11
वास्तुशास्त्र में यह बताया गया है कि दीपक की लौ किस दिशा में होने पर उसका क्या फल मिलता है।
11
12
बहुत छोटे छोटे वास्तु टिप्स हैं जिन्हें आजमा कर आप अपने घर का वास्तु दोष दूर कर सकते हैं। वैसे तो ऐसे सैंकड़ों टिप्स है परंतु यहां प्रस्तुत हैं खास 51 टिप्स।
12
13
शादी के बाद नवयुगल अपने नए जीवन की शुरुआत करता है। जब दो अलग-अलग स्वभाव वाले प्राणी एक-दूसरे के साथ रहना शुरू करते हैं तो उनमें बहुत कुछ अलग होता है।
13
14
यदि आप खुद का घर बनाने के लिए प्लाट यह भूमि खरीद रहे हैं तो वास्तु का विशेष ध्यान रखें अन्यथा आपको बाद में परेशानियों को सामना करना पड़ सकता है। यहां बताएं जा रहे हैं 6 वास्तु टिप्स।
14
15
घर में सुख शांति और प्रसन्नता का वातावरण बना रहे इसलिए कई लोग घर की साज-सज्जा व रंगाई के लिए वास्तु और फेंगशुई के टिप्स भी आजमाते हैं।
15
16
घर का दरवाजा ही हमारी सुख, समृद्धि और शांति के द्वार खोलता है। यह टूटा फूटा, एक पल्ले वाला, त्रिकोणाकार, गोलाकार, वर्गाकार या बहुभुज की आकृति वाला, दरवाजे के भीतर वाला दरवाजा, खिड़कियों वाला दरवाजा आदि नहीं होना चाहिए। आओ जानते है द्वार सजाएं इन 5 ...
16
17
स्तुत हैं वास्तु के अनुसार 13 ऐसी बातें जो हम सबको जरूर पता होना चाहिए। अगर आप भी अपने जीवन को सुख, शांति और सफलता से भरपूर बनाना चाहते हैं तो अवश्य अपनाएं।
17
18
दीपावली के पहले घरों की रंगाई-पुताई करवा रहे हैं, तो यह टिप्स आपको जरूर जानना चाहिए। घर की साज-सज्जा एवं रंग-रोगन के लिए दिशा के अनुसार चुनें इन 5 समृद्धदिायक रंगों को, और पाएं वर्ष भर खुशहाली व सुख-समृद्धि। जानें कैसे करें रंगों का चुनाव...
18
19
प्रकृति में ही है वह उपाय जिससे आप अपनी सकारात्मक ऊर्जा का विकास कर अपने भाग्य को जागृत कर सकते हैं। भाग्य में समय और स्थान का भी बहुत महत्व होता है। गलत स्थान पर रहने से या जाने से भी भाग्य बंद हो जाता है। भाग्य में कर्म का भी योगदान होता है। गलत ...
19