0

मनीप्लांट लगाने के नियम : जानिए वास्तु क्या कहता है

रविवार,जून 13, 2021
0
1
आजकल शहरी लोग फ्लैट में रहते हैं तो आंगन होने का सवाल ही नहीं। दूसरी ओर शहरी घरों में भी अब आंगन कहां रहे हैं। पहले के घरों में आंगन होते थे। ग्रामीण क्षेत्रों में ही अब कुछ घर ऐसे बचे हैं जहां आंगन है। हालांकि यदि आप आंगन वाला घर बनाना चाहते हैं या ...
1
2
हिन्दू धर्म के तीन प्रमुख देवता हैं- ब्रह्मा, विष्णु और महेश। साधारण मानव ने तीनों को प्रकृति तत्वों में खोजने का प्रयास किया है। तीनों के ही मनुष्य ने साकार रूप गढ़ने के लिए सर्वप्रथम भगवान ब्रह्मा को शंख, शिव को शिवलिंग और भगवान विष्णु को ...
2
3
पानी से भरी एक सुराही घर में जरूर रखनी चाहिए और वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में पानी से भरी सुराही रखने से धन की कभी कमी नहीं होती।
3
4
हर घर में लकड़ी का सामान होता है। लकड़ी के सामान में क्या होना चाहिए और क्या नहीं यह भी वास्तु अनुसार ध्यान देने वाली बात है, क्योंकि कई बार लकड़ी से भी वास्तुदोष निर्मित होने की संभावना रहती है। अत: यहां पर जानिए लकड़ी के 5 बेहतरीन वास्तु टिप्स।
4
4
5
वास्तु शास्त्र में कई तरह के वेध बताए गए हैं। जैसे, स्तंभवेध, वृक्षवेध आदि। उन्हीं में से एक है छायावेध। छायावेध अर्थात घर पर पड़ने वाली छाया से किसी प्रकार का वास्तुदोष निर्मित होना। यह छाया अच्छी भी हो सकती है और बुरी भी। ज्योतिष में छाया को राहु ...
5
6
बेडरूम यानी शयन कक्ष वह कमरा होता है जहां आप अपनी दुनिया भर की चिंताएं भूल कर शांति से आराम और दांपत्य जीवन में प्यार घोलना चाहते हैं। लेकिन कई बार आपको पता नहीं है कि बेडरूम में रखी कुछ चीजें आपकी शांति में बाधक बन रही हैं।
6
7
रसोईघर अर्थात किचन को वास्तु अनुसार बनाना जरूरी है अन्यथा यह रोग, शोक और धन की बर्बादी का कारण बन सकता है। आओ जानते हैं इस संबंध में 10 खास बातें।
7
8
बैठक रूम को स्वागत कक्ष, ड्राइंग रूम या लिविंग रूम कहते हैं। बैठक रूप से ही आपके घर और व्यक्तित्व का पता तो चलता ही है साथ ही इससे वास्तु कैसा होगा यह भी पता चलता है। अत: यह ध्यान देना जरूरी है कि हम बैठक रूप में किसी तरह के चित्र लगा रहे हैं। यदि ...
8
8
9
कई लोगों के घर तिराहे या चौराहे पर होते हैं। कहते हैं कि वास्तु के अनुसार यह अच्छे नहीं होते हैं। तिराहे पर भी भयानक वास्तुदोष निर्मित होता है। यहां रहने वाले सभी सदस्य मानसिक रूप से परेशान ही रहते हैं। मकान के प्रवेश द्वार के सामने यदि कोई रोड, गली ...
9
10
आजकल हर घर में मनी प्लांट लगाने का प्रचलन है। मनी प्लांट लगाने के 4 फायदे और 4 नुकसान जानकर आप हो जाएंगे हैरान।
10
11
पीतल धातु से बना शेर, ना सिर्फ आपके घर की शोभा को बढ़ाता है बल्कि आपके भीतर छिपी हीन भावना या आत्मविश्वास की कमी को भी समाप्त करता है।
11
12
घर में कई तरह की प्रतिमाएं होती हैं जिसमें से कुछ वास्तु अनुसार होती है और कुछ नहीं। जो नहीं होती है उसके नकारात्मक प्रभाव भी हो सकते हैं। आओ जानते हैं कि वास्तु अनुसार कौनसे 7 प्राणियों की प्रतिमा घर में रख सकते हैं।
12
13
वर्षा ऋ‍तु में पौधारोपण किया जाता है। पौधारोपण करते समय ज्योतिष और वास्तु का ध्यान रखते हुए उचित दिशाम में पौधारोपण करेंगे तो यह बहुत ही लाभदायक‍ सिद्ध होगा। इससे जहां घर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ेगी वहीं सभी तरह के संकट भी समाप्त हो जाएंगे। आओ जानते ...
13
14
हमारे धर्म में वृक्षों की महत्ता है कि एक पौधे को लगाने से सहज ही पुण्य प्राप्त हो जाता है।
14
15
प्रकृति ने भी हमारी खूब मदद की है और हमें विभिन्न प्रकार के सुगंधित पेड़-पौधे, जड़ी-बूटियां, फल-फूल उपहार में दिए हैं और इनके माध्यम से तरह-तरह की सुगंधियां प्रदान की हैं।
15
16
आज हम आपको चांदी की 4 ऐसी वस्तुओं के बारे में बताएंगे जो घर की सुख और शांति को हमेशा बरकरार रखती है। घर में अमन-चमन हो जाता है। आइए जानते हैं...
16
17
चांदी सबसे शुभ और शीतल धातु मानी गई है। उसी तरह शुभ और मंगलमयी प्रतीकों में मोर,गाय,हाथी,शेर के अलावा मछली को भी शामिल किया गया है...। आइए जानते हैं चांदी की मछली का महत्व और चलते हैं एक ऐसी जगह जहाँ की चांदी की मछली देश-विदेश में मशहूर है....
17
18
यूं तो चांदी एक शुभ धातु है और इस धातु से बनी वस्तुएं शुभ फल ही देती है। उसी तरह मोर,मयूर भी देवताओं को प्रिय है। मां सरस्वती,भगवान श्रीकृष्ण, कार्तिकेय और श्री गणेश जी की तस्वीर में यह शुभ पंछी देखा जा सकता है। आज हम आपको बताएंगे कि घर में चांदी का ...
18
19
द्वार की चौखट के नीचे वाली लकड़ी को आम बोलचाल की भाषा में देहरी, देहली और डेली कहते हैं परंतु सही शब्द है दहलीज़ या डेहरी। इसे द्वारपिंडी, ड्योढ़ी, बरोठा भी कहते हैं। वास्तु शास्त्र में इसका बहुत महत्व है। आओ जानते हैं इसके बारे में किए जाने वाले 5 ...
19