सोमवार, 11 दिसंबर 2023
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. काम की बात
  4. Post Office Senior Citizen Savings Scheme (SCSS) 2023 detalis in hindi
Written By

Post Office Senior Citizen Savings Scheme : क्या है स्कीम, कितना मिलता है ब्याज, आयकर मिलती है छूट?

Post Office Senior Citizen Savings Scheme  :  क्या है स्कीम, कितना मिलता है ब्याज, आयकर मिलती है छूट? - Post Office Senior Citizen Savings Scheme (SCSS) 2023  detalis in hindi
Post Office Senior Citizen Savings Scheme  :  भारतीय डाकघर (India Post Office)  ने अपने सभी वर्ग के नागरिकों की सुविधा के लिए कई तरह की बचत योजनाओं की शुरुआत की है। वरिष्ठ नागरिकों को ध्यान में रखते हुए पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (Post Office Senior Citizen Savings Scheme) शुरू की गई है। आइए जानते हैं इस योजना में कितना मिलता है ब्याज और क्या आयकर में मिलती है छूट-  
 
कितना कर सकते हैं निवेश : इस स्कीम के अंतर्गत 60 वर्ष से अधिक आयु के नागरिक निवेश कर सकते हैं। इसमें न्यूनतम 1000 रुपए से लेकर अधिकतम 15 लाख रुपए तक का निवेश किया जा सकता है। पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना का खाता किसी भी नजदीकी पोस्ट ऑफिस में खुलवाया जा सकता है।
 
कितनी है ब्याज दर : इस स्कीम में निवेश करने पर नागरिकों को टैक्स में छूट से लेकर ब्याज तक का लाभ दिया जाता है। इसके लिए योजना में खाता खुलवाने पर आवेदक द्वारा खाता खोलने की तारीख से 5 साल के बाद जमा राशि मैच्योर होती है, जिसमें अकाउंट को मैच्योर होने के बाद तीन साल के लिए और बढ़ाया जा सकता है।

पोस्ट ऑफिस की वेबसाइट की जानकारी के मुताबिक 01.04.2023 से ब्याज दर निम्न प्रकार से हैं: - 8.2% वार्षिक जो पहली बार जमा करने की तिथि से 31 मार्च / 30 सितम्बर / 31 दिसंबर को देय और उसके बाद ब्याज 31 मार्च, 30 जून, 30 सितंबर और 31 दिसंबर को देय होगा। 
 
क्या आयकर में मिलती है छूट : स्कीम में निवेश पर ब्याज संबंधित डाकघर, या ईसीएस में उपलब्ध बचत खाते में ऑटो क्रेडिट के माध्यम से निकाला जा सकता है। एमआईएस खाते के सीबीएस डाकघर में है होने की अवस्था में मासिक ब्याज को किसी भी सीबीएस डाकघर में खोले गए बचत खाते में जमा किया जा सकता है।
 
ब्याज कर योग्य है यदि सभी एससीएसएस खातों में कुल ब्याज एक वित्तीय वर्ष में रु. 50,000 / - से अधिक है तब भुगतान किए गए कुल ब्याज से निर्धारित दर पर टीडीएस काटा जाएगा। यदि 15 G / 15H जमा किया जाता है और अर्जित ब्याज निर्धारित सीमा से अधिक नहीं है तो कोई टीडीएस नहीं काटा जाएगा। Edited by :  Sudhir Sharma
ये भी पढ़ें
अकाली नेता बादल ने गृहमंत्री शाह से की मुलाकात, भारत-कनाडा संबंधों को लेकर जताई चिंता