सेंसेक्स 2,476 अंक उछला, एक दिन में अब तक की सबसे बड़ी तेजी

पुनः संशोधित मंगलवार, 7 अप्रैल 2020 (17:00 IST)
मुंबई। वैश्विक बाजारों में तेजी के बीच दोनों सूचकांकों बंबई शेयर बाजार का और निफ्टी में मंगलवार को अंकों के लिहाज से किसी एक दिन में अब तक की सबसे बड़ी तेजी आई। वैश्विक स्तर पर मामलों में वृद्धि की गति थोड़ी हल्की पड़ने और इसके अब नीचे आने के संकेत से वैश्विक बाजारों में तेजी रही जिसका असर घरेलू बाजारों पर भी पड़ा।
अवकाश के कारण छोटे कारोबारी सप्ताह में शुरुआत अच्छी रही और तीस शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 2,476.26 यानी 8.97 प्रतिशत की जोरदार बढ़त के साथ 30,067.21 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह, एनएसई निफ्टी 708.40 अंक यानी 8.76 प्रतिशत मजबूत होकर 8,792.20 अंक पर बंद हुआ।

दोनों सूचकांकों अंकों के हिसाब से यह एक दिन की सबसे बड़ी तेजी रही जबकि प्रतिशत के हिसाब से यह मई 2009 के बाद की सर्वाधिक ऊंची छलांग है।

सेंसेक्स के शेयरों में सभी 30 शेयर लाभ में रहे। उनमें से 14 में 10 प्रतिशत से अधिक की तेजी आई।
इंडसइंड सर्वाधिक 22 प्रतिशत लाभ में रहा।
उसके बाद क्रमश: एक्सिस बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, आईसीआईसीआई बैंक, एचयूएल, मारुति, एचसीएल टेक और हीरो मोटोकॉर्प का स्थान रहा। बाजार में तेजी से बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 7.9 लाख करोड़ रुपए बढ़ा।

आनंद राठी के इक्विटी शोध प्रमुख नरेंद्र सोलंकी ने कहा कि एशिया के अन्य बाजारों में तेजी के साथ घरेलू बाजार बढ़त के साथ खुला। इसका कारण वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस के मामलों में कुछ कमी है...।

उन्होंने कहा कि भारतीय बाजार को इस रिपोर्ट से भी बल मिला है कि वित्त मंत्रालय अर्थव्यवस्था के लिए दूसरे राहत पैकेज पर काम कर रहा है।

कई अन्य विश्लेषकों ने कहा कि घरेलू शेयर बाजारों में तेजी वैश्विक बाजरों के अनुरूप है। इसका कारण इटली, फ्रांस, जर्मनी में नए मामलों में उतनी वृद्धि नहीं हो रही है और मरने वालों की दैनिक संख्या स्पेन तथा इटली जैसे देशों में कुछ कम हुई है।
इसके अलावा निवेशकों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान का भी असर पड़ा है जिसमें उन्होंने मंत्रालयों से 14 अप्रैल के बाद कारोबारी गतिविधियों को आगे बढ़ाने की योजना तैयार करने को कहा है।

वैश्विक मोर्चे पर चीन में शंघाई, हांगकांग, जापान में तोक्यो और दक्षिण कोरिया के सोल बाजार के सूचकांकों में 2 प्रतिशत तक सुधार रहा। यूरोप के प्रमुख बाजारों में भी शुरुआती कारोबार में 4 प्रतिशत तक की तेजी रही।
उधर, वैश्विक मानक ब्रेंट क्रूड वायदा का भाव 2.48 प्रतिशत मजबूत होकर 33.87 डॉलर बैरल पर पहुंच गया। ओपेक (तेल निर्यातक देशों का संगठन) की इस सप्ताह प्रस्तावित बैठक में आपूर्ति में कमी किए जाने को लेकर समझौता होने की उम्मीद से तेल में तेजी आई है। (भाषा)




और भी पढ़ें :