इंदौर के आईपीएल मैच में 25 हजार तो कुश्ती में 10 हजार दर्शकों ने बांधा समां

सीमान्त सुवीर|

में 8 अप्रैल को जब शाम 4 बजे होलकर स्टेडियम पर किंग्स इलेवन पंजाब और पुणे सुपरजाइंट्स के बीच का मैच खेला गया, तब 25 हजार दर्शक मौजूद थे, वह भी चिलचिलाती धूप, गर्मी और उमस का सामना करने के बाद सिर्फ अपना स्टेटस बताने के लिए जमा हुए थे लेकिन इससे दीगर क्या आप यह कल्पना कर सकते हैं कि इंदौर के ही पर जब रविवार को 'का आयोजन किया गया तो उसे देखने के लिए 10 हजार दर्शक मौजूद थे? जी हां, यह सही आंकड़ा है और इससे ज्यादा भी हो सकता है क्योंकि कुश्ती दीवानों का जमघट बढ़ता ही जा रहा था...
योगेन्द्र सोनी (दंगल आयोजक), तरबेज खान (दंगल संयोजक) और मुन्ना हटकर (दंगल आयोजक) ने मिलकर इंदौर की कुश्ती प्रेमी जनता के लिए इसका आयोजन किया था, जहां सबसे बड़े इनाम में रखी थी चमचमाती मारुति ब्रेंजा कार। यही नहीं, हीरो मोटरसाइकल भी मंच पर पहलवानों का जोश बढ़ा रही थी। उद्योगपति योगेन्द्र सोनी का पहलवानी से दूर-दूर तक का नाता नहीं रहा है, लेकिन कुश्ती के शौक से इन तीन दोस्तों में इस तरह का बड़ा दंगल करने का जुनून सवार हुआ और उसे इन्होंने अमलीजामा पहनाया। तरबेज और मुन्ना खुद पहलवान रहे हैं और देखते ही देखते शाम 6 बजे से दशहरा मैदान का अस्थायी कुश्ती स्टेडियम दर्शकों से पट पड़ा...देर रात तक कुश्ती एरिना में दांव पर दांव लग रहे थे...
लड़कियों की कुश्ती के मुकाबले का दृश्य
मंच पर एक से एक सूरमा पहलवान और उस्ताद मौजूद थे तो दूसरी तरफ दो बड़ी एलईडी स्क्रीन पर दर्शक कुश्ती मुकाबलों को देखने के साथ ही साथ तेज आवाज बज रहे में फिल्म 'दंगल' के टाइटल सांग 'दंगल दंगल' पर अपने पैर थिरका रहे थे। गजब का कुश्ती माहौल देखकर यही लगा कि किसी जमाने में इस शहर की पहचान 'कुश्ती दंगलों' से होती थी, वह अभी लुप्त नहीं हुई है। युवाओं में अभी भी कुश्ती को लेकर वही दिवानगी है जो क्रिकेट के लिए देखी जाती है। मां अहिल्या की इसी नगरी में 'हिंद केसरी' मास्टर चंदगीराम भी आकर अपना मुकाबला लड़ चुके हैं।
10 हजार कुश्ती प्रेमी दर्शकों को किसी ने 'पीले चावल' भेजकर आने का न्योता नहीं दिया था, असल में कुश्ती का प्रेम ही ही उन्हें दशहरा मैदान खींच लाया था। इस आयोजन को देखकर नई उम्मीद जागी है। पहलवानों पर इनामों की बरसात और विजेता को मारुति ब्रेंजा कार दांव रखना इस बात का सबूत है कि आज भी मिट्‍टी की असली कुश्ती के प्रति दर्शकों का जबरदस्त आकर्षण है।

दंगल संयोजक सोनी के अनुसार मुख्य कुश्ती हिंद केसरी (पंजाब) हरकेश खली और हरियाणा के मौसम खत्री पहलवान के बीच है। खत्री 1 करोड़ की इनामी कुश्ती के विजेता हैं और एशियाड में कांस्य पदक जीतने के अलावा 'भारत केसरी' भी रह चुके हैं। इस दंगल में शाम 6 बजे से छोटे बच्चों की 21 जोड़े लिखी गई थी, जबकि 30 जोड़ खड़ी कुश्ती हुई। दंगल में लड़कियों की भी 6 खड़ी कुश्तियां लड़ी गईं।
'सुल्तान' महिला पहलवान नीलिमा बोरासी ने मुकाबले के पूर्व पुरुष पहलवान भीमा को चुनौती दी
फिल्म में अभिनेत्री अनुष्का शर्मा को महिला कुश्ती के गुर सिखाने वाले इंदौर की नीलिमा बोरासी ने निमाड़ के पुरुष पहलवान भीमा को चुनौती दी। नीलिमा 2014 के सीनियर नेशनल में पदक जीत चुकी हैं। उन्हें जीतू जिराती की तरफ से 11 हजार रुपए का पुरस्कार दिया गया। मुन्ना बोरासी की बेटी नीलिमा ने बहुत शानदार दांव लगाए और जीत हासिल की।
मुख्य कुश्ती के विजेता को दी जाने वाली कार
सोनी के अनुसार इस दंगल में हरियाणा, पंजाब, झांसी, उज्जैन, देवास, इंदौर की कुल 21 जोड़े हिस्सा लिया। अन्य आकर्षण कुश्ती मुकाबलों में छत्रसाल अखाड़े के सतेन्दर मोखरा (भारत केसरी) की टक्कर दिल्ली के वरुण गुर्जर (भारत केसरी), देवास के मध्यप्रदेश केसरी राज सांगते की टक्कर बुंदेलखंड केसरी रह चुके झांसी के परमवीर से और झांसी के शैतान सिंह की पंजाब के सचिन पहलवान से टक्कर रही।

दशहरा मैदान पर जब हजारों कुश्ती प्रेमी इन मुकाबलों का लुत्फ उठा रहे थे, तब इंदौर की महापौर मालिनी गौड़ भी मंच पर पहुंच गई थीं। इस पूरे आयोजन को ड्रोन कैमरे से कवर किया जा रहा था। लग रहा था कि वाकई इंदौर में होने वाले दंगल भी कितने हाईटैक हो गए हैं। इतने बड़े कुश्ती मेले को संभालने के लिए आयोजकों ने बाउंसरों को भी तैनात किया था, जो पूरी शालीनता के साथ अपनी जिम्मेदारी वहन कर रहे थे।

यहां पर यह भी महसूस हुआ कि पहलवानों का उत्साह बढ़ाने के लिए 10 हजार दर्शकों की मौजूदगी आईपीएल में मौजूद क्रिकेट के 25 हजार दर्शकों की संख्या पर बहुत भारी पड़ रही थी...इस तरह के आयोजनों से एक बार फिर इंदौर शहर कुश्ती का सबसे बड़ा केंद्र बन सकता है। आमिर खान की फिल्म 'दंगल' ने देश में महिला ही नहीं पुरुष वर्ग के लिए भी एक तरह से 'कुश्ती क्रांति ला दी है, जो सुकून देने वाली है।


और भी पढ़ें :