कोर्ट पर दुश्मन, रोजर फेडेरर और राफेल नडाल के साथ में रोने का वीडियो हुआ वायरल

Last Updated: शनिवार, 24 सितम्बर 2022 (17:49 IST)
हमें फॉलो करें
के दो महारथियों और रफेल नडाल ने एक-दूसरे के बगल में बैठकर हाथ पकड़कर एक साथ रोते हुए लोगों को एक और अविस्मरणीय पल दिया जिसे भविष्य में भी कभी नहीं भूला जा सकेगा।

लंदन के ओ टू एरेना में एक भी आंख ऐसी नहीं थी जो नम नहीं हो जहां फेडरर ने लीवर कप के दौरान टेनिस के खेल से अश्रुपूर्ण विदाई ली।यह अविस्मरणीय और भावनात्मक क्षण था।

जो खिलाड़ी फौलाद के बने प्रतीत होते थे वे भावनाओं में पिछलते नजर आ रहे थे। कोई संकोच नहीं था, कोई शर्म नहीं थी। यह ऐसा ही अवसर था।जब फेडरर अपना आखिरी मैच खेलने के बाद अपने साथियों, अपने प्रशंसकों और परिवार का शुक्रिया अदा करने लगे तो उनकी आंखों से आंसू छलक पड़े और फिर वह जोर-जोर से रोने लगे।

यह अविस्मरणीय क्षण था, आखिर फेडरर भी इंसान ही हैं।इसमें कोई संदेह नहीं कि ये दोनों टेनिस कोर्ट पर कदम रखने वाले सबसे कड़े प्रतिद्वंद्वी रहे जिन्होंने खेल को फिर से परिभाषित किया। उन्होंने दिखाया कि मानव शरीर को कितना मजबूत किया जा सकता है और क्या हासिल किया जा सकता है।

और इसके बावजूद उन्होंने दिखाया कि उनके फौलादी शरीर के अंदर उनके पास बच्चों जैसा दिल है जो जीत के उत्साह और हार की पीड़ा से कहीं अधिक चीजें समझता है।

उन्होंने दिखाया कि खेल के मैदान में कड़े प्रतिद्वंद्वी होने के बावजूद आप अपने प्रतिद्वंद्वियों के प्रति सम्मानपूर्ण सकते हैं। यह एक प्रेरक मानवीय पहलू है जो फेडरर और नडाल को आज की दुनिया में एक अलग मुकाम पर ले जाता है जब आक्रामकता की आड़ में दूसरे का अपमान करना फैशन बन गया है।

उन्होंने अपने हाथ में रैकेट लेकर जो किया वह हमेशा नवोदित खिलाड़ियों के लिए बहुमूल्य शिक्षा रहेगी। उनका सार्वजनिक आचरण और जिस तरह से उन्होंने खुद को आगे बढ़ाया, वह बहुमूल्य और अनुकरणीय है।

भारतीय क्रिकेट के दिग्गज विराट कोहली ने भी उनकी खेल भावना की सराहना की।कोहली ने दोनों की तस्वीर के साथ ट्वीट किया, ‘‘किसने सोचा था कि प्रतिद्वंद्वी एक-दूसरे के प्रति ऐसा महसूस कर सकते हैं। यही खेल की खूबसूरती है। यह मेरे लिए अब तक की सबसे खूबसूरत खेल तस्वीर है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘जब आपके साथी आपके लिए रोते हैं तो आपको पता चलता है कि ईश्वर से मिली प्रतिभा के साथ आपने क्या हासिल किया है। मेरे मन में इन दोनों के लिए सम्मान के अलावा कुछ नहीं है।’’

फेडरर की विनम्रता को टेनिस के उनके साथियों ने भी प्रमाणित किया है। हाल ही में एक खिलाड़ी ने खुलासा किया कि कैसे ‘लॉकर रूम’ (जहां खिलाड़ी अपना सामान रखते हैं और कपड़े बदलते हैं) के अंदर फेडरर ‘कृपया’ और ‘धन्यवाद’ के बिना बात नहीं करते।

ऐसा नहीं है कि उनके पास ऐसे क्षण नहीं थे जहां वे लड़खड़ा गए हों लेकिन दो दशकों से अधिक समय तक मर्यादा, सम्मान और नम्रता बनाए रखना आश्चर्यजनक है।

उसके पास सबसे मुश्किल शॉट हैं, असंभव से दिखने वाले कोण से सहजता के साथ शॉट खेलना और फिर भी अहंकार उससे कोसों दूर था।वह एक जादुई शॉट खेलेता था लेकिन ऐसा करने के बाद चिल्लता नहीं था। बस एक प्यारी सी मुस्कान के साथ वह बेसलाइन पर वापस चला जाता और अपने अगले शॉट के लिए तैयार हो जाता।

फेडरर ने अपने करियर में न सिर्फ 20 ग्रैंडस्लैम जीते जबकि अपने व्यक्तित्व से अपने प्रतिद्वंद्वियों और प्रशंसकों का दिल भी जीता।

रोजर फेडरर की कमी खलेगी। उनके जैसा कोई दूसरा नहीं होगा।रोजर फेडेरर ने अपने संन्यास की घोषणा पहले ही कर दी थी। वह राफेल नडाल के साथ लेवर कप में अपना अंतिम मुकाबला शुक्रवार को खेले। अमूमन यह दोनों एकल प्रतियोगिता में आमने सामने होते हैं।

दोनों का मुकाबला अमेरिका की जोड़ी फ्रांसेस टियाफो और जैक सॉक से था। हालांकि मैच जब खत्म हुआ तो राफेल और नडाल की जोड़ी 4-6, 7-6 (2), 11-9 से मैच हार गई।

इस मैच के हारने के बाद रोजर फेडरर के अंतरराष्ट्रीय करियर का भी अंत हो गया। ऐसे में एकल प्रतियोगिता में उनके सबसे बड़े प्रतिद्वंदी राफेल नडाल रोजर फेडरर के साथ रोने लग गए यह वीडियो ट्विटर पर खासा वायरल हुआ।
7 मिनट के विदाई भाषण में भी फेडरर का था रूंधा गला

यही नहीं

7 मिनट के विदाई भाषण में भी रोजर फेडरर

ने अपने आंसू कई बार बहाए। यह वीडियो भी खेल प्रेमियों के कारण खासा वायरल हुआ




और भी पढ़ें :