क्या आपको पता है, खेल रत्न और अर्जुन पुरस्कार विजेता को कितनी राशि मिलती है

Last Updated: शनिवार, 29 अगस्त 2020 (14:52 IST)
नई दिल्ली। केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने 29 अगस्त को खेल दिवस के दिन शनिवार को राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों में भारी वृद्धि की घोषणा की जिसके तहत अब देश के सर्वोच्च सम्मान राजीव गांधी के विजेता को 25 लाख रुपए और के विजेता को 15 लाख रुपए दिए जाएंगे।

रिजिजू ने घोषणा की कि राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के सात वर्गों में से चार वर्गों की पुरस्कार राशि बढ़ाई जा रही है और अब खेल रत्न विजेता को साढ़े सात लाख रुपए के बजाए 25 लाख रुपए, अर्जुन पुरस्कार विजेता को पांच लाख रुपए के बजाए 15 लाख रुपए, द्रोणाचार्य लाइफटाइम को पांच लाख रुपए के बजाए 15 लाख रुपए, द्रोणाचार्य नियमित को पांच लाख रुपए के बजाए 10 लाख रुपए और आजीवन ध्यानचंद अवार्डी को पांच लाख रुपए के बजाए 10 लाख रुपए दिए जाएंगे।

केंद्रीय खेल मंत्री ने कहा, 'हमने फैसला लिया है कि खेल पुरस्कार और एडवेंचर की पुरस्कार राशि को बढ़ाया जाए। हमने खेल पुरस्कारों की पुरस्कार राशि को बढ़ा दिया है और एडवेंचर की पुरस्कार राशि को एक-दो दिन में बढ़ाया जाएगा।' रिजिजू ने कहा, 'खेल पुरस्कारों की पुरस्कार राशि की आखिरी बार समीक्षा 2008 में की गई थी। इन पुरस्कारों की पुरस्कार राशि की कम से कम हर 10 वर्ष में समीक्षा होनी चाहिए। यदि हर क्षेत्र में प्रोफेशनल्स ने अपनी कमाई में वृद्धि देखी है तो हमारे खिलाड़ियों के साथ ऐसा क्यों न हो। इसलिए हम इन खेल पुरस्कारों की राशि में वृद्धि की घोषणा कर रहे हैं।'



और भी पढ़ें :