मैच जीतने के लिए फेडरर को मौके की तलाश

Author मयंक मिश्रा| Last Updated: मंगलवार, 10 जुलाई 2018 (12:54 IST)
यूनिक्लो के जो कपड़े फिलहाल फेडरर पहनकर खेल रहे हैं, वैसे ही कपड़े खरीदने के लिए 2019 तक इंतजार करना पड़ सकता है, क्योंकि यह अभी डिजाइन फेस में ही हैं, जिसके चलते खुद फेडरर के पास ऐसे सिर्फ 15 जोड़ कपड़े ही हैं। फेडरर को इनकी ज्यादा जरूरत पहले हफ्ते में तो नहीं पड़ी थी, क्योंकि वे बिना पसीना बहाए ही जीतते दूसरे हफ्ते में पहुंच गए थे, मगर दूसरे हफ्ते में इनकी जरूरत पड़ सकती है, आज उनका मैच मेनेरीनो से है। फ्रांस के मेनेरीनो पिछले साल भी यहां चौथे दौर तक पहुंचे थे, और जोकोविच से हारे थे।

मगर पिछले साल से उनमें खासे बदलाव आए हैं, जहां उनकी पहचान एक जल्दी आपा खो देने वाले खिलाडी की थी, वहीं इस साल वे काफी शांत हैं, उसकी वजह वे अपने कोच को मानते हैं। उनके शांत होने से वे मैच इसलिए तो नहीं हारने वाले हैं कि उनको गुस्सा आ गया था, मैच जीतने के लिए फेडरर को ही मौके बनाने होंगे, और जिस तरह उन्होंने पिछले मैच में SABR का उपयोग किया था, वे भी आत्मविश्वास से भरे हुए हैं, मैच जरूर दिलचस्प रहेगा, मगर रिजल्ट फेडरर का तीन सेटों में जीतना ही लग रहा है।

सेंटर कोर्ट पर फेडरर के बाद सेरेना का मैच है, उनको रोडिना से खेलना है, जिन्होंने पिछले मैच में मेडिसन किइस को हराया था। पिछले हफ्ते महिलाओं में टॉप खिलाड़ियों के हारने के बीच सेरेना ही मजबूती से डटीं हुईं थीं, और आज भी उनको मैच में ज्यादा दिक्कतें होंगी लगता नहीं है। सेंटर कोर्ट पर सेरेना के बाद नडाल और वेसेली का मैच होना है, नडाल इसके पहले दो हार्ड हिटर्स को हरा चुकें हैं, और वेसेली को इससे सबक लेते हुए नडाल के खिलाफ कुछ नया करना होगा नहीं तो उनका भी मैच को चौथे सेट तक ले जा पाना मुश्किल है। नडाल यहां काफी डिफेंसिव खेल रहे हैं और बैकहैंड से ज्यादातर स्लाइस ही खेल रहे हैं, वेसेली इसी शॉट पर अटैक करना चाहेंगे, क्योंकि फोरहैंड उनका कितना खतरनाक है, पिछले मैच में वे बता चुके हैं।

आज के सेंटर कोर्ट के टिकट जिनको मिले हैं वे शायद ही कुछ और मांग सकते थे, वहीं ऐसा ही हाल कोर्ट नंबर 1 के टिकट पाने वालों का भी है, यहां पहला मैच कर्बर और बेलिंडा के बीच होने वाला है, बेलिंडा अच्छी खिलाडी हैं मगर उनको थोड़े समय बाद चोट लगती रहती है, उनका पूरी तरह से फिट होना कर्बर के लिए भारी पड़ सकता है। यहां दूसरे मैच में मोंफिल्स और एंडरसन आमने सामने हैं,
पिछले मैच में मोंफिल्स ने क़्वेरी की तेज सर्विस झेलकर इस मैच की भी प्रैक्टिस जरूर कर ली होगी, क्योंकि एंडरसन की सर्विस ही उनका सबसे बड़ा हथियार है, मोंफिल्स भले ही फेडरर, नडाल जितने बड़े खिलाड़ी नहीं हैं, मगर लोकप्रियता के मामले में वे किसी से कम नहीं हैं, और यह मैच भी रोमांच के मामले में किसी और मैच से कम नहीं होना चाहिए।

कोर्ट नंबर 1 का आखिरी मैच जोकोविच और केशेनोव के बीच खेला जाना है, जोकोविच के अनुसार, पिछले मैच में इंग्लैंड के एडमंड को हराने के बाद अब इंग्लैंड का शायद कोई फैन देखेगा, मगर जोकोविच का मैच देखने के लिए बाकी सारी चीजें छोड़ी जा सकतीं हैं। इन शो कोर्ट्स के अलावा भी दर्शकों के लिए काफी कुछ रहेगा देखने के लिए, आज प्लिसकोवा, ऑस्टेपेनको, डेलपोत्रो, निशिकोरी, राओनिच भी मैदान पर होंगे। इतने सारे टक्कर के मैचों के कारण ही शायद इसे मेनिएक मंडे का नाम दिया गया है।



और भी पढ़ें :