0

Deepawali 2019 : घर को बनाना है रंगीन और खूबसूरत तो अपनाएं वास्तु-फेंगशुई के ये 5 टिप्स

शनिवार,अक्टूबर 19, 2019
diwali colours
0
1
इस रात श्वेत आसन पर बैठकर चांदी की थाली में मखाने, खीर, चावल और सफेद फूल का भोग चंद्रदेव को लगाएं।
1
2
शरद पूर्णिमा को कोजागिरी पूर्णिमा व्रत और रास पूर्णिमा भी कहा जाता है तथा कुछ क्षेत्रों में इस व्रत को कौमुदी व्रत भी कहा जाता है। इस मौके पर आइए जानते हैं पौराणिक एवं प्रचलित कथा...
2
3
क्या आप जानते है आपको यदि कर्ज की समस्या है तो शरद पूर्णिमा के दिन आपको कर्ज से मुक्ति मिल सकती है कैसे आइए जानते हैं...
3
4
चंद्र देवता हिंदू धर्म के अनेक देवतओं मे से एक हैं। उन्हें जल तत्व का देव कहा जाता है। चंद्रमा की महादशा दस वर्ष की होती है। चंद्रमा के अधिदेवता अप्‌ और प्रत्यधिदेवता उमा देवी हैं।
4
4
5
चन्द्रमा माता का सूचक और मन का कारक है। कुंडली में चन्द्र के अशुभ होने पर मन और माता पर प्रभाव पड़ता है। लाल किताब के अनुसार कुंडली में चन्द्र के दोषपूर्ण या खराब होने की स्थिति के बारे में विस्तार से बताया गया है। यहां जानिए शरद पूर्णिमा पर ...
5
6
शरद पूर्णिमा पर चंद्रमा व भगवान विष्णु का पूजन कर, व्रत कथा पढ़ी जाती है। धर्म ग्रंथों के अनुसार इसी दिन चन्द्र अपनी सोलह कलाओं से परिपूर्ण होते हैं। इस मौके पर आइए जानते हैं पौराणिक एवं प्रचलित कथा...
6
7
सुंदर सलोने चंद्रमा को देवताओं के समान ही पूजनीय माना गया है। चंद्रमा के जन्म की कहानी पुराणों में अलग-अलग मिलती है।
7
8
दशहरे से शरद पूर्णिमा तक चंद्रमा की चांदनी विशेष गुणकारी, श्रेष्ठ किरणों वाली और औषधियुक्त होती है। इस समयावधि की रातों में शीतल चंद्रमा की चांदनी का लाभ उठाना चाहिए।
8
8
9
बड़ी ही उत्तम तिथि है शरद पूर्णिमा। इसे कोजागरी व्रत के रूप में भी मनाया जाता है। कहते हैं यह दिन इतना शुभ और सकारात्मक होता है कि छोटे से उपाय से बड़ी-बड़ी विपत्तियां टल जाती हैं।
9
10
अगर आप इस बार शरद पूर्णिमा का व्रत रखने वाले है, तो आपको कुछ जरूरी बातों पर भी ध्यान देना चाहिए और यह 5 सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए -
10
11
कुबेर भगवान शिव के परमप्रिय सेवक भी हैं। धन के अधिपति होने के कारण इन्हें शरद पूर्णिमा की रात मंत्र साधना द्वारा प्रसन्न करने का विधान बताया गया है।
11
12
मां लक्ष्मी इस दिन विशेष प्रसन्न होती हैं क्योंकि मान्यतानुसार इस दिन समुद्र मंथन से वे अवतरित हुई थीं...इस दिन उनसे मनचाहा वरदान पाना आसान होता है। अत: शरद पूनम पर मां लक्ष्मी की आराधना अवश्य करें।
12
13
लंकाधिपति रावण शरद पूर्णिमा की रात चंद्र किरणों को दर्पण के माध्यम से अपनी नाभि पर ग्रहण करता था। इस प्रक्रिया से उसे पुनर्योवन शक्ति प्राप्त होती थी।
13
14
शरद पूर्णिमा पर चंद्रमा के 111 ऐसे नाम, जिनके जप से चंद्रदेव प्रसन्न होते हैं। कुंडली के चंद्र दोष समाप्त होते हैं और चंद्र से संबंधित बीमारी में भी लाभ मिलता है।
14
15
लक्ष्मी प्राप्ति के लिए शरद पूर्णिमा के व्रत को विशेष रूप से किया जाता है। इस दिन जागरण करने वाले की धन-संपत्ति में वृद्धि होती है।
15
16
साबूदाने की खीर बनाने से एक-दो घंटे पूर्व साबूदाने को धोकर भीगो दें। अब एक बर्तन में दूध को गरम कर अच्छा उबलने दें।
16
17
शरद पूर्णिमा के अवसर पर चेहरे पर चांद सा निखार पाने चाहती है, तो हम आपको बता रहे हैं घर पर ही गोल्ड फेशियल करने की आसान विधि -
17
18
शरद पूर्णिमा चन्द्रमा की चांदनी विशेष गुणकारी, श्रेष्ठ किरणों वाली और औषधियुक्त होती है। इस चांदनी रात में शीतल चन्द्रमा की रोशनी का लाभ उठाना चाहिए।
18
19
शरद पूर्णिमा के दिन ये 5 खास ज्योतिषीय उपाय करने से मिलेगा आपको सुकून। खासकर यदि आपकी कुंडली में राहू के संयोग से किसी भी भाव में चंद्रग्रहण है तो वह हट जाएगा और बंद भाग्य खुल जाएगा।
19