घंटी बजाने के चमत्कार, जानिए

मंदिर में घंटी क्यों लगाते हैं?

FILE
हिंदू धर्म में देवालयों व मंदिरों के बाहर घंटियां या घडिय़ाल पुरातन काल से लगाए जाते हैं। जैन और हिन्दू मंदिर में घंटी लगाने की परंपरा की शुरुआत प्राचीन ऋषियों-मुनियों ने शुरू की थी। इस परंपरा को ही बाद में बौद्ध धर्म और फिर ईसाई धर्म ने अपनाया। बौद्ध जहां स्तूपों में घंटी, घंटा, समयचक्र आदि लगाते हैं तो वहीं चर्च में भी घंटी और घंटा लगाया जाता है।


घर में होंगे यह सब, तो नहीं रहेगी आफत
मंदिर में जाने से पहले आखिर क्यों बजाते हैं घंटी?

देवालयों में घंटी और संध्यावंदन के समय बजाएं जाते हैं। संध्यावंदन 8 प्रहर की होती है जिसमें से मुख्‍य पांच और उसमें से भी प्रात: और संध्या यह दो प्रमुख है। घंटी और घड़ियाल ताल और गति से बजाया जाता है।

घंटी बजाने से क्या होता है, अगले पन्ने पर...




और भी पढ़ें :