भारत के महान ऋषि वामदेव

angira rishi ke vanshaj
अनिरुद्ध जोशी| Last Updated: गुरुवार, 29 जुलाई 2021 (15:52 IST)
वैदिक काल के गौतम ऋषि के पुत्र थे इसीलिए उन्हें गौतम भी कहा जाता था। वामदेव जब मां के गर्भ में थे तभी से उन्हें अपने पूर्वजन्म आदि का ज्ञान हो गया था। वामदेव जब मां के गर्भ में थे तभी से उन्हें अपने पूर्वजन्म आदि का ज्ञान हो गया था। उन्होंने सोचा, मां की योनि से तो सभी जन्म लेते हैं और यह कष्टकर है, अत: मां का पेट फाड़ कर बाहर निकलना चाहिए। वामदेव की मां को इसका आभास हो गया। अत: उसने अपने जीवन को संकट में पड़ा जानकर देवी अदिति से रक्षा की कामना की। तब वामदेव ने इंद्र को अपने समस्त ज्ञान का परिचय देकर योग से श्येन पक्षी का रूप धारण किया तथा अपनी माता के उदर से बिना कष्ट दिए बाहर निकल आए।

1. कहते हैं कि वामदेव अपने पिछले जन्म में मनु, ऋषि कक्षीवत (कक्षीवान) और कवि उशना थे।

2. वामदेव ने इस देश को सामगान (अर्थात् संगीत) दिया तथा वे जन्मत्रयी के तत्ववेत्ता माने जाते हैं। भरत मुनि द्वारा रचित भरत नाट्य शास्त्र सामवेद से ही प्रेरित है। हजारों वर्ष पूर्व लिखे गए सामवेद में संगीत और वाद्य यंत्रों की संपूर्ण जानकारी मिलती है।

3. वामदेव ऋग्वेद के चतुर्थ मंडल के सूत्तद्रष्टा थे।
4. एक बार इंद्र ने युद्ध के लिए वामदेव को ललकारा था तब इंद्रदेव परास्त हो गए। वामदेव ने देवताओं से कहा कि मुझे दस दुधारु गाय देनी और मेरे शत्रुओं को परास्त करना होगा तभी में इंद्र को मुक्त करूंगा। इंद्र और सभी देवता इस शर्त से कुतिप हो चले थे। बाद में वामदेव ने इंद्र की स्तुति करके उन्हें शांत कर दिया था।

5. एक ऐसा भी वक्त आया की वामदेव निर्धन हो चले थे तब उनके सभी मित्रों से उनसे मुंह मोड़ लिया था। आश्रम के सभी फलदार पेड़ पौधे सूख गए थे। उनका तपोबल भी क्षीण हो चला था। पत्नी के अतिरिक्त सभी ने वामदेव ऋषि का साथ छोड़ दिया था। खाने के लाले पड़ गए थे। तब इंद्र ने उनकी सहायता करके उन्हें तृप्त किया था।
6. वामदेव शिवजी के भक्त थे और में शरीर पर भस्म धारण करते थे। एक बार एक ब्रह्मराक्षस उन्हें खाने आया और ज्यों ही वामनेव को पकड़ा तो उसके शरीर पर भस्म लग गई। भस्म लगने से उसके पापों का नाश हो गए तथा उसे शिवलोक की प्राप्ति हुई। वामदेव के पूछने पर उस ब्रह्मराक्षस ने बताया कि वह पच्चीस जन्म पूर्व दुर्जन नामक राजा था, अनाचारों के कारण मरने के बाद वह रुधिर कूप में डाल दिया गया। फिर चौबीस बार जन्म लेने के उपरांत वह ब्रह्मराक्षस बना।



और भी पढ़ें :