श्रीराम की खर-दूषण के साथ हुए युद्ध की सही तारीख, जानिए...

रामायण में उल्लेखित घटनाओं को वाल्मीकिजी ने उस काल में ग्रह नक्षत्रों के आधार पर तिथिबद्ध किया था। उन्होंने प्रत्येक घटना का जिक्र करते हुए उसके साथ उस काल की आकाशीय स्थिति का भी जिक्र किया है। इसी आधार पर वैज्ञानिकों की एक शोध संस्था आई सर्व ने उन आकाशीय स्थिति पर शोध कर यह जाना की यह स्थिति कब और किस काल में बनी थी।
वाल्मीकि रामायण के अनुसार वनवास के 13वें साल के मध्य में श्रीराम का खर-दूषण नामक राक्षस के साथ युद्ध हुआ था। उस समय सूर्यग्रहण लगा था और मंगल ग्रहों के मध्य में था। जब इस तारीख के बारे में कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर के माध्यम से जांच की गई तो पता चला कि यह तिथि 7 अक्टूबर 5077 ईसा पूर्व (अमावस्या) थी। अर्थात आज (2016) से 7093 वर्ष पहले प्रभु श्रीराम का खर और दूषण के साथ युद्ध हुआ था।
 
 
इस दिन जो सूर्यग्रहण लगा उसे पंचवटी (20 डिग्री उत्तर 73 डिग्री पूर्व) से देखा जा सकता था। उस दिन ग्रहों की स्थिति बिल्कुल वैसी ही थी जैसी वाल्मीकि जी ने वर्णित की। मंगल ग्रह बीच में था। एक दिशा में बुध, शुक्र तथा बृहस्पति थे तथा दूसरी दिशा में चंद्रमा, सूर्य तथा शनि थे।
 
-संदर्भ : (वैदिक युग एवं रामायण काल की ऐतिहासिकता: सरोज बाला, अशोक भटनाकर, कुलभूषण मिश्र)
 
अगले पन्ने पर खर और दूषण की वध कथा...
 



और भी पढ़ें :