क्या वेद, पुराण या नारद संहिता में लिखी है कोरोना के फैलने और समाप्त होने की भविष्यवाणी?

narad sanhita
अनिरुद्ध जोशी| Last Updated: शनिवार, 30 मई 2020 (16:20 IST)
सोशल मीडिया और कुछ टीवी चैनलों पर धर्मग्रंथों को लेकर कई दावे करने वाले आपको मिल जाएंगे। इन दावा करने वाले में कई पंडित पुरोहित भी शामिल हैं, लेकिन शास्त्र कहते हैं कि भविष्य अनिश्‍चित है और इस अनिश्‍चित भविष्य में कई घटनाएं निश्चित होती हैं।

आओ पहले जानते हैं ग्रहों की स्थिति :
साल 2019 में मकर और कुंभ राशि का स्वामी शनि ज्यादातर समय पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में स्थित रहा और 27 दिसंबर 2019 को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में प्रवेश कर गया। इस पूरे साल शनि धनु राशि में रहा। मतलब बृहस्पति की राशि में रहा। फिर साल 2020 में शनि 24 जनवरी को धनु से निकलकर मकर में पहुंचा। इसी वर्ष 11 मई 2020 से 29 सितम्बर 2020 तक शनि मकर राशि में वक्री अवस्था में गोचर हुआ। इसी वर्ष शनि 27 दिसम्बर 2020 को अस्त भी हो जाएंगे। शनि एक राशि में ढाई वर्ष रहते हैं।

अब ग्रहण को देख लेते हैं : 2019 का पहला सूर्य ग्रहण 6 जनवरी को और दूसरा 2 जुलाई को था। वर्ष 2019 का अंतिम और एक मात्र सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई दिया। इस सूर्य ग्रहण का सूतक काल 25 दिसंबर 2019 को शाम 05:33 से प्रारंभ होकर 26 दिसंबर 2019 को सुबह 10:57 बजे तक रहा। अब वर्ष 2020 का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून हो होगा।


अब संवत्सर की बात कर लेते हैं : वर्तमान में विक्रम संवत 2076-77 से प्रमादी नाम का संवत्सर प्रारंभ हुआ है। इसके पहले परिधावी नाम का संवत्सर चल रहा था। प्रमादी से जनता में आलस्य व प्रमाद की वृद्धि होगी।

नारद संहिता का दावा ये किया जा रहा है : दावा किया जा रहा है कि 10 हजार वर्ष पूर्व लिखी नारद संहिता में पहले ही कोरोना महामारी के फैलने और इसके खात्मा की भविष्यवाणी की गई है। दावा करने वाले इसके लिए एक श्लोक का उदारहण देते हैं...

भूपावहो महारोगो मध्यस्यार्धवृष्ट य:।
दु:खिनो जंत्व: सर्वे वत्सरे परिधाविनी।
अर्थात परिधावी नामक सम्वत्सर में राजाओं में परस्पर युद्ध होगा महामारी फैलेगी। बारिश असामान्य होगी और सभी प्राणी महामारी को लेकर दुखी होंगे।

ग्रह नक्षत्रों की स्थिति के आधार पर दावा : सूर्य ग्रहण और पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र से प्रारंभ हुआ यह कोराना वायरस दावे के अनुसार अगले सूर्य ग्रहण तक कम होकर 29 सितंबर को शनि के मकर राशि से निकल जाते तक समाप्त हो जाएगा।

जानकारों की माने तो जिस वर्ष में वर्ष का अधिपति अर्थात राजा शनि होता है वह वर्ष महामारियों को धरती पर लाता है। कुछ लोगों का दावा है कि आयुर्वेद, वशिष्ठ संहित और वृहत संहिता अनुसार जो ‍बीमारी पूर्वा भाद्रपद के नक्षत्र में फैलती है वह अपने चरम पर जाकर लाखों लोगों के काल का कारण बनती हैं क्योंकि इस नक्षत्र में फैले रोग में दवा का असर नहीं होता है।

दावे के अनुसार बृहत संहिता में वर्णन आया है कि 'शनिश्चर भूमिप्तो स्कृद रोगे प्रीपिडिते जना' अर्थात जिस वर्ष के राजा शनि होते है उस वर्ष में महामारी फैलती है। विशिष्ट संहिता अनुसार पूर्वा भाद्र नक्षत्र में जब कोई महामारी फैलती है तो उसका इलाज मुश्किल हो जाता है। विशिष्ट संहिता के अनुसार इस महामारी का प्रभाव तीन से सात महीने तक रहता है। जिस दिन चीन में यह महामारी फैली अर्थात 26 दिसंबर 2019 को पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र ही था और सूर्य ग्रहण भी। दावा किया गया है कि पूर्व के एक देश में ग्रहण के लगने के बाद फैलेगी एक महामारी।

भारत में 25 मार्च 2020 से नवसंवत्सर 2077 वर्ष लगा जिसका नाम प्रमादी है और जिसका राजा बुध एवं मंत्री चंद्र है। प्रमादी सम्वत्सर में अधिकतर जनता में आलस्य और रोग बढ़ जाते हैं। दूसरी ओर शनि अब वक्री हो गए हैं और 21 जून को साल का पहला सूर्य ग्रहण होने वाला है तो ऐसे में दावा किया जा रहा है कि यह महामारी का प्रकोप 21 जून के आते आते घट जाएगा। शनि 29 सितंबर तक मकर राशि में रहेगा तब तक यह रोग पूर्णत: समाप्त नहीं होगा।
हम इन दावों की पुष्टि नहीं करते लेकिन क्या दावा किया जा रहा है इसे जानने का अधिकार आपका है। आप अपने स्व:विवेक से काम लें। दरअसल, वेद, या नारद संहिता में किसी भविष्यवाणी का जिक्र नहीं किया गया है उन्होंने लिखा है कि फलां-फलां नक्षत्र में कोई रोग फैलता है या फलां-फलां संवत्सर में प्रजाओं में शोक व्याप्त होता है और राजा लोग परस्पर युद्ध करते हैं। हजारों वर्षों में यह ग्रहण, नक्षत्र, ग्रह स्थिति और परिधावी एवं प्रदादी सम्वत्सर कई बार आकर गुजर गए हैं और आगे भी आते रहेंगे।

अब इस तर्क से समझिये : मैं आपसे कह रहा हूं कि यह खिड़की खोल देने से अंदर हवा आती है। मतलब यह कि जब भी यह खिड़की खुलेगी तो हवा अंदर आएगी। इसी प्रकार जब भी ग्रहों, नक्षत्रों आदि की विशेष स्थिति बनेगी तो धरती पर रोग, शोक, युद्ध, महामारी आदि का जन्म होगा। यह कोई भविष्यवाणी नहीं है। यह ज्योतिष विज्ञान की चेतावनी है।



और भी पढ़ें :