काम की ये 12 रहस्यमय बातें, जानकर चौंक जाएंगे आप

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
विद्या : सम्मोहन विद्या भारतवर्ष की प्राचीनतम और सर्वश्रेष्ठ विद्या है। सम्मोहन विद्या को ही प्राचीन समय से 'प्राण विद्या' या 'त्रिकालविद्या' के नाम से पुकारा जाता रहा है। अंग्रेजी में इसे हिप्नोटिज्म कहते हैं। सम्मोहन का अर्थ वशीकरण नहीं है।
 
सम्मोहन व्यक्ति के मन की वह अवस्था है जिसमें उसका चेतन मन धीरे-धीरे तन्द्रा की अवस्था में चला जाता है और अर्द्धचेतन मन सम्मोहन की प्रक्रिया द्वारा निर्धारित कर दिया जाता है। साधारण नींद और सम्मोहन की नींद में अंतर होता है।
 
वर्तमान में इस विद्या के माध्यम से व्यक्ति की मानसिक चिकित्सा ही नहीं की जाती बल्कि उसके व्यक्तित्व को भी निखारा जाता है। द्वितीय विश्वयुद्ध में इसी विद्या द्वारा जापानी सेनाओं की पोजिशन जानी जा सकी थी। यह एक चमत्कारिक विद्या है। इस पर रशिया, जर्मन और अमेरिका में पहले भी बहुत रिसर्च हुए हैं।
 
आधुनिक रूप से सम्मोहन 18वीं शताब्दी से प्रारंभ हुआ था। इसी विद्या का एक रूप है जिसे मेस्मेरिज्म कहा जाता है। इसे अर्द्ध-विज्ञान के रूप में प्रतिष्ठित कराने का श्रेय ऑस्ट्रियावासी फ्रांस मेस्मर को है। 'हिप्नोटिज्म' शब्द का आविष्कार 19वीं शताब्दी के डॉ. जेम्स ब्रेड ने किया। 
 
अगले पन्ने पर छठा रहस्य...
 



और भी पढ़ें :