चीन में कौन से हैं प्रमुख धर्म

Last Updated: गुरुवार, 18 सितम्बर 2014 (11:00 IST)
हमें फॉलो करें
की सभ्यता विश्व की पुरातनतम सभ्यताओं में से एक है। प्राचीन चीन की बात करें तो के पहले चीन में कई महान राजवंशों का धर्म प्रचलित था। उनमें से एक शा राजवंश था, जो 2070 ईसा पूर्व था। तब भारत में युधिष्ठिर-अर्जुन के वंशजों का शासन था। शा वंश से पहले चीन में तीन अधिपतियों और पांच सम्राटों का काल था। पांच सम्राटों में से अंतिम सम्राट शुन था। शुन ने अपनी गद्दी यु महान को सौंपी और उसी से शा राजवंश सत्ता में आया। इसे शिया राजवंश भी कहा जाता था जिसके बाद शांग राजवंश का दौर आया, जो 1600 ईसापूर्व से 1046 ईसापूर्व तक चला। शांग राजवंश के बाद चीन में झोऊ राजवंश सत्ता में आया।
यदि विश्वस्तर पर देखा जाए तो बुद्ध के समय में चीन में कन्फ्यूशियस विचार, भारत में वैदिक और बुद्ध के विचार तथा ईरान में जरथुस्त्र विचारधारा का बोलबाला था, बाकी दुनिया ग्रीस को छोड़कर लगभग विचारशून्य ही थी। न धर्म था और न इस्लाम। ईसा मसीह के जन्म के पूर्व बौद्ध धर्म की गूंज येरुशलम तक पहुंच चुकी थी।> > चीन में झोऊ राजवंश का काल लंबे समय तक चला। इनके ही काल में चीन में कन्फ्यूशियस के विचार और बौद्ध धर्म (बुद्ध) का विकास हुआ। बाद में ताओवाद (लाओत्से तुंग), मोहीवाद (मोजी) और न्यायवाद (हान फेईजी और ली सी) भी खूब फला-फूला। लेकिन इन सभी के बीच बौद्ध धर्म ने अपनी जड़ें जमाईं और इसने चीन की भिन्न-भिन्न विचारधाराओं को एक सूत्र में बांध दिया। बौद्ध धर्म के कारण चीन में जातिगत एकता और शक्ति का विकास हुआ। इस विचारधारा के फैलने के कारण चीन में दासप्रथा के खात्मे के साथ ही छिन राजवंश का उदय हुआ। छिन के बाद हान ने 8वीं सदी तक राज्य किया।
इन सभी राजवंशों और धर्म व दर्शन के विकास के पूर्व महाभारत काल में चीन का नाम हरिवर्ष था। भारतीय धर्मग्रंथों के अनुसार उसे हरिवर्ष कहा जाता था। जम्बूदीप के राजा अग्नीघ्र के 9 पुत्र हुए- नाभि, किम्पुरुष, हरिवर्ष, इलावृत, रम्य, हिरण्यमय, कुरु, भद्राश्व और केतुमाल। राजा अग्नीघ्र ने उन सब पुत्रों को उनके नाम से प्रसिद्ध भूखंड दिया। हरिवर्ष को मिला आज के चीन का भाग, जो प्राचीन भूगोल के अनुसार जंबूद्वीप का एक भाग या वर्ष था। हरिवर्ष का उल्लेख जैन सूत्रग्रंथ 'जंबूद्वीप प्रज्ञप्ति' और हिन्दुओं के 'विष्णु पुराण' में मिलता है। खैर...

बौद्ध धर्म : बौद्ध धर्म चीन का प्रमुख धर्म है। बौद्ध धर्म वैसे तो भिक्षुओं के माध्यम से 200 ईसा पूर्व ही चीन में प्रवेश कर गया था। संभवत: उससे पूर्व, लेकिन राजाओं के माध्यम से यह व्यापक पैमाने पर पहली शताब्दी के आसपास चीन का राजधर्म बनने की स्थिति में आ गया था। धीरे-धीरे बौद्ध धर्म के कारण चीन में राष्ट्रीय एकता स्थापित होने लगी। राजवंशों के झगड़े कम होने लगे। आज बौद्ध धर्म चीन का प्रमुख धर्म है।

चीन में भाषा की दृष्टि से बौद्ध धर्म की 3 शाखाएं हैं यानी हान भाषा में प्रचलित बौद्ध धर्म, तिब्बती भाषी बौद्ध धर्म तथा पाली भाषी बौद्ध धर्म। इन तीन भाषी बौद्ध धर्म के भिक्षुओं की कुल संख्या 2 लाख से अधिक है। तिब्बती बौद्ध धर्म चीनी बौद्ध धर्म की एक शाखा है, जो चीन के तिब्बत स्वायत्त प्रदेश, भीतरी मंगोलिया स्वायत्त प्रदेश तथा छिंग हाई प्रांत आदि क्षेत्रों में प्रचलित है।

तिब्बती जाति, मंगोल जाति, य्युकू जाति, मन बा जाति, लोबा जाति और थू जाति तिब्बती बौद्ध धर्म में विश्वास करती हैं जिनकी जनसंख्या लगभग 70 लाख है। पाली भाषी बौद्ध धर्म मुख्य तौर पर दक्षिण-पश्चिमी चीन के युन्नान प्रांत के शिश्वांगपानना ताई स्वायत्त प्रिफैक्चर, तेहोंग ताई व चिंगपो जातीय स्वायत्त प्रिफैक्चर और सी माओ आदि क्षेत्रों में प्रचलित है। ताई जाति, बुलांग जाति, आछांग जाति और वा जाति के ज्यादातर लोग भी पाली भाषा में चले बौद्ध धर्म के अनुयायी हैं जिसकी संख्या 10 लाख से ज्यादा है। हान भाषी बौद्ध धर्म के अनुयायी हान (हुण) जाति के लोग हैं और पूरे देश में फैले हुए हैं। वर्तमान में मूल चीन में 13 हजार से ज्यादा बौद्ध मंदिर हैं और बौद्ध धर्म के स्कूलों व कॉलेजों की संख्या 33 और धार्मिक पत्र-पत्रिकाओं की संख्या करीब 50 है।

ताओ धर्म : ईसा की दूसरी शताब्दी में ताओ धर्म की शुरुआत हुई। ताओ धर्म में प्राकृतिक आराधना होती है और इतिहास में उसकी बहुत-सी शाखाएं थीं। अपने विकास के कालांतर में ताओ धर्म धीरे-धीरे दो प्रमुख संप्रदायों में बंट गया। एक है- आनचनताओ पंथ और दूसरा है- चड यीताओ पंथ। जिन का चीन की हान जाति में बड़ा प्रभाव होता है। चीन में कुल 1,500 से ज्यादा ताओ विहार हैं जिनमें धार्मिक व्यक्तियों की संख्या 25 हजार है। हालांकि ताओवादियों की संख्या कितनी है, यह कह पाना मुश्किल है। हालांकि अधिकतर ताओवादी भी बौद्ध धर्म का ही पालन करते हैं।

अगले पन्ने पर चीन में और ईसाई धर्म की उपस्थिति...




और भी पढ़ें :