मंगलवार, 16 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. प्रादेशिक
  4. Rajasthan government's big gift before assembly elections
Written By
Last Modified: शुक्रवार, 28 अप्रैल 2023 (17:37 IST)

चुनाव से पहले राजस्थान सरकार का बड़ा तोहफा, 40 लाख महिलाओं को मिलेगा मुफ्त स्मार्टफोन

Ashok Gehlot
  • चुनाव से पहले अशोक गहलोत सरकार का बड़ा तोहफा
  • 40 लाख महिलाओं को मिलेगा मुफ्त स्मार्टफोन
  • स्मार्टफोन में मिलेगा 3 साल का नि:शुल्क इंटरनेट
जयपुर। Rajasthan Assembly Election : राजस्‍थान सरकार आगामी रक्षाबंधन पर 40 लाख महिलाओं को एकसाथ मुफ्त स्मार्टफोन देगी। इन स्मार्टफोन में 3 साल का इंटरनेट पैक भी मुफ्त होगा। मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को यह घोषणा की।

गहलोत ने हनुमानगढ़ के रावतसर कस्बे में महंगाई राहत शिविर के अवलोकन के बाद लोगों को संबोधित करते हुए कहा, चिरंजीवी योजना में हमने सभी महिलाओं को (परिवार का) मुखिया बनाया है। 1.35 करोड़ महिलाएं घर की मुखिया बनी हैं। तीन साल के नि:शुल्क इंटरनेट के साथ स्मार्टफोन मिलेगा इन महिलाओं को।

गहलोत ने कहा कि हमने तय किया है कि रक्षाबंधन पर 40 लाख स्मार्टफोन एकसाथ महिलाओं को राजस्‍थान में मिलेगा। इस साल रक्षाबंधन 30 अगस्त को है। उल्‍लेखनीय है कि मुख्‍यमंत्री गहलोत की वर्ष 2022 की बजट घोषणा के अनुसार मुख्यमंत्री डिजिटल सेवा योजना के तहत चिरंजीवी परिवारों की महिला मुखिया को तीन साल के इंटरनेट एक्सेस के साथ स्मार्टफोन दिया जाना है।

इसके तहत चिरंजीवी परिवार की सभी लगभग 1.35 करोड़ महिलाओं को स्मार्टफोन दिया जाएगा, हालांकि एकसाथ इतने फोन नहीं मिलने के कारण इस योजना का कार्यान्‍वयन नहीं हो रहा है। इसी साल फरवरी में सरकार ने विधानसभा में एक जवाब में कहा था कि राज्य सरकार द्वारा चिरंजीवी परिवारों की महिला मुखिया को मुफ्त स्मार्ट फोन देने की योजना के अंतर्गत बजट प्रावधान किया हुआ है।

इस योजना के लिए 1200 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया था। बाद में पूरक मांग में 3500 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया और वर्तमान में 2600 करोड़ रुपए का प्रावधान किया हुआ है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, राज्य में 30 जनवरी 2023 तक एक करोड़ 37 लाख 82,951 परिवार चिरंजीवी योजना में पंजीकृत हैं।
Edited By : Chetan Gour (भाषा)
ये भी पढ़ें
7 दशक से विकास के लिए तरस रहा है बेलगावी का खानापुर, क्या सीमा विवाद है बड़ा चुनावी मुद्दा