1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. प्रादेशिक
  4. adulterated sweets in ayodhya on diwali
Written By संदीप श्रीवास्तव
पुनः संशोधित बुधवार, 19 अक्टूबर 2022 (23:28 IST)

राम की नगरी अयोध्या में केमिकल सेफोलाइट, ग्लूकोप सिरप व साइट्रिक एसिड से बनाई जा रही दीपावली की मिठाइयां

अयोध्या। दीपावली के मौके पर मिठाई व्यवसायी ज्यादा कमाई करने की लालच में कुछ भी बेचने को तैयार रहते हैं। चाहे व्यक्ति बीमार पड़े या या उसकी मृत्यु हो जाए। इससे उन पर कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्हें तो मोटे मुनाफे कमाने से मतलब रहता है। ऐसा ही मामला उत्तरप्रदेश के अयोध्या जनपद में सामने आया है।

बिना लाइसेंस जनपद के बाईपास स्थित भगवती नगर मे एक गोदाम में मिठाई का कारखाना अवैध रूप से चलाया जा रहा था। नुकसानदेह केमिकल सेफोलाइट, साइट्रिक एसिड, ग्लूकोज सिरप और सूजी से भारी मात्रा में मिठाई बनाई जा रही थी। इसकी खबर खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग को मिली खबर मिलते ही विभाग के सहायक खाद्य आयुक्त मानिक चंद सिंह के नेतृत्व मे टीम ने छापा मारा।

केमिकल समेत निर्मित मिठाइयों के कुल 6 सैम्पल जांच के लिए प्रयोगशाला भिजवाए गए हैं। शहर के नारायण ट्रेडर्स को होलसेल एंड रिटेल कारोबार का लाइसेंस मिला था। कारोबार के लिए उसने अपना गोदाम कौशलपुरी कॉलोनी के निकट भगवती नगर में बनाया है। इसी कारोबार की आड़ में दीपावली पर्व पर वह गोदाम में मिठाई बनाने का कारखाना चला रहा था। जहां से अयोध्या जनपद के साथ-साथ आसपास के जनपदों में भी मिठाई सप्लाई करता था।

मंगलवार को खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग के सहायक खाद्य आयुक्त मानिक चंद सिंह के नेतृत्व में टीम ने छापा मारा। मौके पर केमिकल और मिल्क पाउडर (स्किम्ड मिल्क), रिफाइंड, सूजी, ग्लूकोज सिरप से मिल्क केक तथा अन्य मिठाइयां तैयार हो रही थीं। टीम ने मिष्ठान निर्माण का लाइसेंस मांगा तो मौके पर मौजूद कर्मी तथा प्रबंधक बगले झांकने लगे।

इसके बाद टीम ने केमिकल और निर्मित मिठाइयों के तीन-तीन कुल 6 नमूने संकलित किए तथा लगभग 3 लाख कीमत की निर्मित 29 क्विंटल मिठाई को जब्त कर लिया। इस संबंध में मुख्य सुरक्षा अधिकारी सुरेश कुमार का कहना है कि नारायण ट्रेडर्स के भगवती नगर स्थित गोदाम में बिना लाइसेंस केमिकल की मदद से मिठाई बनाने का कारखाना संचालित किया जा रहा था।

निर्मित मिठाइयों की जनपद के साथ आसपास के जनपदों में सप्लाई हो रही थी। 29 क्विंटल मिठाई जब्त की है। 6 नमूने जांच के लिए भेजे हैं। बिना लाइसेंस मिष्ठान निर्माण के मामले में कार्रवाई की जा रही है। Edited by Sudhir Sharma
ये भी पढ़ें
India China War: 1962 में इसलिए पीछे हट गया था चीन, मगर अब भी भरोसे के लायक नहीं है