0

ओलिम्पिक में स्वर्ण, रजत, कांस्य की शुरुआत

मंगलवार,जुलाई 24, 2012
0
1
ओलिम्पिक खेलों में एक से एक हैरतअंगेज कारनामें होते रहते हैं, लेकिन 1968 में मैक्सिको ओलिम्पिक में अमेरिका के एक दुबले-पतले, लेकिन खासे लंबे एक खिलाड़ी ने इतनी जोरदार कूद लगाई कि वह एरिना के बाहर जा गिरा।
1
2
ओलिम्पिक के अन्य खेल स्पर्धाओं की तरह हॉकी में भी खून के रिश्तों में बँधे अनेक खिलाड़ियों ने अपने खेल कौशल से दर्शकों को रोमांचित करने के साथ ही अपने परिवार को भी ओलिम्पिक खेलों की विशिष्ट बिरादरी में शामिल कराया है।
2
3

1928 में जली 'ओलिम्पिक मशाल'

शनिवार,जुलाई 21, 2012
आठवें ओलिम्पिक खेल 1928 में आयोजित किए गए थे और और इसका मेजबान बना एम्सटर्डम और यहीं ओलिम्पिक 'ओलिम्पिक मशाल' के लिए भी मील का पत्थर साबित हुआ।
3
4
आप आज जिस ओलिम्पिक ध्वज को देखते हैं, उसका लंबा इतिहास रहा है। 1920 में एंटवर्प में ओलिम्पिक खेलों का आयोजन हुआ था और यहीं से ओलिम्पिक ध्वज भी अस्थित्व में आया।
4
4
5
ओलिम्पिक खेलों के अंतर्गत जब भी मुक्केबाजी की बात की जाती है तो क्यूबा के टियोफिलो स्टीवेंसन का नाम बड़े आदर के साथ लिया जाता है।
5
6
एक सौ बारह वर्ष पुराने ओलिम्पिक इतिहास में अनेकानेक बातें और घटनाएं ऐसी हो चुकी है, जिन्हें रोचक श्रेणी में रखा जा सकता है। जब भी ओलिम्पिक खेलों का आयोजन होता है तो इससे जुड़ी भूली-बिसरी यादें फिर से ताजा हो उठती हैं और मन इतिहास के पन्नों को पलटने ...
6
7
दुनिया की सबसे अनूठी, सबसे कीमती और सबसे रोमांचक अनुभूति है प्रेम! प्रेम जब भी जन्मता है, अनायास जन्मता है। यह न वक्त का ख्याल करता है, न परिवेश का!
7
8
भारत की मशहूर नृत्यांगना और अभिनेत्री सुधा चन्द्रन का जिक्र आते ही फिल्म 'नाचे मयूरी' की वह लड़की दिमाग में घर कर जाती है जो कटी टाँग के बावजूद 'जयपुर फुट' के सहारे कुशल नृत्य करते हुए सिनेमा हॉल में बैठे लोगों को तालियाँ पीटने पर मजबूर कर देती थी।
8
8
9
आधुनिक ओलिम्पिक की शुरुआत के कुछ वर्षों बाद से ही डोपिंग का डंक महसूस करने वाले ओलिम्पिक खेलों के लिए कई कोशिशों के बावजूद आज भी यह बहुत बड़ी समस्या बनी हुई है।
9
10
ओलिम्पिक के मुक्केबाजी रिंग ने विश्व को कई महान मुक्केबाज और हैरतअंगेज मुकाबले देखने का मौका दिया है। इन सब मुक्केबाजों में हंगरी के लाज्लो पैप का अपना विशिष्ठ स्थान है। लाज्लो पहले ऐसे खिला़ड़ी हैं जिसने खेलों के इस महाकुंभ में मुक्केबाजी में लगातार ...
10
11
आधुनिक ओलिम्पिक खेलों की शुरुआत से ही मैराथन दौड़ का मुकाबला ओलिम्पिक में शामिल रहा है तथा इस स्पर्धा के विजेता को हर बार एक अलग किस्म का सम्मान मिलता रहा है। आधुनिक ओलिम्पिक की पहली मैराथन दौड़ जीतने का सौभाग्य ग्रीस के एथलीट एजाईन लुईस को मिला था, ...
11
12
रंगभेद से खेल भी अछूते नहीं रहे हैं, लेकिन खिलाड़ियों ने अक्सर अपने पराक्रम में यह दर्शा दिया कि वे खेल मैदानों पर वर्ण, नस्ल और जाति के बंधनों को नहीं मानते।
12
13
1968 में मैक्सिको सिटी में आयोजित हुए ओलिम्पिक खेलों में पहली बार विजेताओं को डोपिंग टेस्ट से गुजरना पड़ा। इस परीक्षण से पता चलता है कि कहीं खिलाड़ी ने किसी प्रकार की शक्तिवर्धक औषधि तो नहीं ली है।
13
14
1972 में म्यूनिख में आयोजित ओलिम्पिक खेलों में वाइटवॉटर कनोइंग (स्लैलॉम) को पहली बार ओलिम्पिक में शामिल किया गया। इस प्रतिस्पर्धा के सारे स्वर्ण पदक पूर्वी जर्मनी ने जीते। उसने म्यूनिख में इसके लिए विशेष प्रशिक्षण की व्यवस्था की थी।
14
15
प्राचीन ओलिम्पिक खेलों में महिलाओं का भाग लेना तो क्या दर्शक दीर्घा में बैठने पर मौत की सजा हो जाती थी जिससे आधुनिक ओलिम्पिक के जनक बैरोन पियरे डि कूबेर्टन भी कुछ हद तक प्रभावित थे क्योंकि वह खेलों में महिलाओं के भाग लेने के विचार से सहमत नहीं थे।
15
16
सोवियत रूस, जिसका कि संक्षिप्तीकरण है अब 'रूस'। उसी 'सोवियत रूस' ने ओलिम्पिक को बेहतरीन और लचकदार जिम्नास्ट दिए थे अपने दौर में, जिन्होंने ओलिम्पिक 'फ्लोर' पर वॉल्ट और बीम पर कमनीय प्रदर्शन करके दोनों हाथों से पदक बटोरे थे।
16
17
खेलों की दुनिया में हरफनमौला शब्द का उपयोग खिलाड़ी की प्रशंसा में किया जाता है। ऐसे कई खिलाड़ी हुए हैं जो एक ही खेल से जु़ड़ी कई विधाओं में पारंगत होते हैं। लेकिन आपने ऐसे बहुत कम खिलाड़ियों के बारे में सुना होगा जो कई अलग खेलों में निपुण होते हैं।
17
18
दम निकालने वाली मैराथन में कोई एथलीट नंगे पैर 26 मील से अधिक का फासला ओलिम्पिक के रिकॉर्ड समय में तय करके स्वर्ण जीत ले। वह भी एक नहीं दो-दो बार, तो उस एथलीट को 'कीर्ति पुरुष' ही कहा जा सकता है। इथियोपिया के अबेबे बिकिला ऐसे ही कीर्ति पुरुष थे। ...
18
19
आयरलैंड के एरन द्वीप से दक्षिण बोस्टन में आकर बसे एक आयरिश माता-पिता की 12 संतानों में से एक जेम्स ब्रैंडन कोनोली को ओलिम्पिक खेलों का पहला चैम्पियन माना जाता है। 1868 में कोनोली का जन्म हुआ था और एथेंस में पहले ओलिम्पिक खेलों का आयोजन हुआ था अप्रैल ...
19