प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्मदिन : 6 अच्छी बातें जो उनसे सीख सकते हैं

Last Updated: गुरुवार, 16 सितम्बर 2021 (18:14 IST)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने आप को युथ के अनुसार सबसे अधिक ढाला है। कार्यों को लेकर उनका जुनून, यूथ से लगातार जुड़े रहना, टेक्‍नोलॉजी से अपडेट रहना, जमी से आसमां तक के फैसले उन्होंने इस कदर लिए है कि उनसे सीखने के लिए बहुत कुछ है। राजनीति दष्टि को एकतरफ रखते हैं तो उनमें कई सारी ऐसी स्किल्‍स है जो जीवन में हमेशा काम आएगी। तो आइए जानते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 6 कौन सी अच्‍छी बातें हैं जो जरूर सीखना चाहिए -

1. लीडरशीप
स्किल
-
पीएम मोदी से लीडरशीप स्किल जरूर सीखना चाहिए। एक बार मंच से संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा था कि, 'अपने सबऑर्डिनेट से हमेशा एक घंटा अधिक काम करना चाहिए। ताकि अपने तजुर्बे से तुम उन्हें आगे की रणनीति बता सकों।'

2.विनम्रता - पीएम मोदी ने हमेशा जगह को देखते हुए अपने भाषण को उस अनुसार प्रस्‍तुत किया। जब देश को गंभीर मुद्दे पर संबोधित करते हैं तब वह कभी उग्र तो एकदम विनम्र भाव में जनता से अपील करते हैं। जब विदेश में भारत को प्रस्‍तुत करते हैं तो उनके प्रजेंटेशन स्किल पूरी तरह से बदल जाती है। जोश से वह भारत को प्रस्‍तुत करते हैं और जब कोई उनसे कोई सवाल करता है तब उसका सहजता और विनम्रता से उत्‍तर देते हैं।

3. मास अपील - प्रधानमंत्री मोदी को अपनी पर्सनालिटी के कारण युथ आइकॉन का टैग भी मिला। वह जनता के बीच में अपने कार्यों, अपने बोलने की कला, जनता से लगातार जुड़े रहने की अलग - अलग कला से मास अपील बन गए। इससे यह सीख मिलती है कि आपकी आयु मायने नहीं करती है लेकिन पर्सनालिटी को हमेशा मैंटेन करके रखें।

4.फीटनेस - आज पीएम मोदी को देखकर सब यहीं कहते हैं कि वह कितने फीट लगते हैं। दरअसल, उनकी इस फीटनेस का राज है योग। योग दिवस की शुरूआत पीएम मोदी की पहल से हुई। 27 सितंबर 2014 को पीएम मोदी ने UN में सुंयक्‍त राष्‍ट्र महासभा में समूचे विश्‍व को एकसाथ योग करने की बात कही थी। 11 दिसंबर 2014 को इस प्रस्‍ताव को स्‍वीकार किया गया। साल 2015 से योग दिवस हर साल मनाया जाता है।

5.टेक्‍नोलॉजी से लगाव - पीएम मोदी को देखकर उनकी आयु का अनुमान नहीं लगाया जा सकता है। लेकिन वह टेक्‍नोलॉजी फ्रिक है। राजनीति में तो अच्‍छी पारी वह खेल रहे हैं लेकिन बदलते वक्‍त को देखते हुए टेक्‍नोलॉजी से भी अपडेट हो रहे हैं। अपने UAE की यात्रा के दौरान उन्‍होंने लिखा था 'विज्ञान जीवन है'। वहीं 2014 चुनाव में कैंपेन के दौरान टेक्‍नोलॉजी का उन्‍होंने बखूबी इस्‍तेमाल किया था।

6.बोलने की कला - अगर आप सच में स्पिकिंग स्किल को सुधारना चाहते हैं तो पीएम नरेंद्र सबसे अच्‍छा उदाहरण है। बिल गेट्स ने एक कहा था, '21वीं सदी में प्रजेंटेश स्किल सबसे महत्‍वपूर्ण स्किल है।'





और भी पढ़ें :