नवरात्रि घटस्थापना मुहूर्त और पूजा विधि

चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा की तिथि से नवरात्रि और नववर्ष का पर्व प्रारंभ हो रहा है। 13 अप्रैल 2021, मंगलवार को मातारानी अश्व पर सवार होकर आ रही हैं। पंचांग के अनुसार कोई तिथि क्षय नहीं होगी। ऐसे में इस बार नवरात्रि के पूरे 9 दिन ही रहेंगे। आइए, जानते हैं कलश स्थापना का शुभ और कलश स्थापना पूजन की संक्षिप्त जानकारी।

1. 13 अप्रैल 2021 को कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 5 बजकर 58 मिनट से 10 बजकर 14 मिनट तक रहेगा अर्थात लगभग 4.15 घंटे यह मुहूर्त रहेगा।

2. इसके अलावा दोपहर 11 बजकर 36 मिनट से 12 बजकर 24 मिनट तक अभिजीत मुहूर्त रहेगा है। आप चाहें तो इस मुहूर्त में भी कलश स्थापना कर सकते हैं।

3. इसके बाद दोपहर 11 बजकर 50 मिनट से 1 बजकर 25 मिनट तक अमृत मुहूर्त रहेगा। इस मुहूर्त में भी घटस्थापना कर सकते हैं।
अब जानिए घटस्थापना की पूजन विधि :

1. नवरात्रि के प्रथम दिन प्रात:काल जल्दी उठें। स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ कपड़े पहनकर पूजा स्थल की भी अच्छे से सफाई करें।

2. फिर माता दुर्गा की तस्वीर पर हार-फूल चढ़ाएं। तस्वीर के बाईं ओर सामने एक चौड़े मुंह वाले किसी बर्तन में मिट्टी डालकर उसमें सप्तधान या फिर जौ बो दें।

3. फिर उस मिट्टी पर 1 कलश रख दें। कलश में पवित्र जल भर दें। उसके बाद कलश के ऊपरी भाग यानी कि गर्दन पर कलावा बांध दें।
4. इसके बाद कलश के ऊपर आम या अशोक के पल्लव रखें। फिर उस पल्लव के बीचोबीच 1 नारियल रख दें। नारियल पर भी कलावा बांध दें।

5. इसके बाद फिर मां दुर्गा का आवाहन करें और दीप जलाकर कलश की पूजा करें।

6. माता की विधि-विधान से पूजा करने के बाद दुर्गासप्तशती का पाठ करें या दुर्गा चालीसा पढ़ें।

7. अंत में माता की आरती उतारें।



और भी पढ़ें :