जानिए कितनी ताकतवर है भारतीय वायुसेना, देखिए खास लड़ाकू विमान और हैलीकॉप्टर

Last Updated: मंगलवार, 26 फ़रवरी 2019 (15:59 IST)
भारतीय वायुसेना ने मंगलवार सुबह लगभग साढ़े 3 बजे पाकिस्तान और पीओके में स्थित आतंकी कैंपों पर बड़ा हमला करते हुए 325 से अधिक आतंकियों को मार गिराया। इस हमले से वायुसेना ने 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले का बदला भी ले किया। सभी फोटो वायुसेना के ट्विटर अकाउंट्स से लिए गए हैं।
जानिए कितनी ताकतवर है भारतीय वायुसेना, देखिए खास और हैलीकॉप्टर...
मिराज 2000
:
एक लड़ाकू विमान है। इसकी खास बात यह है कि ये भीतर तक जाकर टारगेट को ध्वस्त करने की क्षमता रखता है।इस विमान का निर्माण फ्रांस की दसॉ एविएशन ने किया है। यह वहीं कंपनी ने जिसने रफाल का निर्माण किया है। अब तक 600 मिराज 2000 विमानों का निर्माण हो चुका है और लगभग 9 देशों में ये सेवा दे रहे हैं।


IL 76 : IL -76 एक बहुउद्देश्यीय चार इंजन वाला टर्बोफैन रणनीतिक एयरलिफ्टर है जिसे सोवियत संघ के इलुशिन डिजाइन ब्यूरो द्वारा डिज़ाइन किया गया है। यह विमान भारी बमबारी की क्षमता रखता है।
MI 17 V5 : रूस की कजान फैक्ट्री में बने इस विमान में 36 जवानों और 4 टन सामान ले जाने की क्षमता है। यह एक मध्यम जुड़वां-टरबाइन परिवहन है।

MI 35 : एमआई 35 एक मल्टी रोल कॉम्बेट विमान है। इस विमान में जबरदस्त गोलीबारी की क्षमता है।इस लड़ाकू विमान में 8 जवान भी सवार हो सकते हैं।

जगुआर : जगुआर एक सुपरसोनिक कम ऊंचाई पर उड़ने वाला लड़ाकू विमान है। इसके उत्पादन के लिए ब्रिटेन और फ्रांस ने साझेदारी की थी। इसके हाई-विंग लोडिंग डिजाइन की वजह से कम-ऊंचाई पर एक स्थिर उड़ान और जंगी हथियारों को ले जाने में सहूलियत होती है।

तेजस : तेजस हिन्दुस्तान एरोनाटिक्स लिमिटेड द्वारा विकसित किया गया एक हल्का व कई तरह की भूमिकाओं वाला जेट लड़ाकू विमान है। तेजस अनेक भूमिकाओं को निभाने में सक्षम एक हल्का युद्धक विमान है।

मिग - 27 : मिग - 27 को सोवियत संघ में मिकोयान-गुरेविच ब्यूरो द्वारा डिज़ाइन और निर्मित किया गया था। बाद में लाइसेंस पर भारत में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स द्वारा निर्मित किया गया था। यह मिकोयान-गुरेविच मिग-23 लड़ाकू विमानों पर आधारित है लेकिन मिग-23 के विपरीत यह एयर-टू-ग्राउंड हमले करने में सक्षम है।

हॉक : यह विमान काफी हल्का व कई अहम हथियार ले जाने में सक्षम है। विमान की डिजाइन इसे और भी ज्यादा खतरनाक बनाती है। आधुनिक प्रशिक्षण विमान का इस्तेमाल भारत के अलावा 18 अन्य देश भी कर रहे हैं।
मिग 29 : रूसी मूल का यह लड़ाकू विमान अब हवा में ईंधन भरने में सक्षम है, वह अत्याधुनिक मिसाइलों से युक्त है। यह कई दिशाओं में हमले करने में सक्षम है।


 

और भी पढ़ें :