कश्मीर और लद्दाख में बर्फबारी, पांचवें दिन भी उड़ानें रद्द

सुरेश एस डुग्गर| Last Updated: बुधवार, 11 दिसंबर 2019 (20:12 IST)
जम्मू। हालांकि आज और के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बुधवार को हल्की बर्फबारी हुई है, जबकि रात के तापमान में इजाफा हुआ है। मौसम विभाग के अधिकारी ने बताया कि गुरुवार और शुक्रवार को इन केंद्र शासित क्षेत्रों के लिए ‘आरेंज चेतावनी’ जारी की है। लेकिन आज लगातार 5वें दिन भी कश्मीर फाग से जूझता रहा जिसका परिणाम यह था कि श्रीनगर से आज भी लगातार 5वें दिन कोई उड़ान नहीं हो पाई।
इस दौरान पश्चिमी विक्षोभ की वजह से मध्यम से भारी बर्फबारी और बारिश का पूर्वानुमान लगाया गया है। अधिकारियों ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के स्की रिजार्ट गुलमर्ग, दक्षिण में पहलगाम और मध्य कश्मीर के सोनमर्ग और अन्य ऊंचाई वाले क्षेत्र में हल्की बर्फबारी हुई। उन्होंने बताया कि कश्मीर में आने वाले दिनों में यहां दृश्यता में सुधार हो सकता है। दरअसल पिछले 5 दिनों से घने कोहरे की वजह से श्रीनगर हवाई अड्डे पर सभी उड़ानें रद्द हैं।
अधिकारियों ने बताया कि मैदानी क्षेत्रों में आकाश में बादल छाए हैं और धुंध भी है। वहीं जम्मू और लद्दाख क्षेत्र में आंशिक रूप से बादल छाए है। कश्मीर के मैदानी इलाकों में मध्यम बर्फबारी हो सकती है जबकि कश्मीर, जम्मू और लद्दाख के उंचाई वाले क्षेत्रों में 12-13 दिसंबर को भारी बर्फबारी हो सकती है। मौसम के पूर्वानुमान के अनुसार जम्मू कश्मीर और लद्दाख में रात के तापमान में सुधार हुआ है और औसत तापमान के नजदीक पहुंचा है। लद्दाख के द्रास में भी रात के तापमान में सुधार हुआ है और अब यह शून्य से 15.3 डिग्री सेल्सियस नीचे है। वहीं, इससे पहले रात में तापमान शून्य से 19 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया था।
लेह में भी रात के तापमान में सुधार हुआ है और अब यह शून्य से 11.5 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। घने कोहरे और कड़ाके की ठंड की चपेट में आए श्रीनगर में भी तापमान में सुधार हुआ और यह शून्य से 1.4 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। जम्मू में रात में तापमान सामान्य तापमान के नजदीक 9.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया और दिन में भी तापमान में सुधार हुआ और यह मंगलवार को 19.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।
कश्मीर घाटी में घने कोहरे से विजुअलिटी कम के चलते श्रीनगर हवाई अड्डे पर बुधवार को लगातार पांचवें दिन उड़ान परिचालन निलंबित रहा और घाटी से सभी उड़ानें रद्द कर दी गईं। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) के अधिकारी ने कहा कि श्रीनगर हवाई अड्डे पर लगातार पांचवें दिन बुधवार को सभी उड़ानें रद्द कर दी गईं। उन्होंने कहा कि हवाई अड्डे पर घने कोहरे से दृश्यता 100 मीटर से भी कम हो गई थी जो विमान परिचालन के लिए अनुकूल नहीं है।
उन्होंने बताया कि हवाई अड्डे पर दृश्यता केवल 100 से 500 मीटर तक ही थी जबकि विमान परिचालन के लिए आवश्यक निम्न दृश्यता 1000-1200 मीटर होनी चाहिए। इसलिए बुधवार की सभी उड़ानें रद्द करनी पड़ीं। हवाई अड्डे पर पिछले छह दिनों से विमानों का परिचालन बुरी तरह प्रभावित है। शुक्रवार को कई उड़ानें रद्द कर दी गई थी जबकि शनिवार से मंगलवार तक किसी उड़ान का परिचालन नहीं हुआ।

पुराने शहर के निवासी वसीम नजीर ने कहा कोहरे की वजह से विमान परिचालन ठप है जिसके कारण लगातार मुझे दो दिन हवाईअड्डे से वापस लौटना पड़ा। नजीर ने कहा कि ठंड के मौसम में श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने की वजह से घाटी के लोगों के लिए हवाई यात्रा ही सबसे अच्छा विकल्प है। लेकिन कोहरे ने हमारी सभी योजनाओं पर पानी फेर दिया है।
एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को इससे निपटने की व्यवस्था करनी चाहिए। पिछले कुछ दिनों से घाटी के ज्यादातर हिस्सों में घने कोहरे के कारण दृश्यता घट गयी। इससे खास कर वाहन चालकों को बड़ी परेशानी हुई। मौसम विभाग ने कहा है कि बुधवार से कश्मीर और लद्दाख में बारिश होने के अनुमान हैं जिससे मौसम में सुधार की संभावना जतायी जा रही है।


और भी पढ़ें :