बंगाल विजय के लिए भाजपा ने चला लव जिहाद कार्ड,बोले नरोत्तम,सरकार आने पर बनाएंगे कानून

पश्चिम बंगाल में भाजपा 200 से अधिक सीटें जीतेगी:नरोत्तम मिश्रा

Author विकास सिंह| Last Updated: शुक्रवार, 8 जनवरी 2021 (16:05 IST)
बंगाल विधानसभा चुनाव को को लेकर अब भाजपा ने अपने पत्ते धीमे-धीमे खोलना शुरु कर दिए है। राष्ट्रवाद और हिंदुत्व के कार्ड के बाद अब पार्टी ने का कार्ड बंगाल में चल दिया दिया है। बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा के प्रमुख रणनीतिकार और मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि लव जिहाद पर रोक लगाने के लिए जिस तरह का कानून मध्यप्रदेश में लागू किया गया है उसकी तरह का कानून बंगाल में भाजपा की सरकार आने पर लागू किया जाएगा।

बंगाल के दुर्गापुर में लव जिहाद को लेकर मीडिया के सवाल पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि लव जिहाद पर रोक लगाने के लिए मध्यप्रदेश में धर्म स्वातंत्र्य कानून लेकर आए है और वैसा ही कानून (धर्म स्वातंत्र्य कानून) बंगाल में हमारी सरकार बनने पर लाया जाएगा।

200 से अधिक सीटें जीतने का दावा-भाजपा केंद्रीय नेतृत्व की ओर में 57 विधानसभा सीटों के प्रभारी बनाए गए नरोत्तम मिश्रा लगातार अपने क्षेत्र का लगातार दौरा कर रहे है। दो दिन के बंगाल दौरे पर पहुंचे नरोत्तम मिश्रा ने दुर्गापुर में एक सभा को संबोधित करने के बाद कहा कि बंगाल में भाजपा दो तिहाई बहुमत से सरकार बनाएगी। वहीं नॉर्थ बंगाल की 57 सीटों में से 50 सीटें जीतने का दावा भी भाजपा के प्रमुख चुनावी रणनीतिकार ने किया है। अब तक तीन बार बंगाल दौरे पर जाकर चुके मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा अब तक
दुर्गापुर के साथ टीएमसी के गढ़ माने जाने वाले बर्धमान, आसनसोल,बोलपुर और वीरभूम का दौरा कर चुके है।

ममता पर हमलावर नरोत्तम-अपने बंगाल दौरे के दौरन नरोत्तम मिश्रा ने ममता सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि बंगाल में आज माफियाओं की सरकार है। आज बंगाल में बेरोजगारी सबसे बड़ा मुद्दा है। दुर्गापुर समेत सभी इलाकों में फैक्टरियां बंद पड़ी हैं। जिससे पूरे भारत को रोजगार देने वाले बंगाल से आज लोग रोजगार की तलाश में पलायन कर रहे है। आज बंगाल में ममता दीदी और उनके भाई-भतीजे इससे बेपरवाह होकर माफियाओं के सरदार बने बैठे हैं।

नरोत्तम मिश्रा ने दावा किया कि अब पश्चिम बंगाल में अब आतंक और शोषण का राज खत्म होने वाला है और भाजपा की सरकार बनने वाली है। गरीबों की बात करने वाले वाम दल और टीएमसी नेता खुद तो अमीर हो गए लेकिन गरीब जहां के तहां रह गए। ममता सरकार केंद्र की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ भी जनता तक नहीं पहुंचने दे रहीं हैं।




और भी पढ़ें :