पिछले जन्म में कट्टर मुस्लिम थे मोदी!

लखनऊ| Last Updated: रविवार, 7 सितम्बर 2014 (16:32 IST)
लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पिछले जन्म में कट्टर मुस्लिम थे। उनका नाम था सर सैयद अहमद खान। जी हां, वही सर सैयद अहमद जिन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना की थी। 
 
पिछले जन्म के सर सैयद अहमद और इस जन्म के नरेन्द्र मोदी की शक्ल-सूरत, दाढ़ी और आंखें ही एक जैसी नहीं हैं बल्कि उनके जीवन की घटनाएं भी चौंकाने वाली हद तक एक जैसी हैं। यह दावा किसी सिरफिरे ने नहीं किया है बल्कि अमेरिका में सैनफ्रांसिस्को स्थित इंस्टीट्यूट फॉर दी इंटीग्रेशन ऑफ साइंस, इंस्टीट्यूशन एंड रिसर्च (आईआईएसआईएस) ने किया है।
 
इस संस्था ने पूरी दुनिया में अब तक करीब 20 हजार स्त्री पुरुषों, बच्चों और यहां तक कि पशुओं के पुनर्जन्म पर भी अनेक अमेरिकी विश्वविद्यालयों की मदद से शोध अध्ययन किए हैं और अनेक पुस्तकें भी प्रकाशित की हैं। 
 
मोदी इस जन्म में अभूतपूर्व ढंग से पूरे भारत को अपने पक्ष में करने में कामयाब हुए और अगर शोधवेत्ताओं का दावा सही माना जाए तो मुसलमानों में एकता की अलख जगाकर और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की स्थापना करके उन्होंने पिछले जन्म में भी कुछ ऐसा ही काम किया था।
 
पूनर्जन्म के मामलों पर शोध के दौरान एक धर्म से दूसरे धर्म में, एक देश से दूसरे देश में और स्त्री से पुरुष या पुरुष से स्त्री बनने के हजारों मामले इन विषयों पर शोध करने वालों ने पाए हैं और सबसे ज्यादा हैरत की बात यह पाई कि कोई व्यक्ति पिछले जन्म में जिस स्तर की प्रसिद्धि हासिल किए था उसी स्तर की कामयाबी पा लेता था।
अगले पन्ने पर कैसा था पिछले जन्म में मोदी का स्वभाव... अगले पन्ने पर...  
वेबदुनिया हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :