राजकीय सम्मान के साथ बाबूजी कल्याण सिंह पंचतत्व में विलीन

हिमा अग्रवाल| Last Updated: सोमवार, 23 अगस्त 2021 (21:15 IST)
बुलंदशहर में आज भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह नरौरा गंगा बसी घाट पर पंचतत्व में विलीन हो गए। बाबूजी की अंतिम यात्रा में हजारों की तादाद में लोग शामिल हुए। वहीं नम आंखों से जननायक और पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को विदाई दी गई। बाबूजी के अंतिम दर्शन के लिए 3 राज्यों के मुख्यमंत्री, 20 से ज्यादा कैबिनेट मंत्री शामिल हुए।
बाबूजी कल्याण सिंह जहां यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री रहे, वहीं उन्होंने राजस्थान तथा हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल पद को भी सुशोभित किया था। सोमवार की शाम उनकी पार्थिव देह का राजकीय सम्मान के साथ बुलंदशहर जिले के नरौरा में गंगा बसी घाट पर किया गया। बाबूजी को उनके पुत्र और एटा से भाजपा सांसद राजवीर सिंह ने मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार के समय चारों तरफ ‘जय श्री राम’ और ‘कल्याण सिंह अमर रहे’ के नारों से गूंज उठा।

अलीगढ़ से कल्‍याण सिंह की पार्थिव देह की यात्रा दोपहर में उनके पैतृक गांव मढ़ौली पहुंची। बाबूजी को श्रद्धासुमन अर्पित करने अलीगढ़ में अमित शाह पहुंचे और उन्होंने कहा कि कल्याण सिंह जी का इस दुनिया से चले जाना भाजपा के लिए बहुत बड़ी क्षति है। उनके जाने के बाद भाजपा ने अपना एक दिग्गज और हमेशा संघर्षरत नेता खोया है।

कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश में दबे-कुचलों और पिछड़ों के लिए सदा संघर्ष करते रहे, जिसके चलते एक हितचिंतक गंवाया है। गृहमंत्री ने कहा कि कल्याण सिंह जी रामजन्म भूमि आंदोलन के बड़े नेता रहे हैं और रामभक्त कल्याण सिंह ने इस आंदोलन के लिए सत्ता त्यागने में तनिक देर भी नहीं लगाई थी। जिस दिन रामजन्म भूमि का शिलान्यास किया था, उस दिन वे बहुत खुश थे और बाबूजी ने कहा था कि ये उनके लिए बड़े हर्ष और संतोष का दिन है, क्योंकि आज मेरे जीवन का लक्ष्य पूरा हो गया।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अलीगढ़ के अतरौली में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को श्रद्धांजलि दी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह बाबूजी कल्याण सिंह की अलीगढ़ से शुरू हुई अंतिम यात्रा के साथ नरौरा पहुचे। नरौरा गंगा घाट पर 21 आर्य समाज के पंडितों द्वारा वैदिक रीति के अनुसार अंतिम संस्कार कराया गया।

बुलंदशहर के नरौरा गंगा घाट पर बाबू कल्याण सिंह के अंतिम दर्शन के लिए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व दिनेश शर्मा, नगर विकास शहरी समग्र मंत्री आशुतोष टंडन, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, केंद्रीय राज्यमंत्री अजय भट्ट, उत्तराखंड के भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, धनसिंह रावत व स्वामी यतिशवरानंद महाराज, स्वतंत्र देव सिंह, अनिल शर्मा, गिरीशचंद यादव, उमा भारती, सुरेश राणा, अशोक कटारिया, रमाशंकर पटेल, महेंद्र सिंह, अश्वनी चौबे, उपेंद्र तिवारी, सूर्य प्रताप शाही, बीएल वर्मा, कपिल देव अग्रवाल, महेंद्रनाथ पांडे, एसपी सिंह बघेल, बाबूराम निषाद, सुनील भराला, रामनरेश अग्निहोत्री आदि मंत्री व संयुक्त संसदीय दल के चेयरमैन डॉ. सत्यपाल सिंह व अनेक सांसदों, विधायकों ने पुष्प चक्र के साथ श्रद्धांजलि अर्पित कर अंतिम विदाई दी।



और भी पढ़ें :