Weather update : 'निसर्ग' से बदला मौसम का मिजाज, मध्यप्रदेश में भारी बारिश की चेतावनी

पुनः संशोधित गुरुवार, 4 जून 2020 (10:31 IST)
नई दिल्‍ली। केरल में के प्रवेश के बाद देश के कई हिस्‍सों में में आए बदलाव से भीषण गर्मी और गर्म हवा से राहत मिली है। चक्रवाती तूफान 'निसर्ग' का प्रभाव मध्य प्रदेश के इंदौर समेत अधिकतर स्थानों पर देखने को मिला, जिसके चलते तेज राज्‍य के कई हिस्‍सों में हुई। इसी प्रभाव के चलते आज भी राज्‍य के कई हिस्‍सों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।
मौसम विज्ञानी जून के पहले पखवाड़े में प्री मानसूनी बारिश का अंदेशा अब भी जाहिर कर रहे हैं। गुरुवार को सुबह से ही आसमान में बादलों की सक्रियता बनी रहने से तापमान में दोबारा कमी आ सकती है। पश्चिमी विक्षोभ के चलते दिल्ली-एनसीआर में लगातार 5 दिनों से मौसम बेहद सुहाना बना हुआ है। बीच-बीच में हो रही बारिश के चलते जहां न्यूनतम और अधिकतम तापमान में काफी कमी आई है, वहीं धूप भी कम तीखी है। ऐसे में दिल्ली-एनसीआर के करोड़ों लोगों को भीषण गर्मी, लू और तेज धूप से राहत मिली हुई है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, गुरुवार को एक बार फिर तेज बारिश होने का अनुमान है। इसके बाद मौसम एक बार फिर सुहाना हो सकता है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार, हाल ही में उत्तर भारत में पहुंचे पश्चिमी विक्षोभ से दिल्ली-एनसीआर के मौसम में भी प्रभाव पड़ा, जिसके कारण अब दिल्ली में बारिश हो रही है।

चक्रवाती तूफान 'निसर्ग' का प्रभाव मध्य प्रदेश के इंदौर समेत अधिकतर स्थानों पर देखने को मिला, जिसके चलते तेज राज्‍य के कई हिस्‍सों में बारिश हुई। इसी प्रभाव के चलते आज भी राज्‍य के कई हिस्‍सों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। वहीं दूसरी ओर तूफान के महाराष्ट्र के अलीबाग में टकराने के बाद इसकी दिशा में हल्का परिवर्तन हुआ है।

उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में भी हल्की से अत्यंत हल्की बारिश दर्ज की गई। बड़ा बदलाव न हुआ तो राज्य में मानसून 20-22 जून तक सोनभद्र के रास्ते प्रवेश कर जाएगा। राज्य के पूर्वी हिस्सों में आंधी आई और गुरुवार को भी यह सिलसिला जारी रहने का अनुमान है। हरियाणा और पंजाब में आने वाले दिनों में भी अधिकतम तापमान सामान्य से नीचे बना रहने का अनुमान है।

मानसून अचानक सक्रिय होकर तय समय पर एक जून को केरल तट पार करते हुए कर्नाटक की सीमा तक ईस्ट सेंट्रल में पहुंच चुका है। मौसम पूर्वानुमान में बताया गया है कि 5 जून तक बादल छाए रहेंगे। झारखंड समेत आसपास के इलाकों में साइक्‍लोनिक सर्कुलेशन का असर दिख रहा है। पांच जून तक रांची समेत आसपास के क्षेत्रों में बादल छाए रहेंगे और एक-दो बार हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश होगी।
राजस्थान के कई हिस्सों में बुधवार को हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश दर्ज की गई। ने आगामी तीन दिनों में राज्य के कई स्थानों में बारिश होने की संभावना जताई है। वहीं बिहार में भी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। यहां 4 से 6 जून तक बारिश होने की संभावना है।



और भी पढ़ें :