शुक्रवार, 19 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. 54 year old Rahul Gandhi has emerged as a powerful leader in Indian politics
Last Updated : बुधवार, 19 जून 2024 (14:53 IST)

देश की राजनीति में ताकतवर नेता बनकर उभरे हैं 54 साल के राहुल गांधी

कांग्रेस ने शुभकामनाएं देते हुए राहुल को बताया जननायक

देश की राजनीति में ताकतवर नेता बनकर उभरे हैं 54 साल के राहुल गांधी - 54 year old Rahul Gandhi has emerged as a powerful leader in Indian politics
Rahul Gandhi Birthday: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी 54 साल के हो गए हैं। लोकसभा चुनाव में वे एक ताकतवर नेता के रूप में उभरे हैं, साथ ही जनता और इंडिया गठबंधन की पार्टियों में उनकी स्वीकार्यता भी बढ़ी है। कांग्रेस ने उन्हें शुभकामनाएं देते हुए 'जननायक' बताया है। 
 
यात्राओं से मिला राजनीतिक लाभ : राहुल को कन्याकुमारी से कश्मीर तक निकाली भारत जोड़ो यात्रा और मणिपुर से मुंबई तक की भारत जोड़ो यात्रा से नई पहचान मिली। राहुल नेतृत्व में कांग्रेस लोकसभा चुनाव में 99 सीटें जीतने में सफल रही। कांग्रेस का 2024 का 99 का स्कोर पिछले 2 चुनावों में पार्टी के संयुक्त स्कोर से अधिक है। गांधी इस बार केरल की वायनाड सीट के अलावा यूपी की रायबरेली से भी चुनाव जीते हैं। हालांकि उन्होंने वायनाड सीट छोड़ने का फैसला किया है। 
  
2004 में जीता पहला चुनाव : भारत के सबस ताकतवर राजनीतिक परिवार में 19 जून, 1970 को जन्मे राहुल गांधी के राजनीतिक की सफर की शुरुआत 2003 में हो गई थी। तब उन्होंने राष्ट्रीय राजनीति में रुचि लेना प्रारंभ कर दिया था। वे सार्वजनिक समारोहों में अपनी मां श्रीमती सोनिया गांधी के साथ नजर आने लगे थे। मार्च 2004 में चुनाव लड़ने की घोषणा के साथ उन्होंने राजनीति में अपने प्रवेश की आधिकारिक घोषणा की। वे अपने पिता के निर्वाचन क्षेत्र अमेठी से लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए। 2004 में उन्होंने 2 लाख 90 हजार के बड़े अंतर से चुनाव जीता। अमेठी में उनकी जीत का सिलसिला 2014 तक जारी रहा, लेकिन 2019 में उन्हें भाजपा की स्मृति ईरानी ने 55 हजार से ज्यादा वोटों से हरा दिया। हालांकि वे वायनाड सीट से बड़े अंतर से चुनाव जीत गए थे। 
आपातकाल के बाद हुए चुनाव में राहुल के चाचा संजय गांधी भी अमेठी से चुनाव हार गए थे। राहुल को 24 सितंबर 2007 में कांग्रेस का राष्ट्रीय महासचिव नियुक्त किया गया। उन्हें युवा कांग्रेस और भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की जिम्मेदारी भी दी गई। 19 जनवरी 2013 को जयपुर चिंतन शिविर में उनको पार्टी उपाध्यक्ष बनाया गया। दिसंबर 2017 से जुलाई 2019 तक राहुल कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे। 
 
छद्म नाम से कर चुके हैं नौकरी : पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी और सोनिया गांधी के पुत्र राहुल की प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के मॉडर्न स्कूल में हुई थी, इसके बाद वे प्रसिद्ध दून स्कूल में पढ़ने चले गए। 1981-83 तक सुरक्षा कारणों के कारण राहुल को अपनी पढ़ाई घर से ही करनी पड़ी। राहुल ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय के रोलिंस कॉलेज फ्लोरिडा से सन 1994 में अपनी कला स्नातक की उपाधि प्राप्त की। इसके बाद सन 1995 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के ट्रिनिटी कॉलेज से एमफिल की डिग्री हासिल की।
 
स्नातक की पढ़ाई के बाद राहुल ने प्रबंधन गुरु माइकल पोर्टर की मैनेजमेंट कंपनी मॉनीटर ग्रुप के साथ 3 साल तक काम किया। इस दौरान वे यहां छद्म नाम 'रॉल विंसी' के नाम से कार्य करते थे। सन 2002 के अंत में वे मुंबई में अभियांत्रिकी और प्रौद्योगिकी से संबंधित एक आउटसोर्सिंग कंपनी के चलाने के लिए भारत लौट आए।
 
तब रद्द हो गई संसद की सदस्यता : साल 2023 में मोदी उपनाम पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में उन्हें गुजरात की एक अदालत द्वारा दो साल की सजा सुनाई गई, जिसके कारण उन्हें अपनी सांसदी गंवानी पड़ी। हालांकि बाद में सुप्रीम कोर्ट से सजा पर रोक लगने के बाद उनकी सांसदी बहाल हो गई। 2023 में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी टिप्पणी 'नफरत के बाजार में मोहब्बत की दुकान खोलनी है' काफी चर्चित हुई थी। 
 
शादी को लेकर पूछे जाते हैं सवाल : राहुल गांधी की शादी को लेकर भी आमतौर पर सवाल पूछे जाते रहे हैं। क्योंकि 54 साल के राहुल ने अभी तक शादी नहीं की है। इंडिया गठबंधन की बैठक के दौरान ही एक बार राजद मुखिया लालू यादव उनकी शादी को लेकर चुटकी ले चुके हैं। उन्होंने कहा कि शादी कर लीजिए, हम सभी आपकी शादी में बाराती बनेंगे। उस समय लालू के इस बयान के राजनीतिक अर्थ भी निकाले गए थे। अर्थात राहुल के नेतृत्व में विपक्षी दल एक साथ काम करने को तैयार हैं। हालांकि राहुल ने लालू की बात को मुस्कुरा कर टाल दिया था। सोनिया गांधी ने उनके आवास पर मिलने आईं हरियाणा की महिलाओं के सवाल के जवाब में उनसे बहू तलाशने के लिए कहा था।
Edited by: Vrijendra Singh Jhala
 
ये भी पढ़ें
आप ने खोला नीट के खिलाफ मोर्चा, धर्मेंद्र प्रधान के आवास के बाहर किया प्रदर्शन