सदस्यता ग्रहण समारोह में 'महाराज' सिंधिया का शक्ति प्रदर्शन,76 हजार कांग्रेस कार्यकर्ताओं के शामिल होने का दावा

कांग्रेस ने भाजपा के दावे पर उठाए सवाल,नामों की सूची जारी करने की मांग

Author विकास सिंह| Last Updated: मंगलवार, 25 अगस्त 2020 (16:34 IST)
भोपाल।मध्यप्रदेश में 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर चुनाव आयोग अब कभी भी तारीखों का एलान कर सकता है। तारीखों के एलान से पहले भाजपा ने ग्वालियर-चंबल संभाग में तीन दिनों का मेगा समारोह किया। भाजपा में शामिल होने के बाद पहली बार अपने गढ़ (घर) ग्वालियर पहुंचने वाले महाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सदस्यता अभियान के सहारे अपना शक्ति प्रदर्शन भी किया।

तीन दिन के सदस्यता ग्रहण समारोह के बाद भाजपा ने दावा किया हैं कि इस दौरान संभाग के चारों लोकसभा क्षेत्रों ग्वालियर, मुरैना,गुना और भिंड के 76 हजार 361 कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इन कार्यकर्ताओं में अशोकनगर और गुना जिले के वे कार्यकर्ता भी शामिल हैं, जिन्होंने कुछ दिन पहले भोपाल स्थित पार्टी के प्रदेश कार्यालय में भाजपा की सदस्यता ली थी।
पार्टी में इन कार्यकर्ताओं का स्वागत करते हुए सिंधिया ने लिखा कि आपके मान, सम्मान और स्वाभिमान की रक्षा के लिए भाजपा संगठन सदैव आपके साथ खड़ा रहेगा। इतनी बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का भाजपा में शामिल होने के दावे के ग्वालियर चंबल की सियासत के जानकार इसे सिंधिया का शक्ति प्रदर्शन मान रहे है।

तीन दिन की सदस्यता अभियान के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने हर भाषण में कांग्रेस को कोसने के साथ न्याय और सम्मान के लिए पार्टी छोड़ने की बात कहते नजर आए। सिंधिया के साथ तीन दिनों तक हर मंच पर साथ नजर आने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कांग्रेस पर सिंधिया के साथ छल करने का आरोपी भी लगाया।
सिंधिया और भाजपा ने तीन दिन के इस मेगा शक्ति प्रदर्शन के जरिए कांग्रेस पर एक मनोवैज्ञानिक बढ़त लेने की कोशिश करते नजर आए लेकिन सिंधिया के ग्वालियर पहुंचने पर पहले ही दिन कांग्रेस कार्यकर्ताओं का बड़ी संख्या में विरोध करते सड़क पर उतरना काफी चौंकाने वाला रहा।
सदस्यता अभियान पर कांग्रेस का सवाल– भाजपा ने सदस्यता अभियान में पार्टी में शामिल होने वाले कार्यकर्ताओं की जिस संख्या का दावा किया है उसको लेकर कांग्रेस ने सवाल उठा दिया है। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने
ट्वीट कर लिखा कि फर्जीवाड़ा कोई भाजपा से सीखे। वहीं पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने भाजपा के दावे पर सवाल उठाते हुए शामिल होने वाले कार्यकर्ताओं की सूची जारी करने की मांग की है।



और भी पढ़ें :