लोकसभा चुनाव के छठे चरण में 7 राज्यों की 59 सीटों पर 63 प्रतिशत मतदान, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 80 प्रतिशत

पुनः संशोधित रविवार, 12 मई 2019 (21:34 IST)
नई दिल्ली। के छठे चरण में 7 राज्यों की 59 सीटों पर रविवार को 63.3 प्रतिशत मतदान हुआ। इसमें में सबसे ज्यादा 80 प्रतिशत से अधिक लोगों ने मताधिकार का प्रयोग किया।
उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने रविवार को बताया कि छठा चरण पूरा होने के साथ ही 89 प्रतिशत यानी 543 में से 483 सीटों पर मतदान संपन्न हो गया।

पश्चिम बंगाल में हर चरण की तरह इस बार भी सबसे अधिक मतदान हुआ। वहां 80.16 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग क्या।

झारखंड में 64.50, हरियाणा में 65.59, मध्य प्रदेश में 63.29, बिहार में 59.29, दिल्ली में 58.31 और उत्तरप्रदेश में 54.27 प्रतिशत मत डाले गए। त्रिपुरा में 168 मतदान केन्द्रों पर दोबारा मत डाले गए जिन पर 72.28 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। छठे चरण का चुनाव कुल मिलाकर शांतिपूर्ण रहा।
voting in india" width="740" />
बंगाल-बिहार में छुटपुट हिंसा : पश्चिम बंगाल में कुछ स्थानों से हिंसा की छिटपुट घटनाओं की रिपोर्ट है। घाटल से भारतीय जनता पार्टी उम्मीदवार भारती घोष के वाहन को कुछ लोगों ने क्षतिग्रस्त कर दिया। बिहार के शिवहर लोकसभा क्षेत्र में एक सुरक्षाकर्मी की राइफल से अचानक गोली चलने से एक मतदानकर्मी की मौत हो गई।
आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के 509 मामले : अब तक सभी 6 चरणों के चुनाव में आदर्श चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के 509 मामल दर्ज किए गए हैं। पेड न्यूज के अब तक 590 मामलों का पता चला है और फेसबुक से 637, टि्वटर से 145, यू ट्यूब से 5, व्हाटसएप से 31 पोस्ट हटाए गए है। छठे चरण में 1.52 प्रतिशत वीवी पैट बदली गईं।

इस चरण में उत्तरप्रदेश की 14, हरियाणा की सभी 10, बिहार, मध्यप्रदेश तथा पश्चिम बंगाल की 8-8, दिल्ली की सभी 7 और झारखंड की 4 सीटों के लिए मत डाले गए। इसके साथ ही कई केन्द्रीय मंत्रियों और चार पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित 979 उम्मीदवारों की चुनावी किस्मत ईवीएम में बंद हो गई।
इस चरण में कुल 10,17,82,472 मतदाताओं में से 5,42,60,965 पुरुष, 4,75,18,226 महिलाएं और 3,281 किन्नर मतदाता थे जिनके लिए 1 लाख 13 हजार 167 मतदान केंद्र बनाए गए थे।
राष्ट्रपति ने किया मताधिकार का प्रयोग : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने परंपराओं को तोड़ते हुए अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, वायुसेना अध्यक्ष बीएस धनोवा, केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन ने भी वोट डाले।
दिल्ली के सबसे उम्रदराज मतदाता ने डाला वोट : दिल्ली के सबसे उम्रदराज मतदाता 111 वर्षीय बचनसिंह ने रविवार को यहां तिलकनगर मतदान केंद्र पर वोट डाला।

बचन सिंह 2015 विधानसभा चुनाव तक साइकिल पर मतदान करने आते थे, लेकिन इस बार चुनाव अधिकारियों के साथ गाड़ी में मतदान केन्द्र पहुंचे, जहां तमाम मीडियाकर्मियों की निगाहें उनपर थी। मतदान केन्द्र पहुंचने के बाद उन्हें व्हीलचेयर पर अंदर ले जाया गया।
बचन को तीन महीने पहले लकवा मार गया था, जिससे वे अब पलंग पर ही रहते हैं। अब वे पहले की तरह बात नहीं कर पाते लेकिन उन्हें अपने मत की महत्ता पता है। उन्होंने कहा कि मैं उनको वोट दूंगा जिन्होंने हमारे लिए काम किया।

दिलचस्प बात यह है कि सिंह को पता नहीं है कि ‘आम आदमी पार्टी’ भी है और अरविंद केजरीवाल के दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं। उनके छोटे बेटे जसबीर सिंह (63) ने कहा कि उन्हें यह नहीं पता की आम आदमी पार्टी जैसी कोई पार्टी भी है। उनके लिए हर चुनाव बस भाजपा और कांग्रेस के बीच का मुकाबला है। जसबीर ने दावा किया कि उनके पिता ने 1951 के बाद से हर चुनाव में मतदान किया है।
कई दिग्गजों की किस्मत EVM में बंद : छठे चरण में चार मुख्यमंत्रियों तथा कुछ केंद्रीय मंत्रियों साहित कई दिग्गजों की चुनावी किस्मत का फैसला होना है। उत्तर-पूर्वी दिल्ली सीट से दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, भोपाल सीट से मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह तथा सोनीपत सीट से हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदरसिंह हुड्डा कांग्रेस के टिकट पर और उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आजमगढ़ सीट से समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं।
केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी उत्तरप्रदेश के सुल्तानपुर से, डॉ. हर्षवर्द्धन दिल्ली के चांदनी चौक से, राधामोहन सिंह बिहार के पूर्वी चम्पारण से, नरेंद्रसिंह तोमर मध्यप्रदेश के मुरैना और राव इंद्रजीत सिंह हरियाणा की गुड़गांव सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं।

अन्य प्रमुख उम्मीदवारों में भाजपा की साध्वी प्रज्ञासिंह ठाकुर भोपाल सीट पर दिग्विजय सिंह को, भाजपा के मनोज तिवारी उत्तर-पूर्वी दिल्ली से शीला दीक्षित को, भाजपा के दिनेशलाल यादव उर्फ निरहुआ आजमगढ़ से अखिलेश यादव को और कांग्रेस के जेपी अग्रवाल डॉ. हर्षवर्द्धन को चांदनी चौक सीट पर टक्कर दे रहे हैं।
भूपेंद्रसिंह हुड्डा के बेटे दीपेंद्र सिंह हुड्डा सोनीपत से, ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना से, कीर्ति आजाद धनबाद से, पूर्व मुक्केबाज बिजेंदर सिह दक्षिणी दिल्ली से, कुमारी शैलजा अम्बाला से, अजय माकन नई दिल्ली से और अरविंदर सिंह लवली पूर्वी दिल्ली से कांग्रेस के उम्मीदवार हैं।
पूर्व क्रिकटर गौतम गंभीर पूर्वी दिल्ली से, मीनाक्षी लेखी नई दिल्ली से तथा रीता बहुगुणा जोशी इलाहाबाद से भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंशप्रसाद सिंह बिहार के वैशाली सीट से, बहुजन समाज पार्टी के अनिरुद्ध उर्फ साधु यादव बिहार के महाराजगंज से चुनाव लड़ रहे हैं।

जननायक जनता पार्टी के दुष्यंत चौटाला हरियाणा के हिसार से चुनाव लड़ रहे हैं। पिछली बार वे इंडियन नेशनल लोकदल के टिकट पर लोकसभा पहुंचे थे।
पहले चरण में 69.54 प्रतिशत, दूसरे में 69.44, तीसरे में 68.40, चौथे में 65.51 और पांचवें चरण में 64.16 प्रतिशत मत डाले गए थे। (वार्ता)

 

और भी पढ़ें :