0

Motivational Quotes : 5 मोटिवेशन क्वोट्स, जो आपने कहीं नहीं पढ़ें होंगे

सोमवार,जून 14, 2021
0
1
मानसून अरबी शब्द मावसिम यानी मौसम से बना है जिसे पावस भी कहते हैं। पुर्तगाली में मानसैओ, डच में मॉनसन जबकि हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी में मानसून कहलाता है। मानसून हिन्द महासागर तथा अरब सागर की ओर से भारतीय दक्षिण-पश्चिम तट पर आनी वाली हवाएं हैं जिससे ...
1
2
पिता! एक निश्‍चिंतता का नाम है पिता। पिता छत है, पिता आकाश है। पिता वह सुरक्षा कवच भी है, जो अपनी छाती पर तूफान झेलकर संतान की रक्षा करता है। पिता के होते संतान को ज्यादा चिंता नहीं होती, उसे पता होता है 'पिता सब संभाल लेंगे।' डाँटेंगे-डपटेंगे, ताना ...
2
3
अमेरिकी महिलाओं ने 122 करोड़ बार सर्च किया कि -मदद करो, वो मुझे नहीं छोड़ेगा। 1.07 करोड़ बार सर्च किया - वह मुझे मार डालेगा. 32 करोड़ बार–वह मुझे मारता है। और अमेरिकी पुरुष सर्च कर रहे थे - 16.5 करोड़ बार - पत्नी को कैसे काबू करें? उन्हें प्रताड़ित ...
3
4
1981 के आसपास लिखी गई इस किताब में एक संक्रमण का जिक्र है और इसे वुहान 400 का ही नाम दिया गया है। यानी आज से करीब 40 साल पहले उस वायरस के बारे में लिए किताब में जिक्र कर दिया गया था। एक अमेरिकी की यह कृति शुरु तो एक ऐसी मां से होती है जो अपने बच्चे ...
4
4
5
ऐसी विकट परिस्थितियों में शत्रु और विरोधी ज्यादा तीखा प्रहार करते हैं क्योंकि उन्हें मालूम है कि इस माहौल में उनकी बातों को समर्थन मिलेगा। इसमें सच और झूठ को अलग करने का सामूहिक विवेक कमजोर पड़ता है। जब कोरोना प्रकोप चरम पर था तो विदेशी मीडिया में ...
5
6
महाराणा प्रताप की मृत्यु का समाचार सुनकर अकबर की आंखों में भी प्रताप की अटल देशभक्ति को देखकर आंसू छलक आए थे। मुगल दरबार के कवि अब्दुर रहमान ने लिखा है, 'इस दुनिया में सभी चीज खत्म होने वाली है। धन-दौलत खत्म हो जाएंगे लेकिन महान इंसान के गुण हमेशा ...
6
7
राणा सांगा का ये वंशज, रखता था राजपूती शान। कर स्वतंत्रता का उद्घोष, वह भारत का था अभिमान। मानसिंग ने हमला करके, राणा
7
8
आज भी एक पथ प्रदर्शक के रूप में प्रासंगिक है संत कबीर दास के दोहे। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं कबीर के दोहे सर्वाधिक प्रसिद्ध व लोकप्रिय दोहे-
8
8
9
ओशो रजनीश ने एक बार 99वें के फेर में फंसने की 2 मजेदार कहानी अपने किसी प्रवचन में सुनाई थी। उन्हीं में से एक कहानी आप यहां पढ़ेंगे तो आपको पता चलेगा कि आखिर क्या होता है 99वें के फेर में फंसने का मतलब। कम-से-कम एक मतलब तो आप जान ही जाएंगे। दूसरी ...
9
10
जनता अपने प्रधानमंत्री से यह कहने का साहस नहीं जुटा पा रही है कि उसे उनसे भय लगता है।जनता उनसे उनके 'मन की बात', उनके राष्ट्र के नाम संदेश, चुनावी सभाओं में दिए जाने वाले जोशीले भाषण सब कुछ धैर्यपूर्वक सुन लेती है, पर अपने दिल की बात उनके साथ शेयर ...
10
11
सामाजिक संस्था "गूंज" के संस्थापक अंशु गुप्ता.... जो इस महामारी में न केवल लोगों के लिए दिन-रात खड़े हैं उनकी हर संभव मदद भी कर रहें हैं। अंशु पिछले 22 साल से देश के तकरीबन 27 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में अनवरत लगे हुए हैं।
11
12
सती, सावित्री, सीता एवं अनुसुइया जैसे नारी चरित्र जो हजारों वर्षों से भारतीय समाज के समक्ष आदर्श बने रहे हैं, क्या धर्म-निरपेक्षता के इस युग में आकर नकार दिए जाने चाहिए ? क्या ये पौराणिक युग के नारी चरित्र भारतीय नारियों की कमजोरी के प्रतीक हैं ?
12
13
आम नागरिकों, जनप्रतिनिधियों और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की बात सुनने और उनकी समस्याओं के निदान की दिशा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बेहद संवेदनशील हैं। काम हो ना हो, मुख्यमंत्री उनसे मिलने पहुंचे व्यक्ति को संतुष्ट तो कर देते हैं।
13
14

थप्पड़

सोमवार,जून 7, 2021
पता ही नहीं चल पाया हमें, हो गए कब हाथ सुन्न हमारे ! उठ ही नहीं पा रहे हैं झुके कंधों से ऊपर ! उनके हाथ तो रहते हैं हमेशा ऊपर ही
14
15
भारतीय बैंक घोटाले के सबसे बड़े घोटालेबाज मेहुल चैकसी और उसके भांजे नीरव मोदी पर 13, 578 करोड़ रुपयों की बैंक धोखाधड़ी के आरोप हैं जिसमें 11, 380 करोड़ रुपयों के फर्जी और बेजा लेने-देन हैं। पीएनबी बैंक घोटाला 7 साल चलता रहा किसी को भनक तक नहीं लगी। ...
15
16
वही पद्मविभूषण और बनारस घराने के गायक पंडित छन्नूलाल मिश्र कोरोना से अपनी पत्नी और बेटी की मौत के बाद लाचार हैं। वे उत्तर प्रदेश सरकार के सामने घुटने टेक कर अस्पताल में अपनी बेटी के इलाज के मामले की जांच चाहते हैं, लेकिन देश में जब चारों तरफ एंबुलस ...
16
17
मैंने प्यार किया है तुमको और बहुत संभव है अब भी मेरे दिल में इसी प्यार की सुलग रही हो चिंगारी
17
18
इसी पोहे पर सेंव वालों, नुक्‍त‍ी वालों, प्‍याज वालों, नींबू वालों और जीरावन वालों की लाइफ लाइन जुड़ी हुई है। एक पोहा ही वो इंजन है जो इन सबके जीवन के ड‍िब्‍बों को आगे खींचता है। इसलिए इंदौर में पोहे का मतलब स‍िर्फ स्‍वाद ही नहीं, किसी का पेट भी है। ...
18
19
विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर वामा साहित्य मंच ने बात की देश की प्रमुख नदियों पर.....उनके संरक्षण पर...उनके पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व पर..ऑनलाइन सम्पन्न इस आयोजन में जब 25 के करीब नदियों की धारा बही तो हर कोई उसमें भीग कर आनंदित और संकल्पित हो ...
19