0

पीते हो फिर भी डरते हो 10000 के चालान से, पिलाने वालो ने ढूंढा नायाब तरीका...

गुरुवार,सितम्बर 12, 2019
0
1
भारत एक मूर्ख प्रधान देश है ! मूर्खता को लेकर हमारा इतिहास सदैव ही उज्ज्वल रहा है। हमारे यहां एक से बढ़कर एक मूर्ख पैदा ...
1
2
राजनीतिक होली में लफंगी रंग, हुड़दंगी रंग, चेला-चपाटी रंग, जुमलेबाजी रंग, घोटालेबाजी रंग, देशभक्ति रंग, मन की बात का ...
2
3
चंदा मांगने वालों पर तो इस वर्ष विशेष, शनि-कलेक्टर लगा हुआ है। शनि-कलेक्टर का कहना है कि इतना चंदा मांगा जा चुका है कि ...
3
4
रंगों से भरी पिचकारी हो, हंसी-ठिठोली की फुहारें हो, मस्ती और हुड़दंग में रंगे मुखौटे सारे हों.... होली पर भला और क्या ...
4
4
5
चार दिन की जिंदगी... लेकिन ये गलत कि दो दिन खुशी दो दिन गम... गम है तो जाने का नाम ना ले... खुशी है तो दामन ना छोड़े। आज ...
5
6
विश्व में एक विशेष प्रकार की मनुष्य जाति पाई जाती है उसका नाम है- 'रायचंद'। वैसे तो यह विश्व के सभी देशों में पाए जाते ...
6
7
मैं स्वप्नदर्शी हूं इसलिए मैं रोज सपने देखता हूं। मेरे सपने में रोज-ब-रोज कोई न कोई सुंदर नवयुवती दस्तक देती है। मेरी ...
7
8
हिन्दी पखवाड़े के तहत आज गांव के गांधी मैदान में जननेता गिरोड़ीमल का भाषण होने वाला है। लोग अपने प्रिय नेता को सुनने के ...
8
8
9
ईद के मौके पर बकरे की बात होना तो लाजमी है। लेकिन क्या कभी इस भोले प्राणी की तारीफ भी की है आपने...? क्यों भई, ईद पर ...
9
10
कुछेक 'कमसमझ' लोगों की तरह मैंने भी अपना 'मैरेज' (विवाह) कर अपना 'मरण' तय करवा लिया था। अब आप मेरे मैरेज (या कि मरण) के ...
10
11

बुरा न मानो, होली है...!

गुरुवार,मार्च 1, 2018
होली विभिन्न रंगों का त्योहार है। राजनीतिक होली में लफंगी रंग, हुड़दंगी रंग, चेला-चपाटी रंग, जुमलेबाजी रंग, घोटालेबाजी ...
11
12
होली भारत का प्रमुख त्योहार है, क्योंकि इस दिन पूरे भारत में 'बैंक होली-डे' रहता है अर्थात अवकाश रहता है जिसकी वजह से ...
12
13
बही-खातों में जब छोटे-छोटे घपले टाले जाते हैं, तो वो घोटाले बन जाते हैं। आशावादी भारतीय लोकतंत्र में घोटाला होना एक शुभ ...
13
14
जो सज्जन इसे पढ़ सकते हैं, बहुत संभव है वो इसे समझ नहीं सकेंगे। यद्यपि पढ़ना शिक्षित होना दर्शाता है वरन, समझना समझदारी। ...
14
15
हर कार्यालय की लय, वहां कार्य से फर्जी एनकाउंटर करने वाले कर्मचारियों की कुशलता में लीन रहकर अंततोगत्वा अपने प्रारब्ध ...
15
16
सुबह-सुबह चाय की चुस्की के साथ अखबार पर नजर दौड़ा रहा था कि अचानक नजर ठिठककर ठहर गई। नजर के घोड़ों का दम फूल चुका था और ...
16
17
भाइयों-बहनों, किसी के माथे पर लिखा नहीं होता कि वह बेवकूफ है। मतलब साफ है कि लोग बेवकूफ होते नहीं, उन्हें बेवकूफ बना ...
17
18

व्यंग्य : नेता और अभिनेता

शनिवार,फ़रवरी 10, 2018
रविवार को मैं देर से उठता हूं। उस दिन मॉर्निंग वॉक पर भी नहीं जाता। मेरा हिसाब बहुत ही सीधा है- सप्ताह में 6 दिन वॉक, ...
18
19
उद्‍घाटन कार्यक्रम के पश्चात मंत्रीजी ने टीवी कैमरे की ओर जिस धृष्टता से देखा तभी लग गया था कि फीता तो कट गया अब नाक ...
19