मकर लग्न की विशेषताएँ

मकर लग्न हेतु शुभाशुभ ग्रह

मकर लग्न
NDND
शनि प्रधान लग्न है। गंभीर प्रवृत्ति, आध्‍यात्म की तरफ रुचि व काम के प्रति लगन होती है। शनि अशुभ हो तो ये व्यक्ति गुस्सैल, स्वार्थी व स्वकेंद्रित होते हैं। दूसरों में गलतियाँ ढूँढना इन्हें प्रिय होता है। जीवनसाथी से अत्यधिक अपेक्षाएँ रखते हैं अत: वैवाहिक जीवन अति सामान्य ही रहता है। भाग्योदय प्राय: देर से ही होता है।

शुभ ग्रह : पंचमेश व दशमेश होकर, शनि लग्नेश व द्वितीयेश होकर तथा बुध नवमेश होकर कारक होते हैं। इनकी दशा-महादशा फलकारक होती है, जब ये ग्रह अच्छी स्थिति में हों।

अशुभ ग्रह : बृहस्पति, मंगल व चंद्रमा इस लग्न के लिए अशुभ सिद्ध होते हैं। इनकी दशा-महादशा कष्टकारी सिद्ध होती है।

तटस्थ ग्रह : मकर लग्न के लिए तटस्थ ग्रह हो जाता है।

शुभ अंक : 5, 7

शुभ रंग : आसमानी, हरा, स्लेटी

वार : शुक्रवार, शनिवार

इष्ट : शिवजी

गुरुवार को नया काम न करें।

भारती पंडित|
हमें फॉलो करें
इस लग्न के व्यक्तियों को धनु, मीन, कर्क, मिथुन राशियों से लग्न से विवाह करने से बचना चाहिए।



और भी पढ़ें :