Virat Kohli के रिकॉर्ड दोहरे शतक से भारत दूसरे टेस्ट में बेहद मजबूत स्थिति में

Last Updated: शुक्रवार, 11 अक्टूबर 2019 (18:38 IST)
पुणे। कप्तान विराट कोहली (नाबाद 254) के रिकॉर्डतोड़ दोहरे शतक और उनके करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी की बदौलत भारत दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन शुक्रवार को अपने पहली पारी पांच विकेट पर 601 रन का विशाल स्कोर बना कर घोषित करके अपनी स्थिति बेहद मजबूत कर ली। दिन खेल खत्म होने तक द. अफ्रीका ने 36 रन पर 3 विकेट गंवा दिए।
भारत ने विशाखापत्तनम में अपनी पहली पारी 7 विकेट पर 502 रन पर घोषित की थी और यहां उसने अपनी पहली पारी 5 विकेट पर 601 रन पर घोषित की। भारतीय कप्तान ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाते हुए 336 गेंदों पर 33 चौकों और 2 छक्कों की मदद से नाबाद 254 रन की पारी खेली। यह विराट के करियर का सातवां दोहरा शतक था और इसके साथ ही उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 7000 रन भी पूरे कर लिए।

विराट अब सर्वाधिक दोहरे टेस्ट शतक बनाने के मामले में लीजेंड सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग को पीछे छोड़ कर सबसे आगे निकल गए है और दुनिया में सर्वाधिक दोहरे शतक बनाने के मामले में संयुक्त रूप से चौथे नंबर पर पहुंच गए हैं।
भारत ने सुबह कल के तीन विकेट पर 273 रन से आगे खेलना शुरू किया। भारत ने अपनी पारी घोषित करने तक अपने स्कोर में 328 रनों का इजाफा किया। विराट ने 63 और अजिंक्या रहाणे ने 18 रन से आगे खेलना शुरू किया। विराट और रहाणे ने तीसरे विकेट के लिए 178 रन की साझेदारी की। रहाणे ने 168 गेंदों पर 59 रन में आठ चौके लगाए।

विराट ने फिर रवींद्र जडेजा के साथ पांचवें विकेट की साझेदारी में 225 रन जोड़े। जडेजा मात्र 9 रन से अपना दूसरा टेस्ट शतक बनाने से चूक गए। जडेजा ने 104 गेंदों पर 8 चौकों और दो छक्कों की मदद से 91 रन की शानदार पारी खेली। विराट ने जडेजा के आउट होते ही भारतीय पारी घोषित कर दी।
भारतीय कप्तान ने इस बात का इंतज़ार नहीं किया कि उनके पास तिहरा शतक पूरा करने का शानदार मौका हैं। उन्होंने टीम हित को देखते हुए भारतीय पारी घोषित कर दी और दिन के खेल की समाप्ति से पहले तक दक्षिण अफ्रीका के तीन विकेट झटक लिए।
विराट 254 रन बना कर नाबाद पैवेलियन लौटे। यह उनके करियर का सर्वश्रेष्ठ स्कोर था इसके साथ ही उन्होंने 81 टेस्टों में 7000 रन भी पूरे कर लिए। विराट ने अपने 50 रन 91 गेंदों में, 100 रन 173 गेंदों में, 150 रन 241 गेंदों में, 200 रन 295 गेंदों में और 250 रन 334 गेंदों में पूरे किए।

भारत के 100 रन 33.4 ओवर में, 200 रन 64.4 ओवर में, 300 रन 96.1 ओवर में, 400 रन 124.3 तीन ओवर में, 500 रन 146 ओवर और 600 रन 156 ओवर में पूरे किए। दूसरे दिन भारत ने लंच तक 3 विकेट पर 356 रन और चायकाल तक 4 विकेट पर 473 रन बनाए।

चायकाल के बाद विराट और जडेजा ने काफी तेज गति के साथ बल्लेबाजी की और 15. 3 ओवर में ही 128 रन ठोंक डाले विराट ने दूसरे दिन के खेल में 191 रन जोड़ कर अपना सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाया और कई रिकॉर्ड ध्वस्त किए।

उन्होंने कप्तान के तौर पर सर्वश्रेष्ठ टेस्ट स्कोर का अपना ही रिकॉर्ड तोड़ा। यह उनका 26वां टेस्ट शतक था और अब उनके कुल 69 अंतराष्ट्रीय शतक हो गए हैं। उन्होंने अपनी सातवें दोहरे शतक से सचिन और सहवाग के छह दोहरे शतकों के पिछले भारतीय रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया हैं।

वह टेस्ट क्रिकेट में 7000 रन पूरे करने वाले भारत के सातवें और दुनिया के 47वें बल्लेबाज बन गए हैं। उन्होंने अपनी पारी का 200वां रन बनाने के साथ ही 7000 टेस्ट रन भी पूरे कर लिए।
दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों को लगातार दूसरे दिन मैदान पर संघर्ष करना पड़ा। रहाणे को लेफ्ट आर्म स्पिनर केशव महाराज ने लंच के बाद आउट किया। भारत का चौथा विकेट 376 के स्कोर पर गिरा। जडेजा को सेनुरान मुत्थुसामी ने शतक से वंचित किया। जडेजा का विकेट 601 के विकेट पर गिरा और इसके साथ ही विराट ने भारतीय पारी घोषित कर दी।

दक्षिण अफ्रीका की तरफ से कैगिसो रबाडा 93 रन पर 3 विकेट लेकर सबसे सफल रहे। केशव महाराज ने 50 ओवर की मेराथन गेंदबाजी में 196 रन देकर 1 विकेट और मुत्थुसामी ने 97 रन पर 1 विकेट लिया।
भारत के विशाल स्कोर के जवाब में दक्षिण अफ्रीका ने खराब शुरुआत की। हनुमा विहारी की जगह टीम में शामिल किए गए तेज गेंदबाज ने उमेश यादव ने अपने चयन को सही साबित करते हुए दूसरे ही ओवर में एडन मारक्रम को पगबाधा कर दिया। मारक्रम का खाता भी नहीं खुला। यादव ने फिर अपने दूसरे ओवर में पहले टेस्ट के शतकधारी डीन एल्गर को बोल्ड कर दिया। एल्गर छह रन ही बना सके।

पहले टेस्ट की दूसरी पारी में पांच विकेट लेने मोहम्मद शमी ने तेंबा बावुमा को विकेटकीपर रिद्धिमान सहा के हाथों कैच करा दिया। एल्गर ने छह और बावुमा ने आठ रन बनाए। स्टंप्स के समय थ्यूनिस डी ब्रून 20 और एनरिक नोर्त्जे 2 रन बनाकर क्रीज पर थे। दक्षिण अफ्रीका अभी भी भारत के स्कोर से 565 रन पीछे है।

 

और भी पढ़ें :