फकर के रनआउट विवाद पर शोएब ने याद दिलाया नियम, कहा 5 रन मिलने चाहिए थे (वीडियो)

Last Updated: मंगलवार, 6 अप्रैल 2021 (11:12 IST)
लंदन:के के दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में विवादास्पद रन आउट के बाद खेल भावना को लेकर बहस छिड़ गयी है।
पाकिस्तान के कई पूर्व क्रिकेटरों ने फखर के रन आउट के लिये को दोषी ठहराया। पूर्व कप्तान वकार यूनिस और तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने दक्षिण अफ्रीकी विकेटकीपर बल्लेबाज की हरकत पर सवाल उठाये।

अपनी बेबाक राय रखने के लिए मशहूर रावलपिंडी एक्सप्रेस शोएब अख्तर ने कहा कि फकर जमान ने बढ़ाई पारी खेली लेकिन उनको दुख है कि उनके 200 रन पूरे नहीं हो पाए।

इसके आगे अख्तर ने कहा कि वह यह नहीं कहेंगे कि क्विंटन डि कॉक ने उनको चीटिंग करके आउट किया है लेकिन जो भी किया वह खेल भावना के विपरीत था। आगे उन्होंने आईसीसी के एक नियम का हवाला दिया।

शोएब ने कहा कि आईसीसी के नियम 41.5.1 के अनुसार अगर फील्डर या विकेटकीपर ध्यान भंग करके सामने वाले बल्लेबाज को आउट करता है तो बल्लेबाजी करने वाली टीम को पेनल्टी में 5 रन दिए जाते हैं। एक गेंद खेलने के लिए और मिलती है। इसके अलावा जो रन उस गेंद पर लिया है वह भी टीम के खाते में जुड़ता है।
पाक के पूर्व कप्तान और तेज गेंदबाज वकार युनुस ने भी ट्विटर पर एक फोटो डालकर इस वाक्ये की आलोचना की थी। उन्हें फकर के रनाआउट के बाद डिकॉक का हंसना पसंद नहीं आया।
जबकि खेल के नियमों के संरक्षक मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) ने कहा कि यह तय करना अंपयारों का काम है कि क्या वास्तव में क्विंटन डिकॉक ने बल्लेबाज को गुमराह करने की कोशिश की।

पाकिस्तान टीम के सामने 342 रन का लक्ष्य था औरे ऐसे में फखर ने 193 रन की बेहतरीन पारी खेली। यह बल्लेबाज हालांकि विवादास्पद तरीके से रन आउट हुआ जिसकी वजह दक्षिण अफ्रीकी विकेटकीपर डिकॉक बने। पाकिस्तान आखिर में यह मैच हार गया था।
फखर जब दूसरा रन लेने के लिये वापस क्रीज पर लौट रहे थे तो डिकॉक ने गेंदबाज लुंगी एनगीडी की तरफ इशारा किया जबकि एडेन मार्कराम ने विकेटकीपर की तरफ गेंद फेंककर सीधे थ्रो पर रन आउट किया था। फखर दूसरा रन लेते समय आखिरी क्षणों में थोड़ा धीमे हो गये थे और सही समय पर क्रीज पर नहीं पहुंच पाये थे।

रीप्ले से लग रहा था कि डिकॉक जैसे फखर को यह अहसास दिला रहे थे कि गेंद को नॉन स्ट्राइकर छोर पर फेंका गया है।
एमसीसी ने ट्वीट किया, ‘‘नियम 41.5.1 में कहा गया है, ‘‘स्ट्राइकर के गेंद प्राप्त करने के बाद किसी क्षेत्ररक्षक द्वारा जानबूझकर शब्द या कृत्य से किसी बल्लेबाज का ध्यान भंग करना या उसके साथ छल करना अनुचित होगा।’’
एमसीसी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘बल्लेबाज के साथ छल करने को लेकर नियम स्पष्ट है। यह फैसला अंपायर करेगा कि क्या इस तरह का प्रयास किया गया। यदि हां, तो फिर यह नॉट आउट होगा, बल्लेबाजी कर रही टीम को पांच पेनल्टी रन दिये जाएंगे और इसमें वे दो रन भी जुड़ेंगे जो उन्होंने दौड़कर बनाये थे। बल्लेबाज यह तय करेंगे कि अगली गेंद किसको खेलनी है। ’’

डिकॉक के इशारे के बाद यह चर्चा शुरू हो गयी कि क्या उन्होंने जानबूझकर फखर को धोखे में रखने का प्रयास किया जिससे बल्लेबाज को लगे कि थ्रो दूसरे छोर पर जा रहा है। इससे बल्लेबाज दूसरा रन लेते समय धीमा पड़ गया।
पाकिस्तान के कई पूर्व क्रिकेटरों ने फखर के रन आउट के लिये डिकॉक को दोषी ठहराया। पूर्व कप्तान वकार यूनिस और तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने दक्षिण अफ्रीकी विकेटकीपर बल्लेबाज की हरकत पर सवाल उठाये।



और भी पढ़ें :