अफरीदी के बिगड़े बोल कहा, 'भारत हमारे पीछे पड़ा है तो अन्य शिक्षित देश क्यों करते हैं यह गलती'

पुनः संशोधित मंगलवार, 28 सितम्बर 2021 (12:28 IST)
हमें फॉलो करें
जब ने कुछ घंटे पहले का दौरा रद्द किया था तो पूर्व पाकिस्तान कप्तान और शाहिद अफरीदी ने ट्वीट कर अपना गुस्सा जाहिर किया था। उन्होंने कहा था कि सिर्फ एक अफवाह के चलते आपने पूरी सीरीज रद्द कर दी। न्यूजीलैंड क्रिकेट क्या आपको अंदाजा है इसका हम पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

गौरतलब है कि सुरक्षा कारणों के चलते न्यूजीलैंड ने यह सीरीज कुछ घंटे पहले ही रद्द कर दी थी। सीमित ओवरों की श्रृंखला का पहला वनडे रावलपिंडी स्टेडियम में शुक्रवार को समय पर शुरू नहीं हुआ और दोनों टीमें होटल के अपने कमरों में ही रही।इसके बाद न्यूजीलैंड क्रिकेट के मुख्य कार्यकारी डेविड वाइट ने बयान जारी करके कहा कि उन्हें जो सलाह मिल रही थी उसे देखते हुए दौरा जारी रखना संभव नहीं है।

इसके थोड़े दिनों बाद क्रिकेट बोर्ड ने भी थकान का हवाला देकर पाकिस्तान का दौरा रद्द कर दिया था। ईसीबी ने खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ के शारीरिक और मानसिक हित को प्राथमिकता का हवाला देते हुए दौरे को रद्द करने की बात कही थीजो दौरों पर कोरोना और बायो-बबल (जैव सुरक्षित वातावरण) से बहुत तनाव में हैं।

इन निर्णय से भी लगभग सभी पूर्व पाक क्रिकेटर नाराज दिखे थे। हालांकि अफरीदी न्यूजीलैंड दौरा रद्द करने का ठीकरा भारत पर फोड़ना चाहते हैं। उन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की उस रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि जिसमें सुरक्षा संबंधित मेल भारत से आए थे। इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए शाहिद अफरीदी ने कहा है कि भारत हमारे पीछे पड़ा रहे लेकिन दूसरे शिक्षित देश उसका अनुसरण क्यों कर रहे हैं।

शाहिद अफरीदी ने अपने बयान में कहा कि अगर आपको बड़ी तस्वीर देखनी है तो दुनिया को यह बताना पड़ेगा कि हम भी एक देश हैं। अगर भारत हमारे पीछे पड़ा हुआ है तो दूसरे शिक्षित देश यह गलती क्यों कर रहे हैं।

मुश्किल हालात में किया था पाकिस्तान दौरा

शाहिद अफरीदी ने कहा कि मुश्किल हालातों में भी पाकिस्तान ने भारत का दौरा किया था। उन्होंने कहा बोर्ड ने उन्हें हिदायत दी थी कि वह भारत ना जाएं । उनको धमकियां तक मिल रही थी लेकिन फिर भी पाकिस्तान टीम ने भारत का दौरा किया। संभवत अफरीदी साल 2005 की बात कर रहे थे जब पाकिस्तान ने भारत का दौरा किया। इस सीरीज में शाहिद अफरीदी ने अपनी तूफानी बल्लेबाजी के दम पर पाकिस्तान को 4-2 से सीरीज जितवाई थी।

पहले भी अफरीदी की जबान पर नहीं लगी लगाम

शाहिद अफरीदी और विवादों का बहुत पुराना नाता है। खासकर भारत के खिलाफ वह बेतुके बयान देने के लिए जाने जाते हैं। साल 2011 में विश्वकप हारने के बाद शाहिद अफरीदी ने कहा था कि हिंदुस्तानियों के दिल बड़े नहीं होते। पिछले साल अफरीदी ने एक वीडियो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर धार्मिक भेदभाव करने के आरोप लगाए थे।

गंभीर और शाहिद की रहती है तनातनी

क्रिकेट के मैदान पर हो या फिर मैदान के बाहर शाहिद अफरीदी और गौतम गंभीर की तनातनी काफी रहती है। भारत में खेले जा रहे एक मैच के दौरान वह टकरा गए थे और बीच मैदान पर बहस करने लग गए थे। यह मामला मीडिया में काफी उछला था।

इसके बाद गौतम गंभीर और शाहिद अफरीदी की नोक झोंक मैदान के बाहर भी कई बार हुई है।अफरीदी ने

एक किताब में गंभीर के व्यवहार और रिकॉर्ड पर सवाल उठाते हुए कहा था कि उसके साथ ‘एटीट्यूड’ की समस्या है। किताब के इस अंश का मीडिया में जिक्र होने के बाद गंभीर ने ट्विटर के जरिए अफरीदी को जवाब दिया था।

गंभीर ने कहा था कि जिसे अपनी उम्र याद नहीं, वह मेरे रिकॉर्ड को कैसे याद रखेगा। अफरीदी मैं आपको एक रिकॉर्ड याद दिलाता हूं। 2007 में टी20 विश्व कप का फाइनल, मुकाबला भारत बनाम पाकिस्तान था। गंभीर ने 54 गेंद में 75 रन बनाए थे जबकि अफरीदी ने एक गेंद में शून्य रन। (वेबदुनिया डेस्क)



और भी पढ़ें :